एनइएफटी NEFT , आरटीजीएस RTGS , आईएमपीएस IMPS में क्या अंतर है ?

एनइएफटी NEFT , आरटीजीएस RTGS , आईएमपीएस IMPS ये नाम आपने जरूर सुने होंगे। ये सभी इंटरनेट के माध्यम से पैसों के लेन

देन के तरीके हैं।ऑनलाइन बैंकिंग की यह सुविधा बैंकों द्वारा दी जाती है। इससे राशि का हस्तांतरण यानि पैसे  ट्रांसफर करना बहुत आसान

हो गया है। किसी को पैसे भिजवाने हों या मंगवाने हों , कॉलेज की फीस भरनी हो , इंश्योरेंस की किश्त भरनी हो , म्युचुअल फंड की एसआईपी

लेनी हो तो ये सभी घर बैठे सारे काम आसानी से किये जा सकते है। यह सब मिनटों में हो जाता है।

 

ओन लाइन पैसे ट्रांसफर करने के लिए NEFT , RTGS और IMPS में से किसे चुनना चाहिए या इनमें क्या फर्क है इसका बहुत लोगों को

संशय रहता है। यहाँ इनके बारे में जानकारी दी गई है ताकि संशय दूर हो और उचित माध्यम का उपयोग किया जा सके।

 

इनका उपयोग करने पर मामूली चार्ज लगता है तथा इनमे अधिकतम या न्यूनतम राशि की कुछ बाध्यता होती है। प्रत्येक बैंक द्वारा इनके

उपयोग में अधिकतम सीमा और चार्जेज़ निर्धारित किये जाते हैं। जो हर बैंक में कुछ अलग हो सकते हैं। इनकी सूचना बैंक की वेब साईट पर

मिल जाती है। आइये जाने इनके बारे में कुछ विस्तार से –

 

एन इ एफ टी – NEFT

 

NEFT का मतलब है – नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर। यह देशभर में एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने का

तरीका है। एक व्यक्ति , फर्म या कॉर्पोरेट द्वारा अपने बैंक खाते से किसी दूसरे व्यक्ति , फर्म या कॉर्पोरेट के किसी भी ब्रांच के खाते में NEFT

द्वारा पैसे ट्रांसफर किये जा सकते हैं। पैसे देने वाले और लेने वाले दोनों की बैंक ब्राँच में NEFT सुविधा होनी चाहिए। इस सुविधा से युक्त बैंक

ब्रांच की लिस्ट RBI की वेब साईट पर देखी जा सकती है।

 

सुबह 8 बजे से रात 7  बजे तक हर आधे घंटे में  23 बार बैच बनाकर पैसे ट्रांसफर किये जाते हैं। बैंक की छुट्टी वाले दिन पैसे ट्रांसफर नहीं

किये जाते। पैसे प्राप्त करने वाले पर कोई चार्ज नहीं लगता , देने वाले पर मामूली चार्ज लगता  है। कुछ बैंक के समय में मामूली परिवर्तन हो

सकता है।

 

NEFT द्वारा राशि ट्रांसफर करने पर चार्ज

 

NEFT द्वारा फंड ट्रांसफर करने पर मामूली चार्ज लगता है जो इस प्रकार है –

दस हजार तक                           2.5 /- रूपये

दस हजार स एक लाख तक          5 /- रूपये

एक से दो लाख तक                   15 /-  रूपये

2 लाख से अधिक पर                 25 /-  रूपये

 

इस विधि से पैसे ट्रांसफर करने की कोई न्यूनतम सीमा नहीं है। कुछ बैंकों की इसमें अधिकतम सीमा हो सकती है।

 

NEFT द्वारा पैसे भेजने का तरीका

 

—  इसके लिए बैंक ब्रांच जाकर अपने खाते में नेट बैंकिंग की सुविधा शुरू करवाने की एप्लीकेशन देनी चाहिए।

—  बैंक से आपको लोग इन आई डी और पास वर्ड मिलता है। इससे बैंक की वेबसाईट पर आप अपना खाता देख और खोल सकते हैं  .

—  अपना अकाउंट वेब साईट पर खोलने के बाद  जिसे पैसा भेजना चाहते हैं उसे बेनिफिशरी की तरह एड करना होता है।

—  पैसे प्राप्त करने वाले का नाम , उसका बैंक अकॉउंट नंबर , 11 अंकों का आईएफएस कोड आदि जानकारी भरकर उसे बेनिफिशरी की

तरह जोड़ लें ।

—  यह डिटेल भरने के बाद कितनी राशि देना चाहते है और किस सन्दर्भ में देना चाहते है आदि भरकर सबमिट करने पर आपको मोबाईल

पर एक बार काम आने वाला पासवर्ड OTP मिलता है।

—  OTP  भरकर सबमिट करने पर प्रक्रिया पूरी हो जाती है और कुछ ही समय बाद अगले बैच में आपके निर्देश के अनुसार पैसे ट्रांसफर

हो जाते हैं।

 

बैंक की ब्रांच का IFSC नंबर प्राप्त करने का तरीका

 

—  यह बैंक की ब्रांच में जाकर पता किया जा सकता है।

—  IFS कोड चेक बुक के प्रत्येक पन्ने पर भी लिखा होता है।

—  यह नंबर RBI की वेबसाइट पर भी उपलब्ध होता है। RBI की यह लिस्ट देखने के लिए यहाँ क्लिक करें .

—  जिसे पैसा भेजना चाहते हैं उससे भी यह डिटेल कन्फर्म कर लेनी चाहिए।

 

आप एक से अधिक बेनिफिशरी भी जोड़ सकते हैं। यह पूरी तरह सुरक्षित प्रक्रिया होती है।

 

आर टी जी एस – RTGS

 

RTGS  का मतलब है रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट  – यहाँ रियल टाइम का अर्थ है जब भी निर्देश मिलें ,उसी समय कार्य हो जाना ।

यह बड़ी राशि के ट्रांसफर के लिए होता है। न्यूनतम राशि 2 लाख रूपये होती है। अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं होती है। पाने वाले के

खाते में राशि बैंक को आधा घंटे के अंदर जमा करनी होती है। यह काम सुबह 9 बजे से शाम 4 : 30 बजे तक होता है। बैंक की छुट्टी वाले दिन

पैसे ट्रांसफर नहीं किये जाते।

 

राशि लेने वाले और देने वाले की बैंक ब्रांच में यह सुविधा होनी चाहिए। यह सुविधा देने वाले बैंक ब्रांच की लिस्ट RBI की वेबसाइट पर उपलब्ध

है। राशि प्राप्त करने वाले को कोई चार्ज नहीं देना पड़ता। भेजने वाले को चार्ज देना पड़ता है।

इसकी प्रक्रिया भी NEFT की तरह ही होती है जैसा ऊपर बताया गया है।

 

RTGS के माध्यम से पैसा भेजने  में NEFT की अपेक्षा अधिक चार्ज लगता है। यह चार्ज सामान्य तौर पर 2 लाख से  5 लाख तक के लिए

30/- रूपये प्रति ट्रांजेक्शन तथा इससे अधिक के लिए 55/-  रूपये प्रति ट्रांजेक्शन लगते हैं। किसी किसी बैंक के चार्ज में भिन्नता हो सकती है।

 

RTGS और  NEFT  में क्या अंतर है

 

—  NEFT ट्रांसफर DNS बेसिस पर फंड ट्रांसफर करता है। इसमें एक विशेष अंतराल पर जब एक से ज्यादा ट्रांसफर इकट्ठे होते है तो पूरा

बैच एक साथ ट्रांसफर किया जाता है। जबकि RTGS के ट्रांसफर एक बार में एक ही होता है।

—  RTGS बड़ी राशि के ट्रांसफर के लिए होता है।  NEFT में छोटी राशि भी ट्रांसफर की जा सकती है।

—  NEFT  द्वारा ट्रांसफर का समय सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक होता है। RTGS का समय सुबह 9 बजे से शाम 4 :30 तक होता है।

—  RTGS द्वारा राशि ट्रांसफर का चार्ज NEFT  की अपेक्षा कुछ अधिक होता है।

 

आईएमपीएस – IMPS

 

IMPS  का अर्थ है इमिडिएट मनी पेमेंट सर्विस। यह सुविधा नेशनल पेमेंट कारपोरेशन ऑफ़ इंडिया NCPI के माध्यम से  उपलब्ध  कराई

जाती है। IMPS द्वारा 24 घंटे 365 दिन कभी भी पैसे ट्रांसफर किये जा सकते हैं। NEFT या RTGS की तरह इसमें समय का या छुट्टी वाले

दिन का बंधन नहीं होता।  इससे यूजर को बैंक तथा  RBI द्वारा अधिकृत PPI द्वारा तुरंत पैसा ट्रांसफर करने की सुविधा मिलती है।

इस सुविधा के तहत मोबाइल से भी राशि का लेन देन हो सकता है। मोबाईल द्वारा पैसे भेजने के लिए जिसे पैसे भेजना चाहते हैं उसका नाम ,

मोबाईल नम्बर तथा  MMID कोड नम्बर जरुरी होता है।

 

MMID कोड 7 अक्षर वाला कोड नम्बर होता है जो बैंक द्वारा मोबाइल रजिस्टर्ड कस्टमर को IMPS  सुविधा का उपयोग करने के लिए दिया

जाता है। प्रत्येक खाते का अलग MMID कोड नम्बर होता है।

 

इस सुविधा में  किसी व्यक्ति द्वारा अन्य व्यक्ति ,  खाते या व्यापारी को मोबाईल से , इंटरनेट से और ATM से राशि भेजी जा सकती है। इसके

उपयोग से यूटिलिटी बिल यानि पानी और बिजली के बिल , मोबाईल और DTH रिचार्ज , किराने का बिल , यात्रा के टिकट , ओन  लाइन

शॉपिंग के ट्रांजेक्शन किये जा सकते हैं।अधिकतम  2 लाख रूपये तक इस माध्यम से पैसे ट्रांसफर किये जा सकते हैं।

 

IMPS  द्वारा पैसा ट्रांसफर करने के लिए ली जाने वाली फीस हर बैंक की अलग होती है। इसके चार्जेस बैंक तय करते हैं। सामान्य तौर पर एक

लाख तक  5 /-  रूपये और 1 -2 लाख तक  15 /-  रूपये लगते हैं।

 

इंटरनेट बैंकिंग में IMPS द्वारा पैसे ट्रांसफर करने के लिए भी बेनिफिशरी जोड़ना होता है। उसका बैंक अकाउंट नंबर , IFS कोड आदि देने

होते हैं। मोबाईल से इसका उपयोग करने के लिए MMID कोड देना पड़ता है। मोबाइल से इसके उपयोग में बेनिफिशरी एड नहीं करना

पड़ता।

 

Disclaimer : फंड ट्रांसफर से सम्बंधित प्रत्येक बैंक के नियम और चार्जेज़ अलग हो सकते हैं। यहाँ दी गई सूचना या दरें उदाहरण के तौर

पर लें। किसी भी तरह की राशि के हस्तांतरण से पहले कृपया अपने बैंक से पूरी जानकारी हासिल कर लें।

 

क्लिक करके इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

 

हेल्थ इंश्योरेंस कराने से पहले यह जरूर जान लें 

होम लोन लेते समय क्या ध्यान रखें 

म्युचुअल फंड क्या और कौनसे होते है समझें सरल भाषा में 

शेयर बाजार में निवेश करना चाहिए या नहीं 

एस आई पी SIP क्या होती है और कैसे शुरू करते हैं 

पोस्ट ऑफिस में पैसे जमा करने के तरीके 

बिजली का बिल कम कैसे करें 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *