खटमल से बचने के घरेलु उपाय – Bed Bugs home remedies

खटमल एक छोटा सा जीव है जो खून पीकर जिन्दा रहता है। यही इसका भोजन या खुराक है। इसे इंसानो का खून पसंद होता है लेकिन ये

जानवर या पक्षी के खून से भी काम चला लेता है। इसका साइज  5 -7 mm होता है यानि लगभग सेब के बीज जितना । यह ओवल शेप का

चपटा भूरे या लाल से रंग का जीव होता है। यह उड़ नहीं सकता , चलकर ही अपने शिकार तक पहुँचता है। जहाँ रक्त की खुराक मिलती

रहती है उस जगह के आसपास ही खटमल पाए जाते हैं।

 

वैसे तो ये रात के समय सक्रीय होते हैं लेकिन यदि भूखे हों तो दिन में भी काट सकते हैं। खटमल 5 से 10 दिन में एक बार खून पीते हैं। इस

काम में इन्हे  4  से  12  मिनट का समय लगता हैं। अपने छुपने की जगह से शिकार तक पहुँचने के लिए ये 20 फुट दूर तक जा सकते हैं।

इनके मुंह में चोंच जैसी दो ट्यूब होती है। एक ट्यूब से लार छोड़ते हैं। लार में एनिस्थिसिया जैसा गुण होता है जिससे वह जगह सुन्न हो जाती है।

और ये आराम से दूसरी ट्यूब से खून पी लेते हैं। इसके बाद ये 5 -10 दिन के लिए अपने छुपने की जगह चले जाते है। वहां जाकर खाना पचाते

है और अपना परिवार बढ़ाते है।

 

भोजन किये बिना भी ये महीनों तक जीवित रह सकते हैं। ये इतने पतले और छोटे होते है कि इन्हे छुपने के लिए जगह आसानी से मिल जाती

है। इनसे इंसानो को किसी प्रकार की बीमारी होना या फैलना नहीं पाया गया है।

 

खटमल 7°C से 45°C तक तापमान सहन कर सकते हैं। जिन परिस्थितियों में उन्हें खुराक देने वाले रह सकते है वहाँ ये भी रह सकते हैं।

ये किसी भी सामान के साथ एक जगह से दूसरी जगह पहुँच कर अपना नया घर बना लेते हैं।

 

मादा खटमल एक दिन में 1 से 3 अंडे दे सकती है। अपने पूरे जीवन में वह 200 से 500 अंडे दे सकती है। खटमल के अंडे मोतिया सफ़ेद रंग

के होते है। इन अंडों का साइज़ लगभग  1 .5  mm जितना होता है और ये चावल जैसे  दिखाई देते हैं। अंडे से निकले बच्चे कुछ समय तक

पारदर्शी मटमैले सफ़ेद रंग के होते हैं।  अपने इस रंग के कारण मुश्किल से दिखाई देते हैं। खून पीकर ये बड़े होते जाते हैं। 21 दिन में ये पूर्ण

रूप से वयस्क हो जाते हैं। उससे पहले चार पांच बार ये त्वचा यानि केंचुली उतारते हैं।

 

खटमल के काटने पर क्या होता है – Bed Bug Bite

 

खटमल के काटने का अलग लोगों पर अलग तरह का असर हो सकता है। अधिकतर लोगों को खटमल के काटने का ना तो पता चलता है

और ना किसी प्रकार का निशान बनता है। कुछ लोगों के शरीर पर मच्छर काटने जैसा छोटा लाल निशान बन जाता है।

किसी के बड़ा लाल निशान बन जाता । कई लोग ऐसे निशान को पिस्सू  या मच्छर के काटे का निशान समझ लेते हैं। बहुत कम लोगों को इससे

एलर्जी भी हो सकती है। यदि एलर्जी होती हो तो काटे गए स्थान को साबुन और पानी से धो लेना चाहिए। काटे गये स्थान को खुजलाना नहीं

चाहिए अन्यथा इन्फेक्शन हो सकता है सूजन आ सकती है पीला या सफ़ेद द्रव का रिसाव हो सकता है। इलाज के लिए चिकित्सक से संपर्क

कर लेना चाहिए।

 

खटमल होने का पता कैसे चलता है

 

काटने के निशान खटमल के ही हो यह जरुरी नहीं है , ऐसा निशान किसी दूसरे मच्छर या कीड़े के काटने से भी बन सकता है। यानि शरीर पर

निशान से Khatmal के मौजूद होने का अंदाजा लगाना मुश्किल होता है।

कुछ विशेष बातों से खटमल होने का संकेत मिलता है जो इस प्रकार हैं –

 

—  बिस्तर या चादर पर पर लाल रंग धब्बे नजर आते हैं जो की खटमल के कुचले जाने के कारण बन जाते हैं। इसका मतलब Bed bugs हैं।

—  गहरे रंग का छोटा धब्बा जो खटमल का मल होता है और दबाने पर रंग छोड़ता है। यह इनकी उपस्थिति दर्शाता है।

—  खटमल के मटमैले सफ़ेद रंग के चावल जैसे अंडे दिखाई दें या अंडे के खोल दिखाई दे तो समझ लेना चाहिए की Khatmal मौजूद हैं।

—  जिन्दा Khatmal  घूमते दिखाई दें तो प्रत्यक्ष प्रमाण मिल ही जाता है।

 

खटमल से बचने के उपाय –

 

खटमल एक घर से दूसरे घर किसी भी सामान के साथ आ सकते हैं। सभी तरह के घर , फ्लेट , स्कूल , होटल , अस्पताल आदि जगह पर ये हो

सकते हैं।  आप किसी होटल में रुके हों  , किसी रिश्तेदार के यहाँ गये हों , हॉस्पिटल गये हों और वहां खटमल हों तो आपके बैग या कपड़ों के

साथ ये आपके घर आसानी से आ सकते है और यहाँ अपना अड्डा जमा सकते हैं।

बहुत साफ दिखाई देने वाले 5 स्टार होटल में भी छिपे हो सकते हैं। इन्हे सिर्फ दो चीज चाहिए खून और छुपने के लिए जगह । पुराना फर्नीचर

या अन्य कोई सामान ख़रीदा हो तो उसके साथ भी ये आ सकते हैं। अतः ऐसे समय सावधान रहने की जरुरत होती है।

फिर भी आपके यहाँ ये अवांछित जीव बस गये हो तो निम्न उपाय करने से राहत मिल सकती है।

 

—   घर के सभी छोटे छिद्र pop से बंद कर देने चाहिए। इन्हे छुपने की जगह नहीं मिलनी चाहिए।

—  अपने बेड के पाये Legs पर टेलकम पाउडर , तेल या डबल साइड टेप लगा दें। ताकि ये फर्श पर से बेड पर नहीं चढ़ पायें।

—   घर में पक्षी या चूहे का आना बंद करना चाहिए खटमल इनसे भी भोजन का प्रबंध करते हैं।

—   मेट्रेस आदि को धूप लगाने से या गर्म हवा लगाने से खटमल उनमे होंगे तो ख़तम हो जायेंगे।

—  यदि कोई सेकेंड हैंड सामान खरीद रहे हों तो चेक कर लेना चाहिए उसमे Khatmal तो नहीं।

—  घर से फालतू सामान हटाने से Khatmal के छुपने की जगह कम होती है।

—  वैक्यूम क्लीनर से नियमित सफाई करने से कुछ राहत जरुर मिलती है।

 

खटमल मिटाने के घरेलु उपाय – Bed bugs home remedies

 

बेकिंग  सोडा

बेकिंग सोडा खटमल को सूखा कर मार देता है। खटमल छुपे होने की सम्भावना वाली जगह के आस पास बेकिंग सोडा छिड़क दें। इसे एक

सप्ताह तक रहने दें। इसके बाद हटा दें और अच्छे से सफाई कर दें। यह प्रक्रिया 3 -4 सप्ताह दोहराएं। इससे Khatmal के आतंक से मुक्ति

मिलती है।

 

टी ट्री ऑइल

यह एंटी बायोटिक , एंटीफंगल , एंटीसेप्टिक ,और एंटी वायरल गुण से युक्त होता है। यह खटमल सहित बहुत से कीड़े मकोड़े को मारने में भी

कारगर होता है। इसके यह गुण खटमल को फैलने से रोक सकते हैं। इसे गुनगुने पानी में मिलाकर पूरे घर में स्प्रे करें। Khatmal के छुपने

लायक जगह पर अच्छे से स्प्रे करें। इसे सप्ताह में दो बार कुछ समय नियमित करने से इनसे छुटकारा मिल सकता है।

 

नीम

नीम की पत्तियां खटमल के छुपने  की जगह के आस पास रखें। इसकी गंध से खटमल मर जाते हैं। नीम की पत्तियां पानी में उबाल कर इस

पानी को नहाने के पानी में मिला दें। फिर इससे नहायें। Khatmal या अन्य कीट पास नहीं आएंगे।

 

नीलगिरी का तेल

नीलगिरी के तेल की कुछ बूँद पानी में मिलाकर जहाँ खटमल दिखाई देते हों वहां स्प्रे कर दें। कुछ अंतराल से नियमित इसे करने से खटमल से

छुटकारा मिल जायेगा।

 

लौंग का तेल

लौंग का तेल दांतों का दर्द भी मिटाता है और खटमल की परेशानी से भी मुक्ति दिलाता है। गुनगुने पानी में लौंग का तेल मिलाकर स्प्रे करने से

खटमल का आतंक समाप्त होता है ।

 

पिपरमेंट का तेल

यह तेल मच्छर कीट पतंगे आदि को दूर करता है। इसे शरीर के खुले अंगों पर भी लगाया जा सकता है। पानी में मिलाकर इसे स्प्रे करने से

बहुत से कीड़े मकोड़े नष्ट हो सकते हैं। नियमित कुछ समय इस स्प्रे को करने से खटमल समाप्त हो सकते हैं। यह प्रभाव  Malaria

Journal में भी प्रकाशित हो चूका है।

 

पोदीने के पत्तियां

पोदीने की पत्तियां तोड़ मरोड़ कर खटमल वाली जगह फैला दें।  तीन चार दिन बाद साफ कर दें और नई पत्तियां डाल दें। इस तरह कुछ

अंतराल से पत्तियों के प्रयोग से खटमल समाप्त हो सकते हैं।

 

रबिंग अल्कोहोल

यह एक प्राकृतिक कीटनाशक है। हॉस्पिटल में इसका उपयोग बहुत होता है। इंजेक्शन लगाने से पहले इससे स्किन साफ की जाती है ताकि

वहां बैक्टीरिया आदि नष्ट हो जाएँ। यह अल्कोहोल खटमल जैसे कीड़े को भी नष्ट कर सकता है। यह अपने आप उड़ जाता है तथा साधारण

कीटनाशक जितना नुकसान नहीं करता है। इसे मेट्रेस , फर्नीचर आदि जगह पर स्प्रे करने से खटमल ख़त्म हो जाते हैं।

 

डायटोमेशस अर्थ

यह पाउडर कीड़े मकोड़े को सुखाकर मार देता है। इंसान के लिए यह नुकसान दायक नहीं होता है। इसलिए यह एक सुरक्षित तरीका है

खटमल को मिटाने का। यह पाउडर खटमल वाली जगह छिड़कने से वे नष्ट हो जाते हैं।

 

क्लिक करके इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

 

डस्ट माइट से एलर्जी की परेशानी से बचने के उपाय 

मकड़ी के जाले होने से कैसे रोकें

कॉकरोच को रोकने के तरीके 

रद्दी पुराने अख़बार के शानदार उपयोग 

घर में ये औजार जरूर रखें कभी भी काम पड़ सकता है 

बिजली का बिल कम करने के आसान उपाय  

ऊनी कपड़ों की सफाई और देखभाल कैसे करें 

चाय कितनी तरह की और कैसे बनती है 

इस तरह सोयेंगे तो परेशान जरूर होंगे 

व्रत पूजन करने के तरीके और विधियां 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *