गुप्तांग की सफाई का ध्यान कैसे रखें – Cleaning of private part

गुप्तांग की सफाई – Cleaning of private part

 

गुप्तांग की सफाई के लिए साबुन या बॉडी वाश के उपयोग की जरुरत नहीं होती है , सिर्फ बाहरी हिस्से  की ही सफाई की जरूरत होती है।

इसे सादा गुनगुने पानी से रोजाना धोकर साफ करना चाहिए। सिर्फ गुनगुने पानी की सफाई से संतुष्ट ना हों तो सादा , कोमल और बिना तेज

खुशबु वाला साबुन ( No Frills Soap ) काम में लेना चाहिए। इसे काम में लेने के बाद गुनगुने पानी से अच्छे से साफ कर लेना चाहिए साबुन

रह जाने पर जलन हो सकती है। योनी के अंदर की सफाई करने जरुरत नहीं होती है क्योकि इसके सफाई प्राकृतिक रूप से अपने आप होती

रहती है।

 

गुप्तांग की साफ सफाई के लिए बॉडी वाश या केमिकल और तेज खुशबु वाले साबुन आदि उत्पाद काम में लिए जाते है तो इनसे pH नष्ट

हो जाता है। इस वजह से संक्रमण होकर जलन , खुजली या बदबू आदि पैदा हो सकते है।

 
डूश  के द्वारा सफाई की जरूरत भी नहीं होती है। गुप्तांग के अंदर अच्छे बेक्टिरिया भी होते है और ख़राब बेक्टिरिया भी। वहां  मौजूद

लैक्टोबेसिली जैसे लाभदायक बेक्टिरिया pH लेवल सही बनाये रखते है। जब डूश से घिस कर सफाई की जाती  है तो दोनों तरह

के बेक्टिरिया को नुकसान पहुंचता है।

अच्छे बेक्टिरिया के नहीं रहने से संक्रमण की संभावना बढ़ सकती है। इससे कई प्रकार के संक्रमण हो सकते है।

 

गुप्तांग की सफाई दिन में कितनी बार करें

 

सामान्य स्थिति में दिन में सिर्फ एक बार गुप्तांग की सफाई करना पर्याप्त होता है। जो नहाते वक्त की जा सकती है। बार बार सफाई करने की

जरुरत नहीं होती है । यह सफाई भी सिर्फ गुनगुने पानी से धोकर करना पर्याप्त होता है।

 

गुप्तांग में यीस्ट इन्फेक्शन

 

गुप्तांग में यीस्ट इन्फेशन लगभग सभी को हो सकता है। इसमें गाढ़ा पीलापन लिए , बदबूदार स्राव निकलता है। खुजली और जलन या बाहरी

हिस्से में रैशेज़ , खिंचाव या ललास हो सकती है। ऐसा महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लेकर दवा लेनी चाहिए। किसी और प्रकार की

तकलीफ जैसे के लिए भी डॉक्टर से परामर्श अवश्य करना चाहिए।

 

गुप्तांग में खुजली व जलन से बचने के उपाय

 

गुदा की सफाई

 

गुदा और गुप्तांग पास  पास होने के कारण गुदा के बेक्टिरिया के कारण  संक्रमण की बहुत ज्यादा संभावना होती है। इसलिए ध्यान रखना

चाहिए। मलत्याग के बाद पोंछने के लिए टॉयलेट पेपर से आगे से पीछे की तरफ पोंछना चाहिए। नेपकिन को पीछे से आगे की तरफ लाते हुए

नहीं पोंछना चाहिए। टॉइलेट पेपर सादा , बिना केमिकल वाले काम में लेने चाहिए।

 

पानी से धोने के लिए भी हैंड शावर का पानी आगे से पीछे की तरफ जाना चाहिए ना कि पीछे से आगे की तरफ।

अन्यथा पानी के साथ गुदा के बेक्टिरिया गुप्तांग तक पहुँच कर नुकसान पहुंचा सकते है। वेस्टर्न कमोड जिसमे जेट लगा होता है पानी सिर्फ

पीछे से आगे की तरफ आता है। अतः इससे संक्रमण की अत्यधिक संभावना होती है। इसे काम में नहीं लेना चाहिए। इन्डियन कमोड का

उपयोग इस  मायने में अच्छा रहता है। इससे यूरिन इन्फेक्शन ( Urin infection – UTI ) से भी बचाव होता है।

 

माहवारी

 

माहवारी के समय संक्रमण की संभावना बढ़ सकती है। क्योकि रक्त की वजह से pH का लेवल बदल जाता है। अतः ऐसे समय ये ध्यान

रखना चाहिए। सैनिटरी पैड , पैंटी लाइनर या टैम्पून आदि को जरूरत से ज्यादा लंबे समय तक काम में नहीं लेना चाहिए। इन्हें बदल लेना

चाहिए।

 

अंडरवियर

 

सिंथेटिक कपड़े से बनी अंडरवियर में त्वचा को हवा नहीं मिलती । इस कारण से गुप्तांग में नमी बनी रहकर नुकसान देह बेक्टिरिया पनप

सकते है और संक्रमण पैदा कर सकते है। अतः इस तरह की अंडरवियर की जगह कॉटन से बनी अंडरवियर यूज़ करनी चाहिए। इसमें त्वचा

के हवा मिलती रहती है। यह त्वचा को सूखा बनाये रखने में मददगार होती है। यदि सिंथेटिक कपड़े की पैंटी ही पहननी हो तो वह कॉटन

लाइनर वाली होनी चाहिए।

 

वैवाहिक सम्बन्ध

 

 
सम्बन्ध बनाने के बाद संक्रमण की संभावना हो सकती है। सम्बन्ध बनाते समय मूत्र के छिद्र में बेक्टिरिया प्रवेश कर सकते है। इसलिए

सम्बन्ध बनाने के बाद पेशाब जरूर कर लेना चाहिए। पेशाब  करने से ये बेक्टिरिया बाहर निकल जाते है। यह सफाई के एक माध्यम बन जाता

है और इस तरह  UTI जैसे संक्रमण से बचाव भी हो जाता है। वीर्य का pH क्षारीय होता है जबकि गुप्तांग का अम्लीय। वीर्य का वहाँ रुका

रहना उसका pH बिगाड़ कर संक्रमण पैदा कर सकता है। अतः सम्बन्ध बनाने के बाद जितनी जल्दी हो सके गुप्तांग को साफ कर लेना

चाहिए।

 

बालों की सफाई

 

बालों की सफाई करते समय संक्रमण से बचने के लिए साफ सफाई का ध्यान रखा जाना जरुरी होता है। हेयर रिमूवर यूज़ करते हो तो

अच्छी क्वालिटी का यूज़ करें।  साथ ही पुराना ना हो यह भी देखें। रेजर का उपयोग करते है तो खुद का रेजर अलग होना चाहिए किसी और

का रेजर यूज़ नहीं करना चाहिए। इसी प्रकार वैक्सिंग का उपयोग करते समय  भी साफ सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए। यदि पार्लर जाते

है तो हाइजीन कंडीशन जरूर चेक कर लें।

 

एंटीबायोटिक दवा

 

एंटीबायोटिक दवा के कारण गुप्तांग के अच्छे बेक्टिरिया  नष्ट हो सकते है। अतः यदि इस प्रकार की दवा से बदलाव नजर आये तो

डॉक्टर को जरूर सूचित करना चाहिए। यदि ऐसा है तो दही का उपयोग बढ़ा देना चाहिए। दही के उपयोग से गुप्तांग  में अच्छे बेक्टिरिया

की वृद्धि होती है। जो संक्रमण को रोकते है। परंतु दही में शक्कर अधिक नहीं होनी चाहिए।

 

गुप्तांग की एक्सरसाइज

 

गुप्तांग की विशेष एक्सरसाइज करने से पेल्विक मसल मजबूत होती है। इससे  गुप्तांग को स्वस्थ रखने में मदद मिलती है। यह बहुत आसान

है। जिस प्रकार पेशाब को रोकते है , उसी प्रकार से मसल्स को अंदर की तरफ खींच कर टाइट करना होता है । इसे करने के लिए मसल्स को

तीन सेकंड तक टाइट करें फिर ढीला छोड़ दें। फिर टाइट करें , फिर ढ़ीला छोड़ दें। इस प्रकार 8 -10 बार करें। यह दिन में दो तीन बार करें।

धीरे यह 8 -10 बार से बढ़ा कर 15 -16 बार तक करें। यह एक्सरसाइज करने से से गुप्तांग टाइट होता  है। इसके और भी बहुत से लाभ होते

है। यह एक्सरसाइज़ कभी भी की जा सकती है।

 

गुप्तांग में खुजली जलन सूजन के घरेलु उपाय

 

—  दही में गुप्तांग को स्वस्थ रखने वाले बेक्टिरिया में बढ़ोतरी करने की प्रवृति होती है। अतः दही रोजाना के भोजन में शामिल जरूर करना

चाहिए। यह यीस्ट इन्फेक्शन से बचाव करता है।

 

—  पाइनेपल , संतरा , स्ट्राबेरी , नींबू की शिकंजी आदि उपयोग करने से गुप्तांग की गंध कम हो सकती है। क्योकि ये शरीर से विषैले तत्व

बाहर निकालने में मदद करते है। इससे गंध मिटती है।

 

—  यीस्ट इन्ग्फेक्शन में लहसुन का उपयोग करना अच्छा रहता है। यह गंध को मिटाने में भी मदद करता है।

 

—  नीम की पत्तियों को पानी में उबाल  कर इस पानी से गुप्तांग को धोने से खुजली व जलन में आराम आता है।

 

—  नारियल के तेल में कपूर मिलाकर लगाने से खुजली में आराम मिलता है।

 

—  एरंड का तेल लगाने से खुजली व जलन मिटती है।

 

—  पानी में पिसी हुई फिटकरी मिलाकर दो तीन बार धोने से खुजली मिटती है।

 

—  खीरा , ककड़ी , तरबूज और खरबूज के बीज पीस कर गुलकंद के साथ सुबह शाम कुछ दिन खाने से गुप्तांग की जलन ठीक होती है।

 

—  गुप्तांग के बाहरी हिस्से पर फुंसी के कारण खुजली होती हो तो नीम का तेल लगाने से फुंसी मिट कर खुजली ठीक होती है।

 

—  वैवाहिक सम्बन्ध बनाने की अधिकता के कारण गुप्तांग में जलन हो सकती है। यदि ऐसा हो तो कुछ दिन दूरी बना कर रखनी चाहिए।

 

—  गर्म तासीर या पित्त बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ ज्यादा लेने से गुप्तांग में जलन हो सकती है। ऐसे पदार्थ कुछ समय ना लें।

 

नीचे क्लिक करके इन्हें जाने और लाभ उठायें :

 

प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए 

बच्चा चाहते हों तो गर्भधारण के लिए क्या करें 

गर्भ निरोध के उपाय और उनके फायदे नुकसान 

नवजात शिशु की देखभाल कैसे करें 

स्तन में दूध बढ़ाने के उपाय 

गर्भावस्था में उल्टी व जी मिचलाना कैसे रोकें 

हरीरा बनाने की विधि प्रसूता के लिए 

शिशु की मालिश खुद कैसे करें 

बच्चों के लिये घरेलु नुस्खे व उपाय 

होम मेड स्किन टोनर से निखारें चेहरा 

हेयर स्पा घर पर करने का तरीका 

मस्कारा लगाकार दिखें अल्ट्रा मॉडर्न 

नींबू की चटनी चटपटी बनाने की विधि 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *