बिवाई एड़ी फटना ठीक करें आसानी से – Biwai Cracked Heal Gharelu Nuskhe

4956

बिवाई या एड़ी फटना Cracked Heal एक आम समस्या है। पैरों के तलवों की त्वचा विशेष कर एड़ी की स्किन सूख कर तड़क जाती है और वहाँ दरारें बन जाती हैं । इनमे दर्द होने लगता है तथा कभी कभी खून भी रिसने लगता है।


पैर के तलवे की स्किन में तेल की ग्रंथियां नहीं होती है। सिर्फ पसीने वाली ग्रंथियां होती है। किसी कारण से पैरों की पसीने वाली ग्रंथियां सुचारू रूप से काम नहीं करती तो नमी कम हो जाने पर एड़ी की त्वचा बेजान , खुरदरी और सूखी होकर चटकने लगती है।

ये चटकी हुई एड़ी की स्किन बिवाई कहलाती है। इसे ही एड़ी फटना  Cracked Heal भी कहते है। पैर की त्वचा में नमी कम होने के बहुत से कारण हो सकते है।

बिवाई

वैसे एड़ी फटना नुकसान देह नहीं होता लेकिन दरारें गहरी होने पर दर्द हो सकता है तथा वहां रक्त बहना शुरू हो सकता है। यदि बिवाई का उपचार न किया जाये तो एड़ी में पड़ी दरारों में संक्रमण हो सकता है। डायबिटीज इस समस्या को अधिक बिगाड़ सकती है।

एड़ियों का फटना पैरों की केयर सही तरीके से नही होना दर्शाता है। पैरों की केयर के बारे में जानने के लिए क्लीक करें और देखें – पेडीक्योर घर पर कैसे करें

बिवाई या एड़ी फटने के कारण – Reasons of Cracked Heal

Biwai Fatne ki Vajah

एड़ियाँ फटने के मुख्य कारण ये हो सकते है —

—  रोज अधिक देर तक खड़े रहना घर पर या बाहर।

—  कठोर फर्श पर नंगे पाँव अधिक देर घूमना।

—  प्राकृतिक रूप से सूखी त्वचा।

—  अधिक वजन के कारण तलवे का अधिक फैलना।

—  पीछे से खुली चप्पल या सैंडल।

—  किसी बीमारी के कारण जैसे सोरायसिस , एक्ज़िमा ,थायरॉइड , डायबिटीज आदि।

—  अधिक देर तक पानी में खड़े रहना।

—  उम्र ज्यादा होना।

—  गलत फिटिंग के जूते चप्पल पहनना।

—  बहुत सूखे वातावरण में रहना।

—  पोष्टिक भोजन की कमी।

बिवाई या फटी एड़ियाँ के घरेलु उपाय  – Cracked Heal Home Remedies 

Biwai ya Edi Fatne Ke Gharelu Nuskhe

सही देखभाल और जरुरी पोष्टिक तत्व मिलने पर बिवाइयों की समस्या आसानी से हल हो सकती है। नीचे दिए गए घरेलु उपाय या घरेलु नुस्खे  ( Biwai fatne ke gharelu nuskhe ) अपनाने से फटी एड़ियों में अवश्य लाभ हो सकता है। जरूर आजमाएँ ।

—  एक टब में गुनगुना पानी लें। इसमें एक चम्मच नमक और आधा चम्मच पिसी हुई फिटकरी डालें। इसमें अपने पैर डालकर 10 मिनट भिगोये । इस प्रकार पैर भिगोने के बाद रगड़ कर डेड स्किन निकालें।

देसी मोम ( छत्ते का प्राकृतिक मोम ) 25 ग्राम और  50  ग्राम तिल का तेल मिलाकर गर्म करें।अच्छी तरह मिक्स हो जाने पर इसे किसी चौड़े मुह वाली शीशी में भर लें। ये मलहम तैयार है। पैर सूखने के बाद ये मोम बिवाइयों में लगाएं।इस प्रकार रोज ये मलहम लगाने से एक सप्ताह में ही बिवाइयां ठीक हो सकती है। 

— पका केला और नारियल मिक्सी में पीस कर पेस्ट बना लें। ये पेस्ट 15 -20 मिनट पैर पर लगा कर रखें फिर रगड़ कर धो लें। यह क्रेक ठीक भी करता है और क्रेक होने से बचाता भी है। रोजाना इसे करने से एड़ी मुलायम बानी रहती है।बिवाई

—  यदि दरारें नहीं हो सिर्फ स्किन कड़क और भुरभुरी हो गई हो तो एड़ी पर नींबू का रस दस मिनट लगाकर रखें। उसके बाद प्यूमिक स्टोन या ब्रश की सहायता से रगड़ कर डेड स्किन निकाल दें।

—  रात को सोते समय 15 मिनट पैरों को साबुन वाले गुनगुने पानी में डुबो कर रखें। रगड़ कर साफ करें और सूखा लें। एक चम्मच वैसलीन में एक नीबू का रस नीचो कर अच्छे से मिक्स कर लें। इसको फटी एड़ियों पर और बाकि पैर पर हल्की मालिश करते हुए लगाएं। इसके बाद मोज़े पहन कर सोएं।

मोज़े पहनने से एक तो आपका बिस्तर गन्दा नहीं होगा दुसरे ये सोलुशन स्किन मे रम जायेगा। अगली सुबह स्किन सॉफ्ट हो जाने से डेड स्किन भी आराम से निकल सकते है। कुछ दिन इस प्रयोग से एड़ी चमकने लगेगी।  

—  पैराफिन मोम पिघला लें। इसमें सरसों का तेल या नारियल का तेल मिला लें। इसे रात को सोते समय फटी या सूखी एड़ियों पर लगा लें। अगले दिन धो कर साफ कर लें। 10 -15 दिन ऐसा करने से एड़ियां सही होकर मुलायम हो जाएगी।

—  रात को सोते समय पैर अच्छे से साफ करके तेल या वेसलीन लगाकर मोज़े पहन कर सोएं। कुछ दिन ऐसा करने से निश्चित फर्क पड़ता है।

—  रोजाना एरंड के तेल की मालिश करने से पैर की स्किन का सूखापन खत्म हो जाता है। स्किन फटी हो तो ठीक हो जाती है।

—  गुनगुने पानी में 10  मिनट को पैरों डुबो कर रखें। तीन चम्मच चावल का आटा , दो चम्मच शहद और आधा चम्मच एपल सिडार विनेगर व आधा चम्मच  ऑलिव आयल मिक्स करके पेस्ट बनायें ।  इस प्रकार  तैयार स्क्रब से एड़ियों को स्क्रब करें । इस प्रकार स्क्रब करने से डेड स्किन निकल कर एड़ियां मुलायम हो जाती है।

— नीम की पत्तियां 15 -20 पीस लें। इसमें दो चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को सुबह शाम आधा घंटा लगा कर धो लें। एड़ियां सही हो जाएगी।

—  कच्चा पपीता पीस लें । दस चम्मच ये पिसा पपीता , तीन चम्मच सरसों का तेल और तीन चम्मच हल्दी इन सबको मिलाकर हलवे की तरह सेक लें।

गुनगुने नमक वाले पानी में 10 मिनट पानी में पैर डुबोकर रगड़ कर डेड स्किन निकाल दें। फिर ये पपीते वाला मलहम बिवाइयों पर लगा कर पट्टी बांध दें। दो दिन बाद ये प्रक्रिया फिर से दुहरायें। एक सप्ताह में ही फर्क नजर आ जाता है।  बिवाइयों के लिए उत्तम नुस्खा है। अवश्य आजमाएं।

—  एक चम्मच ग्लिसरीन और एक चम्मच गुलाब जल मिलाकर रोज दिन में दो बार पैरो पर लगाने से फटी एड़ियां ठीक हो जाती है।

—  कैल्शियम , आयरन , ज़िंक व ओमेगा 3 फैट वाली चीजें अधिक खाएं।

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

नाख़ून सुन्दर करने का तरीका / गर्भ निरोध के फायदे नुकसान / मानसिक तनाव टेंशन से बचने के उपाय / विटामिन डी के लिए कितनी धूप चाहिए / मसूड़ों से खून घरेलु उपाय  / यूरिन इन्फेक्शन से कैसे बचें / सुबह का नाश्ता क्यों जरुरी क्यों होता है / होंठफटना कैसे रोकें / गर्भावस्था में उलटी और जी घबराना  / जोड़ों का दर्द अर्थराइटिस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here