मक्खी से छुटकारा पाने के 9 आसान तरीके – Get rid of Fly 9 ways

25019

मक्खी  Makkhi , House Fly  बारिश के मौसम में बहुत परेशां करती हैं। इन्हें भिनभिनाते देख बड़ी घिन आती है।थोड़ी सी जगह मिले तो घर में भी घुस आती हैं। घर में खाने पीने की चीजों पर बैठ कर बीमारियाँ फैलाती हैं।

मीठे को तो छोड़ती ही नहीं है। मीठे के अलावा भी कभी किसी खाने पीने के सामान पर बैठ जाती है तो कभी हमारे ऊपर , उड़ा उड़ा कर हाथ दुःख जाते है लेकिन इन्हें भगाने के सारे प्रयास बेकार चले जाते है। आइये आपको बताते है इनसे बचने का उपाय ।

मक्खी

कुछ चीजें मक्खी को पसंद नहीं होती उनका उपयोग इन्हें भगाने में किया सकता है। इसके अलावा थोड़ी सी ट्रिक लगाकर इनके लिए ट्रेप बनाये जा सकते  है जिनमे फंसने के बाद  ये निकल नहीं पायेगी । ये ट्रेप घर पर ही आसानी से बनाए जा सकते है । इनकी मदद लीजिये और मक्खी को विदा करके चैन की साँस लीजिये ।

मक्खी का जीवन – Life of Fly

Makkhi Ka Jeevan

मादा मक्खी नर मक्खी से थोड़ी बड़ी होती है। मक्खी एक बार में लगभग 100 -125  अण्डे अंडे देती है। अंडे सफ़ेद रंग के होते है। ये अंडे सड़ी गली चीजों , कूड़ा करकट या मल आदि पर देती है। ये अंडे 24 घण्टे के अंदर ही बिना पैर के कीड़े या लार्वा में बदल जाते है जो उस सड़ी गली वस्तु से ख़ुराक प्राप्त करते है ।

फिर तीन चार दिन में लाल भूरे रंग के प्यूपा में बदल जाते है। हर प्यूपा में से एक पूर्ण विकसित मक्खी निकलती है। प्यूपा से निकलने के बाद मक्खी के आकार में परिवर्तन नहीं आता ।

 

अगर आप छोटी मक्खी देख रहे हैं तो उसे बच्चा ना समझें । लार्वा के समय खुराक सही नहीं मिलने के कारण वो छोटी रह गई है। यदि आपके घर में बड़ी मक्खियां है तो इसका मतलब आपने मक्खियों के लिए बड़ी अच्छी खुराक का इंतजाम किया हुआ है। एक मक्खी 15-30  दिन जिन्दा रहती है।

मक्खियों के कारण सेंकडों प्रकार की बीमारियाँ हो सकती है। फ़ूड पोइज़निंग , टायफाइड , पीलिया , हैजा , टीबी , एंथ्रेक्स , डायरिया आदि खतरनाक बीमारी का कारण मक्खी हो सकती है। मक्खियाँ लगातार खाती रहती है और यहाँ वहाँ मल त्याग करती रहती है।

इसी कारण ये खतरनाक हो जाती है। मक्खियाँ दिन में सक्रिय रहती है और रात में पंखे पर , कोनो में या पर्दों आदि पर आराम करती है।

मक्खी से छुटकारा पाने के तरीके – Get rid of fly

makkhiya door kaise kare

घर में बिखरे हुए खाने पीने के छोटे टुकड़े मक्खी को निमंत्रण देते है , अतः इन्हें हटा दें । चाशनी , शरबत आदि मीठी चीज गिर गई हो तो तुरंत साफ कर दें। कचरे के डिब्बे में सड़ा गला सामान होने पर मक्खी वहाँ अंडे दे सकती है अतः कचरे का डिब्बा साफ रखें। कचरे के डिब्बे पर ढ़क्कन लगा कर रखें।

ऐसी जगह जहाँ से  Makkhi  घर के अंदर आ सकती है बंद कर दें। नालियां सूखी और साफ रखें। इसके अलावा  मक्खियों से बचने के ये उपाय करने से  Makkhi  से निजात मिल सकती है। 

—  मक्खी का ट्रैप : जैसे चूहेदानी में चूहे पकड़ते है उसी तरह चीनी की मदद से मक्खीयां पकड़ कर फेंक सकते है इसे ट्रैप कहते है। इसके लिए एक गिलास में आधा कप पानी लें। इसमे तीन चम्मच चीनी मिला दें। अब एक कड़क कागज का कोन बनाकर नुकीले हिस्से को इतना काटें की उसमे मक्खी घुस पाए।

अब चीनी वाले गिलास को इस कोन से ढक दें। नुकीला हिस्सा नीचे रहना चाहिए। कोन का निचला हिस्सा पानी से थोड़ा ऊपर होना चाहिए । मक्खी चीनी की खुशबु से आकर कोन के छेद में घुस जाएगी लेकिन निकल नहीं पायेगी।

—  इसी प्रकार का मक्खी पकड़ने का ट्रेप प्लास्टिक की बोतल से भी बना सकते है। इसके लिए प्लास्टिक की बोतल को बीच में से काट लें। बोतल के ढ़क्कन में मक्खी घुस जाये इतना सा छेद करके ढ़क्कन लगा दें। अब बोतल के नीचे वाले हिस्से में शक्कर का पानी भर दें।

इस पर बोतल का ढ़क्कन वाला आधा हिस्सा उल्टा रख दें। सेलो टेप लगाकर दोनों हिस्से टाइट कर लें। ढ़क्कन पानी को टच नहीं करना चाहिए। मक्खीयां  चीनी की खुशबु से बोतल में घुस तो पायेगी लेकिन निकल नहीं पायेगी।

bottle trep

—  यदि किसी दरवाजे के रास्ते मक्खियां घुस आती हो तो इसका एक अनोखा उपाय है। एक पारदर्शी पॉलीथिन को आधा पानी से भर दें। अब इसका मुँह सावधानी से बंद करके दरवाजे के ऊपर की तरफ बांधकर लटका दें।

इसमें से रिफ्लेक्ट होने वाली रौशनी से मक्खी भ्रमित हो जाती है। इसलिए वो इससे दूर ही रहती है। मक्खीयां इस दरवाजे से अंदर नहीं आएगी। परंतु ये उपाय सिर्फ दिन के समय ही काम करता है।

—  फलों पर आने वाली मक्खीयों के लिए बहुत कारगर उपाय है काली मिर्च वाला दूध। इसे बनाने के लिए एक कप दूध में तीन चम्मच चीनी और एक चम्मच पिसी हुई काली मिर्च डालकर धीमी आंच पर 5 -7 मिनट उबाल लें। इसे चौड़ी प्लेट में डालकर मक्खी आने वाली जगह रखें जैसे ही मक्खी इस दूध पर बैठेगी डूब जाएगी।

—  मक्खीयों के लिए पेपर ट्रैप बना कर लटका सकते है । मक्खी इससे चिपक जाएगी। ज्यादा  Makkhiya  चिपक जाये तो फेंक कर दूसरा लटका दें। इसे बनाना भी बहुत आसान है।

मक्खी पकड़ने का पेपर ट्रैप

पेपर ट्रेप बनाने का सामान :

शक्कर — एक कप

कॉर्न सिरप या शहद — एक कप

पानी –एक कप

मोटा कागज , कैंची , धागा

पेपर ट्रेप बनाने का तरीका : 

कागज की तीन इंच चौड़ाई वाली और एक फुट के लगभग लंबी पट्टियाँ काट लें।

इसके एक तरफ छेद करके इसमें लटकाने के लिए धागा बांध लें।

एक बर्तन में पानी , चीनी और शहद मिलाकर चीनी पिघलने तक गर्म करें।

अब काटे हुए पेपर को इसमें डुबो कर निकाल लें। एक्सट्रा पानी निकल जाने दें। इन्हें थोड़ा सूखा लें।

इस कागज को धागे की मदद से लटका दें।

मक्खी इस पर बैठते ही चिपक जाएगी। इस तरह सारी मक्खियां इस पर इकठ्ठी हो जाएगी।

कागज मक्खी से भर जाये तो बदल कर ऐसा दूसरा कागज लगा लें।

—  नीलगिरी के तेल की गंध मक्खीयों को पसंद नहीं होती। जहाँ मक्खीयां आती हो वहां आस पास नीलगिरी के तेल में भीगा कपड़ा रखें। मक्खीयां नहीं आएगी। 

—  नीबू को काट कर दो टुकड़े कर लें। एक टुकड़े में छह सात लौंग घुसा दें लौंग का चौकोर हिस्सा बाहर होना चाहिए। जहाँ से मक्खियाँ भगानी हो इसे वहाँ रख दें लगभग दो मीटर की दूरी तक मक्खियाँ नहीं आएगी।

 

—  जहाँ पोदिना या तुलसी या बेसिल का पौधा होता है वहां मक्खी नहीं आती। पौधा ना हो तो इनकी सुखी पत्तियाँ पीस कर एक मलमल के कपडे में पोटली बना कर मक्खी आने वाली जगह रख दें। मक्खीयां भाग जाएगी।

—  कपूर जलाएं। कपूर की गंध मिलते ही मक्खीयां गायब हो जाएँगी।

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

कौनसे स्पेशलिस्ट डॉक्टर को दिखाएँ / फाइबर क्यों जरुरी भोजन में / अरबी क्यों इतनी लाभदायक / शादी के ये वचन प्रतिज्ञा याद हैं ? / भ्रामरी प्राणायाम / शकरकंद आँखों के लिए इतना फायदेमंदएल्युमिनियम के नुकसान /मिलावट की पहचान घर पर / फ्रिज की बदबू , सफाई और उपयोग / किसके साथ क्या नहीं खायें / पेट में कीड़े 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here