मुख मैथुन और इससे होने वाली समस्याएँ – Oral and problems

यौन सम्बन्ध में पुरुष व महिला एक दूसरे के साथ कई प्रकार की शारीरिक क्रियाएं करते हैं। ज्यादा उपयोग में आने वाली क्रियाओं में चुम्बन

के आदान प्रदान का महत्वपूर्ण स्थान होता है। यह प्रेम प्रदर्शित करने का उचित माध्यम होता है। प्रेम की पराकाष्ठा में यही चुम्बन जब यौन

अंगों पर किया जाता है तो यह बढ़कर मुख मैथुन में परिवर्तित हो जाता है। जब यौन सुख देने के लिए मुँह का उपयोग यौन अंगों के साथ

किया जाता है तो यह मुख मैथुन कहलाता है। मुख मैथुन करने से गर्भधारण नहीं होता है।

 

पुरुष द्वारा महिला साथी को मुख मैथुन देने में योनिमुख पर चुम्बन , उसे जीभ से सहलाना , होठों से चूसना। भगांकुर को जीभ से

या होठों से सहलाना आदि यौन सुख देने वाली क्रियाएं की जाती हैं।

महिला द्वारा पुरुष को मुख मैथुन देने की क्रिया में लिंग को मुंह में लेकर या जीभ और होठों के उपयोग से सहलाया जाता है।

कुछ जोड़े ऐसी शारीरिक अवस्था बनाते हैं जिसमे ये दोनों क्रिया साथ में की जाती हैं।

 

मुख मैथुन जोड़े के आपसी सहमति और आनंद के उद्देश्य से होता है। कुछ लोग इसे उत्तेजना बढ़ाने के साधन की तरह काम में लेते हैं तो

कुछ लोग इसे स्खलित होने या चरम सीमा प्राप्त करने का तरीका बना लेते हैं।

कुछ लोग इसे अप्राकृतिक मानते हुए पसंद नहीं करते। कुछ धर्म इसे वर्जित बताते हैं।

 

इंटरनेट आदि पर वयस्क सामग्री आसानी से उपलब्ध होने से उन्हें देखकर उन्ही की तरह व्यवहार करने की इच्छा जागृत होती है। फिल्मे

वास्तविकता से बहुत दूर होती हैं। फिल्म में किरदार निभाने वाले आनंद लेने का अभिनय कर रहे होते है जो वास्तविक नहीं होता है । वे धन

कमाने के लिए वैसा करते हैं। उनकी नक़ल नहीं करनी चाहिए और वास्तविक यौन संबंधों में समझदारी पूर्ण बर्ताव किया जाना चाहिए। ताकि

खुद को या साथी को किसी प्रकार की समस्या पैदा ना हो।

 

इन दिनों आजाद ख़यालात और घर से दूर अकेले रहने के ज्यादा अवसर मिलने के कारण यौन स्वच्छन्दा बढ़ गई है। ऐसे में एक से अधिक

लोगों के साथ यौन सम्बन्ध की सम्भावना तथा यौन सम्बन्ध से फैलने वाली बीमारियाँ बढ़ गई हैं। इन बीमारियों से सुरक्षा के बारे में जानना

और समझना अति आवश्यक हो गया है।

 

अधिकतर पुरुष अपनी सहूलियत और आनंद का ही ध्यान रखते हैं। महिला साथी के साथ जोर जबरदस्ती करके उन्हें मुख मैथुन करने के लिए

दबाव डालते है , ऐसा नहीं होना चाहिए। महिला जिसे करने में असहज हों या जिसमे उनकी सहमति नहीं हो वो नहीं करना चाहिए।

 

किसी संक्रमण से ग्रसित व्यक्ति के साथ मुख मैथुन कई प्रकार के संक्रमण और बीमारी फैलने का कारण बन सकता है। कभी कभी जो व्यक्ति

संक्रमित होता है उसे खुद पता नहीं होता की वो संक्रमित है क्योंकि इनके लक्षण प्रकट होने में समय लग सकता है। इस प्रकार के कुछ

संक्रमण इस प्रकार हैं  –

 

HPV वाइरस का संक्रमण

 

यह संक्रमण कुछ समय से बहुत फ़ैल रहा है। अनुभवी लोगों की रिसर्च के अनुसार इसका कारण मुख मैथुन का बढ़ता चलन है। यह वाइरस

गले , सर्विक्स तथा गुदा के कैंसर का बड़ा कारण बन रहा है। HPV वाइरस कई प्रकार के होते हैं। स्किन पर होने वाले मस्से Warts  का

कारण ये वाइरस ही होते हैं। इसके कारण यौन अंगों पर भी मस्से हो जाते हैं। संक्रमित व्यक्ति या महिला के साथ मुख मैथुन करने इस वाइरस

के कारण मुँह तथा गले में कैंसर हो सकता है। यह सर्विक्स के कैंसर का कारण भी बन सकता है। इससे बचने के लिए एंटी HPV वेक्सीन

लगवाया जा सकता है।

 

क्लामेडिया और गोनोरिआ

 

इन बीमारियों के फैलने का कारण इनके वाइरस होते है। यह वाइरस लगने से महिला या और पुरुष को पेशाब में दर्द , जलन , या अवांछित

रिसाव की परेशानी होने लगती है। ये वाइरस गले में भी जलन और संक्रमण पैदा कर सकते हैं। इन बीमारियों के फैलने का कारण मुख मैथुन

हो सकता है। इसके अलावा ज़ीका वाइरस भी मुख मैथुन से फैलने की वजह बन सकता है।

 

इनके अलावा अन्य यौन बीमारियाँ STD जैसे सिफलिस , हर्पीज़ , आदि भी मुख मैथुन के कारण फैलने की पूरी संभावना होती है। इन

बीमारियों या संक्रमण से बचने का उपाय मुख मैथुन से दूर रहना ही होता है । अनेक लोगों से या अनजान व्यक्ति के साथ इस प्रकार का

सम्बन्ध बिल्कुल नहीं बनाना चाहिए। यदि आपका साथी किसी अन्य के साथ इस प्रकार का सम्बन्ध बनाता है तो बाहर से आया संक्रमण

आपको भी संक्रमित कर सकता है। अतः सावधान रहना चाहिए।

 

कुछ विशेष प्रकार के साधन अपनाकर मुख मैथुन से होने वाले संक्रमण से सुरक्षित रहा जा सकता है। इसके लिए बाजार में महिला और पुरुष

दोनों के लिए कई प्रकार के फ्लेवर युक्त साधन उपलब्ध है। यदि आपको इस प्रकार के सम्बन्ध से किसी भी प्रकार के संक्रमण का खतरा नजर

आये तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

 

पति पत्नी द्वारा आपसी सहमति और उचित तरीके से साफ सफाई के बाद इसे करने से संक्रमण आदि की संभावना को कम किया जा सकता

है। इसके अतिरिक्त अनेक लोगों से सम्बन्ध नहीं बनाना भी बचाव का रास्ता हो सकता है।

 

क्लिक करके इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

 

शुक्राणु और वीर्य की कमजोरी के कारण तथा बचाव 

गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए क्या नहीं 

कामेच्छा में कमी दूर करने के उपाय 

गर्भधारण के लिए क्या करना चाहिए 

रद्दी पुराने अख़बार के शानदार 28 उपयोग

डस्ट माइट ( घर में रहने वाले सूक्ष्म जीव ) और उनसे एलर्जी 

दाद खाज मिटाने के आसान घरेलु नुस्खे 

पसीना ज्यादा आने के कारण और उपचार 

फाइब्रोइड होने के कारण कारण और इलाज 

विटामिन D के लिए कितनी धूप लेनी चाहिए 

मसूड़ों से खून आने के कारण और घरेलु उपाय 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *