गुलगुले मीठे पुए स्वादिष्ट बनाने की विधि – Gulgule Sweet Pue Krispy Tasty

96

गुलगुले मीठे पुए Gulgule Mithe Pue त्यौहार की विशेष मिठाई है । यह हमारी पारम्परिक मिठाईयों में से एक हैं । कई घरों में नई बहु से

सबसे पहले गुलगुले मीठे पुए  Gulgule बनवाये जाने का रिवाज है। शीतल सप्तमी ( बासोड़ा )  पर पुए Pue जरूर बनाये जाते हैं। शीतला

माता को भोग लगाने के लिए ठन्डे मीठे पुए Mithe Pue  अच्छा पकवान माना जाता है। गुलगुले Gulgula बनाने के लिए सामग्री हमेशा घर में

मौजूद होती है इसलिए इन्हें कभी भी बनाया जा सकता है। यहाँ दी गई विधि से गुलगुले पुए  Gulgule Pue बनायें और स्वादिष्ट कुरकुरे

गुलगुलों का आनंद उठायें। गुलगुले पुए बनाने की विधि इस प्रकार है :

 

गुलगुले मीठे पुए

 

गुलगुले मीठे पुए बनाने की सामग्री – Gulgule Mithe Pue Ki Samagri

किसी भी लाल रंग से लिखे शब्द पर क्लीक करके उसके बारे में विस्तार से जानिए। 

 

गेहूं का आटा                                      200  ग्राम

चीनी / गुड़                                         100  ग्राम

हरी इलायची पिसी हुई                              2  नग

दही                                              1  बड़ा चम्मच

पानी                                       आवश्यकतानुसार

 

गुलगुले मीठे पुए बनाने की विधि  – Gulgule Mithe Pue ki Vidhi

 

—  दो कप पानी में शक्कर या गुड़ डालकर मिला दें। अच्छे से घुल जाने चाहिए।

—  इस पानी को बारीक़ चलनी से छान लें।

—  एक बड़े बर्तन में आटा लें। इसमें दही व इलायची पाउडर डालकर मिला दें।

—  अब इसमें शक्कर का पानी डालकर अच्छी तरह मिला लें। जरूरत लगे तो थोड़ा थोड़ा करके और पानी डालकर गाढ़ा घोल बना लें।

—  बने हुए घोल को एक घण्टे के लिए ढ़ककर रख दें।

—  जब पुए बनाने हो तब घोल को अच्छी तरह फेंटे।

—  कढाई में घी गर्म करके हाथ से या चम्मच से पुए डालें।

—  उलट पलट करके मध्यम आँच पर सुनहरे भूरे / गोल्डन ब्राउन होने तक तलकर निकाल लें।

—  गर्मा गर्म गुलगुले मीठे पुए तैयार है।

—  ठंडे पुए ज्यादा स्वादिष्ट लगते हैं। भोग लगाकर आनंद लें।

 

गुलगुले मीठे पुए बनाते समय ध्यान रखने योग्य बातें

 

—  बारीक आटा लेने से गुलगुले पुए ज्यादा सॉफ्ट बनते हैं।

—  अच्छी तरह फेंटने से पुए सॉफ्ट व स्पंजी बनते हैं।

—  आटे के घोल को स्मूथ कर लेना चाहिए उसमे गुठलियां नहीं होनी चाहिए ।

—  घोल पतला नहीं होना चाहिए अन्यथा कढ़ाई में डालने पर फैल कर चपटा हो जायेगा। गुलगुले पुए गोल नहीं बन पायेंगे ।

—  घोल पकौड़ी की तरह गाढ़ा होना चाहिए परन्तु बहुत ज्यादा गाढ़ा बनायेगे तो गुलगुले सख्त बनेंगे व बीच में गुठली बन जाएगी।

—  यदि आप चाहें तो अपनी पसन्द के अनुसार सौंफ, खसखस , नारियल बुरादा , मगज या मेवे आदि भी डाल सकते हैं।

—  चीनी या गुड़ ज्यादा होने पर भी पुए फट जाते है अतः मीठा नाप कर ही डाले।

—  दही डालने से पुए सॉफ्ट बनते हैं। यदि दही नहीं डालना चाहें तो पुए के घोल में एक चम्मच तेल डाल सकते है। पुए साफ्ट बनेंगे।

 

शीतला माता के पूजन , आरती व कहानी के लिए क्लीक करें :-

 

—  शीतला  माता के पूजन की विधि तथा बासोड़ा   

 

—  शीतला  माता की आरती  

 

—  शीतला  माता की कहानी 

 

क्लीक करके इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

 

मिर्ची के टिपोरे स्वादिष्ट राजस्थानी स्पेशल बनाने की विधि 

गणगौर का पूजन करने की विधि और सिंजारा 

गणगौर की कहानी 

गणगौर के उद्यापन की विधि 

ओलिया बनाने की विधि बासोड़ा के लिए 

गणगौर के गीत किवाड़ी से पानी पिलाने तक 

नारियल के लड़डू फटाफट बनने वाली मिठाई 

कांजी वड़ा मारवाड़ स्पेशल कैसे बनायें 

सुंदरता निखारने के मॉडर्न और घरेलु तरीके 

बच्चों की देखभाल कैसे करें 

आलू की चिप्स सफ़ेद और कुरकुरी बनाने की विधि 

साबूदाने और आलू के मुरके बनाने की विधि 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here