अंगुली चटकाने पर आवाज क्यों आती है – Cracking sound from joints

2662

अंगुली चटकाने और आवाज निकालने का मजा सभी ने कभी ना कभी जरूर लिया होता है । अंगुली को पीछे की तरफ मोड़ने पर चटक जैसी आवाज आती है। आइये जानें इसके कारण और फायदे नुकसान।

बच्चे अक्सर उत्सुकता वश अंगुली चटकाते नजर आते हैं। कुछ लोग मन की भावनाएँ व्यक्त करने के लिए अंगुलियाँ चटकाते हैं। बहनें अपने भाई की बलायें लेने के लिए अपने सिर के पास अंगुलिया चटकाती हैं।

इंसान के हड्डी के जोड़ से इस तरह की आवाज का निकलना अचरज पैदा करता है। सिर्फ अंगुली ही नहीं बल्कि घुटने , कमर या गर्दन से भी आवाज आ सकती है। कई फिल्मो में हीरो गर्दन को हिलाकर कड़कड़ाहट की आवाज पैदा करते दिखाए जाते हैं और यह आवाज दर्शकों में एक अलग ही रोमांच पैदा कर देती है।

क्या आपने कभी विचार किया है कि ये चटकने की आवाज क्यों आती है। आइये जानते हैं जोड़ों को चटकाने या दबाने या अंगुली खींचने से चटक जैसी आवाज क्यों निकलती है।

अंगुली चटकाने से आवाज क्यों आती है

Anguli se chatak jaisi aawaj kyo

विशेषज्ञों के अनुसार जोड़ Joint के चारों तरफ कैप्सूल जैसे आकर में द्रव होता है, जिसे सिनोवियल फ्लूड Synovial Fluid कहते हैं। यह द्रव हड्डियों को , कार्टिलेज और ऊतकों को सहारा देता है और झटके झेलता है। इससे हड्डियाँ एक दूसरे से टकराकर टूटने से बचती हैं। इस द्रव में पोषक तत्वों के साथ कुछ मात्रा में हवा भी होती है।

जब अंगुली को मोड़कर दबाते अथवा पीछे या सामने की तरफ खींचते हैं तो जोड़ के द्रव युक्त कैप्सूल में खिंचाव पैदा होता है। जिसके कारण कैप्सूल में निर्वात उत्पन्न होकर हवा का एक बुलबुला बनता है। जब यह बुलबुला बनता है तो आवाज उत्पन्न होती है। यही अंगुली चटकने की आवाज है।

इस प्रक्रिया का वीडिओ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

इसे वैज्ञानिकों ने एम आर आई MRI मशीनों से रिकॉर्ड किया है और जाँच परख कर इस निष्कर्ष पर पहुँचे है। दुबारा यह आवाज आने में लगभग 20 मिनट का समय लगता है। यह समय हवा को वापस अपनी स्थिति में आने में लगता है।

यह चटकने की आवाज शरीर के कई जोड़ों में से आ सकती है परन्तु कारण अधिकतर यही होता है। हालाँकि आवाज निकलने के कुछ अन्य कारण जैसे उम्र बढ़ने पर लिगामेंट का खिंचना या हड्डियों का मिलना भी हो सकता है।

क्या अंगुली चटकाने से अर्थराइटिस होता है ?

Anguli chatkane se kya nuksan hota he

कुछ लोगो का मानना है कि जोड़ों को चटकाने से अर्थराइटिस या गठिया हो जाता है। कुछ माता पिता बच्चों को यही कारण बताते हुए अंगुली चटकाने पर डांटते हैं। क्या वास्तव में अंगुली चटकाने की आवाज से निकालने से अर्थराइटिस हो जाता है ? आइये जानें –

डॉक्टर डोनाल्ड अंगर ने 50 वर्ष तक अपनी एक हाथ की अंगुलियाँ रोजाना चटकाई और देखा तथा साबित किया कि इससे अर्थराइटिस नहीं होता है। उनके दोनों हाथ में से किसी में भी अर्थराइटिस या गठिया नहीं हुआ था। इसके लिए उन्हें नोबल पुरस्कार भी दिया गया था।

लेकिन इसका अर्थ यह नहीं की आपको अंगुली चटकाते रहना चाहिए। यह शिष्ट व्यवहार नहीं माना जाता , अतः यह आदत ना डालें तो ही अच्छा है। क्योकि इसका कोई लाभ नहीं होता है। लेकिन यदि आवाज आती है तो यह अच्छे स्वास्थ्य की निशानी जरूर है।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

मच्छर क्यों और किसको ज्यादा काटते हैं / सूर्य जल चिकित्सा के फायदे /  धूप की किरणें कब ज्यादा हानिकारक /अंडा शाकाहारी या मांसाहारी /तांबे के बर्तन में पानी से फायदा /   तड़का छौंका लगाने के फायदे / कौनसा थर्मामीटर सही / कपूर के फायदे और नुकसान / चांदी का वर्क लगी मिठाई /  योग मुद्रा से क्या लाभ होते हैं  /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here