अजवाइन छोटी पर गुण बड़े – Carom Seeds Benefits

4396

अजवाइन Ajwain ( Carom seeds ) के विशेष गुणों के कारण इसका उपयोग लगभग हर घर में किया जाता है। पेट में गैस को मिटाने का इसके विशेष गुण के कारण मैदा से बनने वाली चीजों में इसे जरूर डाला जाता है।

अजवाइन को पराठा , अचार , कढ़ी ,चावल , बिस्किट , कुकीज़ आदि में उपयोग किया जाता है। प्रसूता यानि नवजात शिशु की माता को अजवाइन और गुड़ खिलाये जाते है जो प्रसूता के लिए कई प्रकार से लाभदायक होता है। इसके पत्ते भी उपयोग में लाये जाते है।अजवाइन

अजवाइन की तासीर Ajwain ki tasir गर्म होती है। आयुर्वेद ने इसे सौ प्रकार के अन्न को पचाने की शक्ति वाली औषधि बताया है। यह खुश्की पैदा करती है। इसका स्वाद तेज और चरपरा होता है। पित्त प्रकृति वालों को अजवाइन चिकित्सक की सलाह से ही लेनी चाहिए। ताजी अजवाइन अधिक फायदे मंद होती है।

यह वीर्य वर्धक होती है , पेट के कीड़े मिटाती है।  पेट के रोग , जोड़ों का दर्द , बुखार , सूजन आदि में इससे आराम मिल सकता है। यह पेशाब की परेशानी दूर करती है तथा ह्रदय के लिए अच्छी होती है।

अजवाइन के पोषक तत्व – Ajvain Nutrients

अजवाइन में  प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट , फाइबर ,फायदेमंद फैट ( PUFA , MUFA ) होते है। खनिज के रूप में  सोडियम , पोटेशियम , कैल्शियम , फास्फोरस , आयरन तथा विटामिन में रिबोफ्लेविन तथा थायमिन पाए जाते है ।

अजवाइन का तेल निकाला जाता है। जिसमे मुख्यतः थाइमोल होता है। अजवाइन का तेल एंटीसेप्टिक होता है ,फंगस आदि मिटाता है। यह जी मिचलाना, उल्टी , डायरिया , अर्थराइटिस आदि में लाभदायक होता है।

कृपया ध्यान दें :-  किसी भी लाल अक्षर वाले शब्द पर क्लीक करके उसके बारे में विस्तार से जान सकते है

अजवाइन के फायदे – Ajwain Benefits

पेट के कीड़े – Worms

अजवाइन पेट में कीड़े मिटाने में असरदार साबित होती है। छोटे बच्चों को अक्सर बाहर के प्रदूषित खाने पीने से पेट में कीड़े हो जाते है।

—  इसके लिए चौथाई चम्मच अजवाइन का चूर्ण छाछ के साथ देने से पेट के कीड़े ( Pet me kide ) खत्म हो जाते है।

—  अजवाइन और गुड़ को मिलाकर चने के आकार बना लें यह गोली दिन में तीन बार खाने से पेट के कीड़े मिट जाते है।

—  दो चम्मच पिसी हुई  Ajwain  एक गिलास पानी में रात को भिगो दें।  सुबह इसे उबाल लें। एक कप रह जाये तब ठंडा करके छान लें। आधा कप सुबह और आधा कप शाम को पीने से पेट के कीड़े मरकर बाहर निकल जाते है।

जोड़ों में दर्द – Joint Pain

जॉइंट पेन में अजवायन के तेल की मालिश करने से आराम मिलता है।

1  ग्राम पिसी हुई दालचीनी में 3 बूँद अजवाइन तेल डालकर सुबह शाम लेने से जोड़ों के दर्द ( जॉइंट पेन ) में आराम मिलता है। सरसों के तेल मे लहसुन और Ajwain डालकर गर्म करलें। इस तेल को लगाने से दर्द ठीक होता है।

बच्चे के जन्म के बाद माँ को खाना – Diet for New Mother

प्रसूता यानि नवजात शिशु की माता को दी जाने वाली पोष्टिक खुराक में किसी भी रूप में अजवाईन अवश्य दी जाती है। इससे गर्भाशय ( Uterus ) शुद्ध होता है तथा वापस अपने आकार में आ जाता है।

गुड़ अजवायन बनाने की विधि  जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

यह कमजोरी दूर करती है , मूत्राशय संबंधी परेशानी मिटाती है , स्तन में दूध बढाती है , पीठ का दर्द मिटाती है तथा खून साफ करती है। इससे भूख खुलती है और यह कब्ज को ठीक करती है ।

दो चम्मच गुड़ तथा 1 चम्मच अजवाईन मिलाकर दिन में 3 बार देने से कमर दर्द मिटता है।

कफ खांसी जुकाम – Cold

—  अजवाईन का चूर्ण आधा चम्मच गर्म दूध के साथ सुबह शाम लेने से कफ , जुकाम और सिरदर्द में आराम मिलता है।

— एक चम्मच शहद में  थोड़ा सा अजवाइन का चूर्ण और चौथाई चम्मच घी सुबह शाम लेने से कफ और खांसी ठीक होते है।

—  एक गिलास पानी में  अजवाइन डालकर उबालें। आधा रह जाये तब छान कर नमक मिलाकर पियें। इससे खांसी ठीक होती है।

—  अजवाईन को गर्म करके एक पतले कपडे में रखकर पोटली बना कर सूंघने से बंद नाक खुल जाती है। सिरदर्द में आराम आता है।

मुहांसे – Pimples

—  एक चम्मच अजवाईन का बारीक चूर्ण दो चम्मच दही में मिलाकर एक घंटे तक रखें। इसके बाद हिलाकर मुहाँसो पर लगाएँ। दो घंटे बाद धो लें। इससे मुहाँसे Pimples और ब्लैक हेड ( Black Head ) आदि ठीक होते है। इसे दाद खुजली आदि पर लगाने से भी आराम मिलता है।

—  अजवाईन को नींबू के साथ पीस कर फोड़े फुंसी पर लगाने से सूजन ठीक हो जाती है।

पाचन तंत्र – Digestion

अजवाईन अपच को मिटाती है , पाचक रसों का स्राव बढाती है , भूख खोलती है , गैस व पेट दर्द मिटाती  है।

—  अजवाईन को पानी में उबालकर पीने से एसिडिटी ठीक होती है।

—  खाना खाने के बाद आधा चम्मच सिकी हुई अजवाईन थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर खाने से पाचन शक्ति मजबूत होती है।

—  पेट में अफारा आ रहा हो तो अजवाईन का चूर्ण , हींग का पानी मिलाकर लेप बनाकर लगाने से आराम मिलता है।

—  गैस के कारण पेटदर्द होने पर आधा चम्मच अजवाईन में थोड़ा सा काला नमक मिलाकर गर्म पानी से फंकी लेने से आराम मिलता है।

—  अजवाईन का चूर्ण , हरड़ का चूर्ण , सौंठ का चूर्ण तथा सेंधा नमक चारों बराबर मात्रा में लेकर मिला लें। इसमें से आधा चम्मच चूर्ण गर्म पानी से लेने से गैस या अपच आदि के कारण पेट दर्द हो तो ठीक होता है।

—  एक कांच के बर्तन में 100 ग्राम अजवाईन , आधा कप नींबू का रस , सादा नमक , काला नमक , सेंधा नमक एक एक चम्मच डालकर मिला दें। बर्तन का मुंह पतले कपडे से बांधकर दो तीन दिन धूप में रख दे।

जब अजवाईन अच्छे से सूख जाये तो इसे दूसरी शीशी में भरकर रख लें। यह अजवाईन हर प्रकार की पेट की तकलीफ मिटाती है। सुबह शाम आधा चम्मच खाएं।

जूं , खटमल , मच्छर – Bed Bugs

दो चम्मच अजवाइन तथा  एक चम्मच फिटकरी आधा कप छाछ में मिलाकर बालों में और जड़ों में लगा लें। सुबह सिर धो लें। इससे सिर की जूं तथा लीख मिट जाती है।

बिस्तर में खटमल हो तो बिस्तर के चारों और अजवाइन की पोटली रखने से खटमल नहीं रहेंगे।

अजवाइन के चूर्ण में सरसों का तेल मिला लें। इसमें गत्ते के टुकड़े को भिगो कर जहाँ रखेंगे वहाँ मच्छर नहीं आएंगे।

बवासीर – Piles

देसी अजवाइन , जंगली अजवाइन और खुरासानी अजवाइन समान मात्रा में लेकर बारीक पीस लें। इस चूर्ण को मक्खन में मिलाकर मस्सों पर लगाने से मस्से , बवासीर सूख जाते है।

खाना खाने के बाद एक गिलास छाछ में चौथाई चम्मच अजवाइन का चूर्ण और सेंधा नमक मिलाकर पीने से कब्ज में आराम आकर बवासीर ठीक होते है।

मासिक धर्म – Period

आधा चम्मच अजवाईन का चूर्ण सुबह शाम गर्म दूध के साथ लेने से माहवारी की रूकावट दूर होती है।

शराब गुटखे की लत – Bad Habit

जब भी शराब पीने की तीव्र इच्छा हो उस समय एक चम्मच अजवाईन मुह में रखकर चबाने और रस निगलने से शराब की तलब मिट जाती है।

दो  गिलास पानी में 100  ग्राम अजवाईन डालकर उबालें। आधा रह जाये तब ठंडा होने पर छान कर फ्रिज में रख दें। जो लोग शराब छोड़ना चाहते हों वे इसे भोजन से पहले एक कप पियें। इससे शराब का नशा छोड़ने में बहुत मदद मिलती है।

अजवाईन और मोटी  सौंफ बराबर मात्रा में लें। इसमें नींबू का रस और काला नमक मिला दें। इसे छाया में सूखा लें। सूखने पर तवे पर हल्की से भून कर शीशी में भरकर रख लें। जब भी गुटखे या सिगरेट की तलब लगे ,इसमें से आधा चम्मच लेकर चबाएं। तलब मिट जाएगी। इससे पेट की गैस निकल जाती है , भूख अच्छी लगने लगती है।

चोट या मोच की सूजन – Swelling

अजवाईन को गर्म करके इसकी कपडे की पोटली बनाकर सिकाई करने से हर प्रकार की सूजन में आराम मिलता है।

कांटा चुभने पर – Kanta

दो चम्मच अजवाईन को पिघले हुए गुड़ में मिलाकर गुनगुना , कांटा लगे स्थान पर बांधने से कांटा अपने आप निकल जाता है।

पित्ती – Pitti

अजवाइन और गुड़ को समान मात्रा में लेकर कूट कर पीस लें। इसकी चने के आकार की गोली बना लें। यह चार चार गोली सुबह शाम पानी के साथ लेने से पित्ती ठीक हो जाती है। बार बार पित्ती निकलना बंद होता है।

कब्ज – Constipation

अजवाइन चूर्ण , त्रिफला चूर्ण और सेंधा नमक दो दो चम्मच लेकर मिला लें। यह चूर्ण आधा चम्मच रात को सोते समय गर्म पानी के साथ कुछ दिन लेने से पुरानी कब्ज भी ठीक हो जाती है।

अजवाइन लेते समय सावधानी

अजवाइन की प्रकृति गर्म होती है। इसलिए जिन्हें नकसीर या किसी और प्रकार के रक्तस्राव की समस्या हो उन्हें चिकित्सक की सलाह के बाद ही अजवाइन का उपयोग करना चाहिए। इन परिस्थितियों में भी सावधानी से प्रयोग में लेनी चाहिए :-

—  यदि आँतों में अल्सर आदि की समस्या हो या पेट में अल्सर हो अजवाइन नही लेनी चाहिए।

—  गर्भावस्था में अजवाइन नहीं लेनी चाहिए।  क्योकि यह ब्लड प्रेशर कम कर सकती है तथा गर्म होती है।

—  अधिक मात्रा में अजवाइन नहीं लेनी चाहिए ।

—  यदि अजवाइन से एलर्जी हो तो इसे नहीं लें।

—  इसे लेने से स्किन सेंसिटिव हो जाती है। धूप में जाने पर स्किन को नुकसान हो सकता है। अतः धूप में ना जाएँ।

—  आपरेशन से पहले और बाद में अजवाइन नहीं लेनी चाहिए। क्योकि यह रक्त के जमने की क्रिया को धीमा कर सकती है।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें  :

चिया सीड /काली मिर्च / दालचीनी / मेथी दाना / हल्दी  / अदरक आंवला दिव्य तुलसी