अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी – Anant chaudas ki katha

364

अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी अनंत चौदस व्रत की पूजा के समय कही और सुनी जाती है . यह व्रत भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी तिथि ( भादवा सुदी चौदस ) के दिन किया जाता है. व्रत की कहानी सुनने से व्रत का सम्पूर्ण लाभ मिलता है . यहाँ अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी Anant chaudas vrat ki kahani बताई गई है इसे पढ़ें और लाभ उठायें .

अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी – Anant Chaturdashi vrat story

सुमंत नाम का एक ब्राह्मण था . एक सुन्दर कन्या के जन्म के बाद उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी . ब्राह्मण ने दूसरा विवाह कर लिया था . सौतेली माँ का व्यवहार बेटी के साथ अच्छा नहीं था.

ब्राह्मण ने बेटी सुशीला के बड़े होने पर उसका विवाह कौन्डिल्य नाम के ऋषि के साथ कर दिया . विदाई के समय सौतेली माँ ने बेटी को विदा करते समय एक टोकरी दी जिसमे सुन्दर वस्त्र , फल , मिठाई के स्थान पर मिट्टी के ढेले और फटे पुराने वस्त्र आदि रख दिए  .

ऋषि कौन्डिल्य अपनी पत्नी सुशीला को लेकर आ रहे थे . रास्ते में वे विश्राम करने के लिए एक तालाब के पास रुके . सोचा थोड़ा जलपान आदि कर लें . ऋषि नहाने धोने तालाब के पास चले गए . सुशीला ने टोकरी खोली तो उसमे पकवान की जगह मिट्टी के ढेले देख कर उसका मन घबरा उठा . (अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी ….)

तभी उसकी नजर सजी धजी कुछ महिलाओं पर पड़ी . मदद के लिए सुशीला उनके पास गई . उसने देखा वे महिलाएं पूजा की तैयारी कर रही थी . पूछने पर उन्होंने अनंत भगवान की पूजा और अनंत सूत्र के बारे में बताया .

सुशीला ने भी पूजा में हिस्सा लिया और सच्चे मन से हाथ पर अनंत सूत्र बांध लिया . मन ही मन प्रार्थना करने लगी – हे अनंत देव , मेरे पिता की लाज रखना , टोकरी में मिट्टी , फटे पुराने कपड़े लेकर ससुराल कैसे जाऊंगी . मेरा कष्ट दूर करो भगवन .

ससुराल पहुँचने पर जब टोकरी खोली गई उसमे सुन्दर वस्त्र , फल , मिठाई आदि भरे हुए थे . अनंत देव की कृपा से ससुराल में बहुत मान मिला और घर भी धन धान्य से परिपूर्ण रहा . (अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी ….)

एक दिन ऋषि कौण्डिन्य की नजर उसकी बाहँ पर बंधे अनंत सूत्र पर पड़ी . उन्हें लगा की उनकी पत्नी ने कुछ जादू टोना करने के लिए डोरा बांधा है . उन्होंने क्रोधित होकर धागा तोड़कर आग में फेंक दिया . इससे अनंत भगवान का अपमान हुआ .

इस घटना के बाद से ही घर में दुःख और दरिद्रता बढ़ने लग गए . ऋषि कौन्डिल्य कोढ़ बीमारी से ग्रस्त हो गए . उन्होंने सुशीला से कहा कि समझ नहीं आ रहा , अचानक ये विपदा क्यों आ रही हैं . सुशीला ने अनंत भगवान के डोरे के बारे में बताया और कहा कि अनंत भगवान का अपमान हुआ है .

ऋषि ने कहा मैं अनंत भगवान से अपने किये के लिए क्षमा प्रार्थना करूँगा . ऋषि घर से निकल कर जगह जगह घूम अनंत भगवान के बारे में पूछते रहे  . उन्होंने निश्चय किया कि जब तक अंनत भगवान से क्षमा नहीं मांग लूँगा घर नहीं जाऊँगा . (अनंत चतुर्दशी व्रत की कहानी ….)

चलते चलते बेहोश हो कर गिर पड़े . ऋषि के निश्चय को जानकर भगवान अनंत ने उन्हें दर्शन दिए और बोले – हे कौन्डिल्य , तुम्हारे पश्चाताप के कारण मै प्रसन्न हूँ . आश्रम जाकर चौदह वर्ष तक विधि विधान से अनंत व्रत करो तुम्हारे सारे कष्ट दूर हो जायेंगे . कौन्डिल्य ने वैसा ही किया .

इसके पश्चात उनकी तबियत में सुधार होता गया और वे पूर्ण रूप से स्वस्थ हो गए तथा दरिद्रता भी समाप्त हो गई .

बोलो अनंत भगवान की …. जय !!!

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

किस भगवान की पूजा में कौनसे फूल लेने चाहिए कौनसे नहीं 

पूर्णिमा के व्रत , त्यौहार , स्नान आदि कब और कैसे 

कन्या पूजन और भोज नवरात्रा में कैसे करें 

दशा माता सांपदा का डोरा और व्रत 

पीपल के पेड़ की पूजा विधि और महत्त्व 

श्राद्ध कब और कैसे किये जाते हैं

कार्तिक स्नान का तरीका लाभ और महत्त्व

घट स्थापना और नवरात्री पूजा विधि 

दीपावली लक्ष्मी पूजन का आसान तरीका 

तुलसी विवाह की विधि विस्तारपूर्वक