काजू के फायदे जो अब तक मालूम नहीं थे – Cashew Nut Benefits

4299

काजू Cashew Nut का नाम मेवे में सबसे पहले लिया जाता है। सफ़ेद रंग का यह छोटा सा विशेष आकार का मेवा बहुत काम आता है। इसे खाने का एक अलग ही आनंद है। इसे तल कर , मसाला लगाकर भी खाया जाता है।

रसोई में सब्जी को शाही अंदाज में बनाने के लिए उसमे Kaju का पेस्ट डाला जाता है। किसी भी हलवे  में साबुत Kaju या काजू के टुकड़े डालकर उसे सम्पूर्ण किया जाता है। काजू से बनी मिठाई ” काजू कतली ” को सभी जानते है और पसंद करते है।

kaju

काजू का तेल भी खाने में या सलाद आदि में डाला जाता है। Kaju का खोल ( जिसमे से काजू निकलता है ) उसमे से रेसिन ( राल ) निकाला जाता है। यह रेसिन बहुत काम आता है। इसका उपयोग पेंट , वार्निश , एनेमल , कीटनाशक आदि बनाने में किया जाता है।

काजू सेब के आकार के फल के नीचे जुड़ा होता है। Kaju का यह फल भी खाने में काम आता है। इससे चटनी ,जैम आदि बनाये जाते है। अमेरिका में इसे विशेष प्रकार के स्वाद के लिए ड्रिंक्स में यूज़ किया जाता है। गोआ में इस फल के रस से फ़ेनी नामक शराब बनाई जाती है जो बहुत लोकप्रिय पेय है। Kaju का सबसे बड़ा उत्पादक देश वियतनाम है।

कृपया ध्यान दें : किसी भी लाल अक्षर वाले शब्द पर क्लीक करके उस शब्द के बारे में विस्तार से जान सकते है।

काजू के पोषक तत्व – Cashew Nut Nutrients

काजू में बहुत से पोषक तत्व पाए जाते है। इससे प्रोटीन , फाइबर तथा कार्बोहाइड्रेट मिलते है। Kaju में कॉपर , मैगनीज , फास्फोरस , मैग्नेशियम और ज़िंक भरपूर मात्रा में होते है। इसके अलावा , थायमिन , विटामिन B 6 , विटामिन K , आयरन , पोटेशियम आदि खनिज भी पर्याप्त मात्रा में होते है।

अच्छे स्वास्थ्य के लिए Kaju एक ऐसी चीज है जो विटामिन और पोषक तत्वो से भरपूर है। इसे अपने खाने पीने की दैनिक वस्तुओं में शामिल करना चाहिए।

kaju-seb

काजू के फायदे – Cashew Nut Benefits

काजू में प्रचुर मात्रा में कॉपर होता है। कॉपर लोह तत्व के उपयोग में , फ्री रेडिकल को मिटाने में , हड्डी की मजबूती में , तथा त्वचा और बालों के पिग्मेंट मेलेनिन के बनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

कॉपर की कमी से खून की कमी एनीमिया , ओस्टेपोरोसिस , नसों को नुकसान , जोड़ों की समस्या जैसे अर्थराइटिस , दिमागी कमजोरी , असामान्य धड़कन आदि हो सकते है। अतः काजू का नियमित सेवन इन सबसे बचा सकता है।

काजू से मिलने वाला मैग्नीशियम शरीर के लिए जरुरी होता है। मैग्नीशियम की कमी से ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है , मांपेशियों में खिंचाव हो सकता है। यह खिंचाव कभी कभी ह्रदय या फेफड़े में होने पर जानलेवा सिद्ध हो सकता है।

मैग्नीशियम माइग्रेन सिरदर्द को कम करता है , ब्लड प्रेशर कम करता है , हृदयाघात से बचाव करता है  , नींद की कमी को दूर करता है तथा अस्थमा में आराम दिलाता है। काजू का उपयोग इस सभी समस्याओं को दूर रख सकता है। इसके अतिरिक्त Kaju के अन्य फायदे इस प्रकार है :-

ह्रदय के लिए

दूसरे मेवों की तरह काजू में भी ह्रदय के लिए लाभदायक फैट , फाइबर प्रोटीन मौजूद है। अतः काजू खाने से हृदय रोग से बचाव हो सकता है। यह हानिकारक कोलेस्ट्रॉल LDL को कम करने में सहायक होता है तथा फायदेमंद कोलेट्रॉल HDL को बढ़ाता है।

यह ब्लड प्रेशर को भी नियमित बनाये रखने में सहायक होता है। Kaju में अर्जीनाइन नामक तत्व नसों की भीतरी सतह के लिए लाभदायक होता है। इससे ब्लड प्रेशर नियमित रहता है जो ह्रदय के लिए हितकारी होता है।

हड्डियों के लिए

हड्डियों के लिए जितना कैल्शियम जरुरी है उतना ही मैग्नेशियम भी जरुरी होता है। काजू से मिलने वाली मैग्नीशियम की मात्रा आपकी हड्डियों की मजबूती को बनाये रखने में आपका साथ अवश्य देगी।

मैग्नीशियम हड्डियों की सतह पर से कैल्शियम को रक्त में जाने से रोकता है। हड्डियों का कैल्शियम यदि रक्त में जाता है तो यह रक्त वाहिकाओं को संकरा बना देता है। वाहिकाएं संकरी होने पर ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। इस कारण से माइग्रेन जैसा सिरदर्द होने की सम्भावना रहती है।

आँखों के लिए

काजू आँखों के लिए बहुत लाभदायक होता है। आजकल जिस प्रकार का प्रदूषण है वह आँखों के लिए बहुत नुकसान दायक है। इस प्रदूषण के कारण आँखों में संक्रमण हो सकता है।

Kaju से मिलने वाला ज़ी जेन्थिन तथा ल्यूटेन नाम के एंटीऑक्सीडेंट की सहायता से आंख का रेटिना एक रक्षात्मक परत बनाता है। इस परत से संक्रमण से बचाव होता है।यह परत हानिकारक अल्ट्रावॉइलेट से भी आँखों को बचाती है ।

इसके अलावा उम्र के साथ आँखों की कमजोरी से भी बचाव होता है। इसमे तथा जेक्सेन्थीन नामक एंटीऑक्सीडेंट होते है जो आँखों की रौशनी को कम होने से रोकते है। Kaju का नियमित उपयोग आँखों में मोतियाबिंद आने से भी रोकता है।

वजन कम करने के लिए

Kaju में विटामिन और खनिज लवण की प्रचुर मात्रा होती है साथ ही फैट की मात्रा कम होती है और जो फैट होते है वो लाभदायक वाले फैट है जिन्हें मोनो अनसैचुरेटेड फैट और पोली अनसैचुरेटेड फैट कहते है।

सीमित मात्रा में इनका उपयोग करने पर ये फैट वजन नहीं बढ़ाते बल्कि वजन कम करने में सहायक होते है।काजू में मौजूद ओमेगा -3 फैटी एसिड मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया में वृद्धि करके फैट को जलाकर वजन कम करने में सहायक होता है।

इसके अलावा मेवे खाने के बाद पेट भरा रहता है और अधिक खाने से बचा जा सकता है। यह भी वजन कम करता है। लेकिन इन्हें बिना तले या बिना नमक लगाए खाना चाहिए।

बालों के लिए

काजू में कॉपर की भरपूर मात्रा होती है। यह बालों के रंग को काला बनाये रखने में सहायक है। अतः नियमित रूप से काजू का सेवन बाल सफ़ेद होने से बचाता है। Kaju के तेल से मिलने वाला कॉपर से बालों के पिग्मेंट मेलेनिन बनने में मददगार होता है। इससे बाल काले और चमकदार बन सकते है।

काजू के नुकसान

—  कुछ लोगों को काजू से एलर्जी हो सकती है।

—  इसमें ऑक्जेलेट पाये जाते है जो गुर्दे की पथरी बनने का कारण बन सकते है। जिन्हें पथरी की शिकायत हो उन्हें काजू का उपयोग चिकित्सक की सलाह के बाद ही करना चाहिए।

—  सीमित मात्रा में मेवे लाभदायक सिद्ध होते है लेकिन अधिक मात्रा में खाने से गैस हो सकती है। काजू भी सीमित मात्रा में खाने चाहिए अन्यथा फायदे की जगह नुकसान होने की सम्भावना हो सकता है।

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

बादाम / अखरोट / अंजीर पिस्ता मूंगफली खजूर  /आम / पपीता / संतरा  / अमरुद सीताफल बील  /  सेब  / आंवला  जामुन / केला  / नाशपति /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here