केला एक्सरसाइज करने वाले क्यों खाते है -Why athlete eat banana

1405

केला Kela – Banana हमेशा मिलने वाला एक बहुत शानदार फल है। ये दुनिया भर में सबसे ज्यादा खाये जाने वाले फलों में से एक है। केले में बहुत से गुण होते है। पोषक तत्वों से भरपूर इतना सस्ता दूसरा कोई फल नहीं है।

केले में पोषक तत्व – Banana nutrients

इसमें  पोटेशियम , मैग्नेशियम , मैगनीज , कॉपर आदि तत्व भरपूर मात्रा में होते है। इसके अलावा केला विटामिन “B 6″और विटामिन” C ” का अच्छा स्रोत है। केले से कार्बोहाईड्रेट , प्रोटीन और फाइबर भी  मिलते है। 

केले में बहुत से ऐसे एंटीऑक्सीडेंट होते है जो फ्री रेडिकल से होने वाले नुकसान से बचाते है और कई प्रकार के कैंसर जैसे रोगों से रक्षा करते है। केले में पोटेशियम की भरपूर मात्रा होने के कारण यह ब्लड प्रेशर को सामान्य रखने में सहायक होता है। केले खाने से गुर्दे के रोग होने की सम्भावना कम होती है।

केला

केला कैसे कब और कितना खाना चाहिए

केला पका हुआ खाना सर्वश्रेष्ठ होता है। कच्चे केले की सब्जी बना कर खाई जा सकती है। कच्चे केले में कैल्शियम ज्यादा होता है। स्वस्थ व हष्ट पुष्ट होने के लिए रोजाना दो पके हुए केले के साथ एक गिलास दूध लेना चाहिए।

केले में शक्कर डाल कर खा सकते है। पका केला बच्चों को भी बेझिझक खिलाया जा सकता है। केला सम्पूर्ण आहार है। हर उम्र में केले फायदा ही करता है।

केला कब नहीं खाना चाहिए

रात के समय केले खाने से गैस की समस्या हो सकती है अतः रात के समय केला नहीं खाना चाहिए। जिनकी पाचन शक्ति कमजोर हो उन्हें केला कम मात्रा में खाना चाहिए। एक बार में तीन से अधिक केले नहीं खाने चाहिए। ज्यादा केले खा लिए हो और तकलीफ हो तो इलायची खाने से ठीक हो जाती है। डायबिटीज हो तो केले नहीं खाने चाहिए।

केले के फायदे  – Banana Benefits

कृपया ध्यान दें : किसी भी लाल अक्षर वाले शब्द पर क्लिक करके उस शब्द के बारे में विस्तार से जानिए। 

केला खाने के लाभ अनगिनत है। केले के गुण सभी जानते है। केले के सबसे ज्यादा महत्त्व के फायदे इस प्रकार है :

ब्लड प्रेशर व दिल – Blood Pressure and Heart

केले में पोटेशियम की भरपूर मात्रा के कारण ये ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में सहायक होता है। सिर्फ एक केला रोज खाने से हाई ब्लड प्रेशर से बचा जा सकता है। साथ ही केला आर्टरी में जमाव से बचाता है। आर्टरी ऑक्सीजन वाला खून दिल और दूसरे अंगों को पहुँचाने का जरिया होती है। जिनका साफ रहना जरुरी होता है।

dil

केले में मौजूद मैग्नीशियम शरीर में कैल्शियम की मात्रा को नियंत्रित करके धमनियों में खून पतला रखने में सहायक होता है। केला खून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने में भी मदद करता है। केले में फायदेमंद घुलनशील फाइबर भी होता है जो दिल के रोगों के होने की सम्भावना को कम करता है।

कोलेस्ट्रॉल के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

पाचन –  Digestion

केले में फायदेमंद फाइबर होने के कारण पाचनतंत्र को गतिमान रखने में मदद करता है। केले में एक विशेष प्रकार का फाइबर पेक्टिन होता है। पके हुए केले में पेक्टिन की मात्रा बढ़ जाती है इसके साथ ही फ्रूक्टोस की मात्रा भी बढ़ जाती है। ये दोनों ही केले को अधिक फायदेमंद बनाते है।

इसके अलावा एफ ओ एस नामक कार्बोहाईड्रेट आंतों के लिए अच्छे बेक्टेरिया की वृद्धि में सहायक होता है। जिसकी वजह से पाचन तंत्र को फायदा मिलता है। एसिडिटी , गेस्ट्राइटिस , पेट में अल्सर आदि स्थिति में केला खाने से फायदा मिलता है।

एथलीट – Athlete

खिलाड़ी (athlete ) तथा अधिक एक्सरसाइज करने वालो को केले जरूर खाने चाहिए क्योकि केले में जल्दी पचने वाले कार्बोहाईड्रेट और कई तरह के मिनरल होते है जो तुरंत शक्ति देते है। केले खाने से मांसपेशियों में होने वाले खिंचाव और दर्द से भी बचाव होता है।

खेलते समय होने तनाव को भी केला कम करता है। केले से एकाग्रता में वृध्धि होती है। अतः केले खिलाड़ियों , एथलीट और एक्सरसाइज करने वालो के लिए बहुत अच्छी खुराक है। इसीलिए दुनिया भर में एथलीट केले को सर्वोत्तम आहार मानते हुए इसका उपयोग करते है।

दस्त – Loose Motion

दस्त होने पर केला खाना फायदा करता है। दही के साथ केला खाने पर हर तरह के दस्त , पेचिश , संग्रहणी ठीक होती है। बच्चों को दस्त होने पर पका हुआ केला अच्छे से मसल कर तीन चार बार देने से आराम मिलता है।

दूध को फाड़कर छेना अलग करके इसमें केला मिलाकर खाने से पेचिश ठीक हो जाती है। पेचिश में कच्चे केले की सब्जी खाना भी लाभदायक होता है। बारिश के मौसम में होने वाले दस्त केला खाने से ठीक होते है।

श्वेत प्रदर – White Discharge

महिलाओं में योनि मार्ग से लिसलिसा  सफ़ेद या पीला चिकना स्राव निकलता रहता है जिसे श्वेत प्रदर कहते है। इस रोग में केला बहुत फायदेमंद साबित होता है।

सुबह शाम खाना खाने के बाद एक पका केला खाना , कच्चे केले की सब्जी बनाकर खाना , केले और दूध की खीर बना कर खाना , एक पका केला एक चम्मच देसी घी डालकर खाना आदि तरीकों में से हर तरीका प्रदर रोग में बहुत लाभ देता है। किसी न किसी तरीके से केला जरूर खाना चाहिए।

महिलाएँ योनि की साफ सफाई का ध्यान कैसे रखें यह जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

स्मरण शक्ति व तनाव – Memory and tension

केले में ट्रिप्टोफेन नाम का एमिनो एसिड होता है जो स्मरण शक्ति बढ़ाता  है तथा प्रसन्नता बढ़ाने में सहायक होता है और दिमाग को शांत रखता है । इसके अलावा  केले में मौजूद पोटेशियम की मात्रा दिमाग की सतर्कता को बढ़ाती है।

तनाव की स्थिति में खून में पोटेशियम की मात्रा कम हो जाती है। पोटेशियम ऑक्सीजन दिमाग तक पहुंचाता है और शरीर में पानी के स्तर को बनाए रखता है। केला खाने से पोटेशियम का स्तर सुधर जाता है। तनाव कम हो जाता है।

स्मरण शक्ति , शांत दिमाग , सतर्कता और कम तनाव ये सभी  विद्यार्थी को परीक्षा में सफल होने के लिए अति आवश्यक होते है। अतः विद्यार्थियों  ( students  ) को रोजाना केले जरूर खाने चाहिए।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

अनार / सेब  / अमरुद / सीताफल /  अंगूर गन्ना  पपीता / संतरा नाशपती / बील खरबूजा / तरबूज आम / जामुन / मशरूम  हल्दी / त्रिफला चूर्ण / काली मिर्च / फिटकरी / दिव्य तुलसी / सौंफ / इमली / खीरा ककड़ी / पालक / हरी मिर्चप्याज / करेला / तुरई / भिंडी / चुकंदर गाजर / मटर / लौकी / मूली अदरक / आलू  / नींबू / टमाटर / लहसुन  / आंवला /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here