पूजा में फूल कौनसे लें कौनसे नहीं – Flowers for Pooja

397

पूजा में फूल Flowers भगवान को या सभी देवी देवताओं को चढ़ाये जाते हैं .  शुभ कार्य में फूलों के होने से अनुष्ठान की पवित्रता और भव्यता बढ़ जाती है . फूल या पुष्प प्रसन्नता और उत्साह में वृद्धि करते हैं .

पुष्प चढाने से देवता तथा भगवान भी प्रसन्न होते हैं . पुष्प यदि उनकी पसंद के हों तो सोने पर सुहागे जैसी बात होती है . धर्म पुराणों के अनुसार भगवान या देवी देवता भोग , तपस्या , सोना , चांदी , रत्न आदि से भी उतने प्रसन्न नहीं होते जितने कि पुष्प चढ़ाने से होते हैं .

अतः भगवान को फूल या पुष्प जरुर अर्पित करने चाहिए लेकिन पूजा के लिए फूल लेते समय इन बातों का ध्यान जरुर  रखना चाहिए :

— कौनसे भगवान को कौनसे फूल अधिक प्रिय होते हैं तथा कौनसे भगवान को कौनसे फूल नहीं चढ़ाने चाहिये .

— पूजा में भगवान या देवता को चढ़ाए जाने वाले फूल बासी , कटे फटे , गंदे , कीड़े लगे हुए , जमीन पर गिरे हुए , दूसरों से मांगे हुए या चुराए हुए नहीं होने चाहिए .

— कमल Lotus और कुमुद Water Lily के फूल ग्यारह दिन तक बासी नही माने जाते .

— चंपा Frangipani की कली के अलावा किसी भी फूल की कली भगवान को नही चढ़ानी चाहिए .

— फूलमाला में कमल की माला को सर्वश्रेष्ठ माना जाता है .

— किसी भी पूजन में केतकी के फूल नहीं चढ़ाने चाहिए .

पूजा में फूल कौनसा चढ़ाएं कौनसा नहीं

गणेश जी के पूजन में फूल

गणेश जी को तुलसी दल के अलावा सभी प्रकार के पुष्प चढ़ाये जा सकते हैं .  गणेश जी को तुलसी कभी नहीं चढ़ानी चाहिए . गणेश जी को दूर्वा अर्पित की जाती है . इसके अलावा लाल गुलाब चढ़ाने से गणेश जी प्रसन्न होते हैं .

शिवजी की पूजा में फूल

शिव जी की पूजा में धतूरे के फूल , आकड़े के फूल , मौलसिरी (बकुल ) , हरसिंगार , नागकेसर के सफ़ेद फूल , सूखे कमलगट्टे , कनेर Oleander , जवा कुसुम आदि चढ़ाये जाते हैं . धतूरे के फूल शिव जी अत्यधिक प्रिय है . इसके अलावा बेल पत्र तथा शमी पत्र शिव जी को आर्पित किए जाते है ये उन्हें प्रिय हैं .

शिव जी को जो फूल नहीं चढ़ाये जाते उनमे केवड़ा , मालती , जूही , कदम्ब , सेमल , अनार आदि शामिल हैं .

भगवती माँ दुर्गा की पूजा के फूल

माँ दुर्गा की पूजा में कमल , पलाश , चंपा , चमेली jasmine, हरसिंगार , कनेर , केवड़ा आदि फूल रखने चाहिए . माता को लाल रंग के फूल विशेष प्रिय होते हैं . प्रत्येक शुक्रवार को लाल गुलाब या लाल गुड़हल की माला माँ को चढ़ाने से आर्थिक संकट दूर होते हैं .

देवी भगवती की पूजा में आक और तमाल के फूल नहीं चढ़ाये जाते . इसके अलावा दूर्वा , तुलसी और आंवले माता को नहीं चढ़ाने चाहिए .

श्रीकृष्ण भगवान को फूल

कृष्ण भगवान् ने महाभारत के समय युधिष्ठिर से कहा था – मुझे कुमुद ( water lily ), करवरी , चणक , मालती , नंदिक , पलाश तथा वनमाला के फूल बहुत प्रिय हैं . अतः कृष्ण भगवान को ये फूल चढ़ाने चाहिए .  इसके अलावा केसर का या पीले चन्दन का तिलक करने तथा पीले रंग के पुष्प श्रीकृष्ण को अर्पित करने से कृपा प्राप्त होती है .

हनुमान जी को फूल

हनुमान जी को पीले और लाल फूल प्रिय होते हैं . गुड़हल , गुलाब , कमल , गेंदा आदि फूल हनुमान जी को अर्पित करने चाहिए . इसके अलावा केसर के साथ लाल चन्दन घिस कर तिलक करना चाहिए . इससे मनोकामना पूर्ण होती है .

विष्णु भगवान की पूजा में फूल

विष्णु भगवान को कमल , जूही , कदम्ब , केवड़ा , अशोक , चंपा , वासंती , मालती आदि फूल बहुत प्रिय हैं , पीले रंग के फूलों से विष्णु भगवान को विशेष लगाव होता है . विष्णु भगवान् को तुलसी दल अवश्य चढ़ाना चाहिए .

भगवान विष्णु को धतुरा , सहजन , आक , गूलर , कचनार आदि फूल नहीं चढ़ाये जाते . विष्णु भगवान को अक्षत भी अर्पित नहीं किये जाते .

लक्ष्मी जी के पूजन में फूल

लक्ष्मी माता का सबसे प्रिय फूल कमल है . लक्ष्मी माँ की उत्पत्ति जल से हुई थी तथा कमल भी जल में उत्पन्न होता है . इसके अलावा कमल का फूल उनका आसन भी है . अतः माँ लक्ष्मी की पूजा में कमल अवश्य होना चाहिए . दिवाली की पूजा में भी कमल का फूल जरुर रखना चाहिए .

हर शुक्रवार को कमल का फूल माँ लक्ष्मी को अर्पण करने से माँ की कृपा प्राप्त होती है . गुलाब के फूल तथा पीले सुगन्धित पुष्प भी माँ लक्ष्मी को प्रिय होते हैं .

शनि देव की पूजा के फूल

शनि देव को नील या गहरे रंग के फूल प्रिय होते हैं . नीले रंग के लाजवंती के फूल शनि देव को विशेष प्रिय हैं .

इस प्रकार फूल अर्पित करके भगवान को प्रसन्न करें और कृपा प्राप्त करें .

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

तुलसी के पौधे को सूखने से बचाने व हरा भरा रखने के उपाय

दिवाली के दिन लक्ष्मी जी का पूजन कैसे करें

घर स्थापना और नवरात्री पूजा विधि 

गणगौर की पूजा सोलह दिन की और सिंजारा 

वार के अनुसार व्रत कैसे करें 

आरती सही तरीके से कैसे करें   

सूरज रोट के व्रत की कहानी 

गणेश की की कहानी

खाटूश्याम बर्बरीक कथा 

दशा माता व्रत की कहानी 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here