फाउंडेशन कैसे लगाएँ – Foundation lagane ka tareeka

4725

फाउंडेशन Foundation स्किन के कलर का वो मेकअप है जिसकी मदद से चेहरे की स्किन के कलर में कमियों को छुपाकर चेहरे की रंगत को एकसार किया जा सकता है। फाउंडेशन की मदद से चेहरे का रंग बदला भी जा सकता है।

फाउंडेशन के रंग का चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है। इसे अपने चेहरे पर ट्राई करके मेच करने के बाद लेना चाहिए न कि हाथ पर लगा कर। ये लूज पाउडर , कॉम्पैक्ट पाउडर , क्रीम , लिक्विड आदि सभी तरह का आता है।

आपको जिस तरह का फाउंडेशन लगाना ज्यादा आराम दायक लगे  चाहे वो पाउडर हो या क्रीम या लिक्विड वो ले सकते है। ट्राई करके देखना चाहिए और उसमे आपकी स्किन नेचुरल भी दिखनी चाहिए।

fondation
फाउंडेशन के प्रकार – Type of Foundation

शियर :

इस प्रकार के फाउंडेशन में पिगमेंट रंग सबसे कम होता है और ये ज्यादा पारदर्शी होता है। ये असमानता को नहीं छुपा सकता लेकिन स्किन कलर के कॉन्ट्रास्ट को ठीक करता है। इसे दिन में यूज़ करना ठीक रहता है। इसमें टिंटेड मोईशचराइजर लेना चाहिए।

ये ज्यादा हेवी नहीं होने की वजह से पोर्स को बंद नहीं करता। लाइट रहता है। इसमें पिगमेंट लगभग 10 % रहता है

लाइट और मीडियम :

ये भी बहुत ज्यादा असमानता नहीं छुपाता। इसमें पिगमेंट लगभग 15-25 % रहता है। ये लिक्विड फाउंडेशन में आता है। ये टिंटेड से थोडा रिच होता है और कई वेरायटी में आता है। जितना लाइट होगा उतना कम कवरेज देगा लेकिन चेहरे पर ज्यादा फील नहीं होगा। चेहरे के रंग से परफेक्ट मेच करता हुआ ही लेना चाहिय। बहुत लाइट या डार्क नहीं।

फुल :

ये पूरा अपारदर्शी होता है। ये क्रीम में आता है। इसकी मदद से किसी भी प्रकार का दाग छुपाया जा सकता है। ये स्किन के किसी भी रंग को बदल सकता है। इसमें पिगमेंट लगभग 35-50 % तक हो सकता है।

इसे स्पंज की मदद से लगाया जाता है। इस प्रकार का फाउंडेशन भारी होने के कारण पोर्स बंद कर सकता है जिसकी वजह से ब्लैक हेड हो सकते है।

फाउंडेशन लगाने का तरीका – Foundation kaise lagaye

इसे अंगुली , स्पोंज से या ब्रश से जो आपको अच्छा लगे उस तरह लगा सकते है। फाउंडेशन लगाने से पहले चेहरे को किसी जेंटल फेस वाश से धोकर हल्का सा मोइशचराइजर लगा कर पांच मिनट बाद रुकें। फाउंडेशन लगाने से पहले कंसीलर या प्राइमर लगा सकते है।

शुरुआत में गालों पर , फॉर हेड , नाक और चिन पर लगाये। अब इसे फैला कर चेहरे को एकसार कर लें। कहीं ज्यादा कहीं कम नहीं होना चाहिए। डार्क सर्कल , एक्ने ,डार्क स्पॉट आदि का ध्यान रखते हुए इन निशानों को छुपाते हुए फैला लेना चाहिए। गर्दन वाले हिस्से को भी समान रूप से कवर करना चाहिए।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

नेल पोलिश के अन्य उपयोग / हॉट वैक्सिंग कोल्ड वैक्सिंग में फर्क / अपनी ब्रा का सही साइज़ कैसे जाने / स्पेशल मेनिक्योर चॉकलेट फ्रूट हर्बल / मेनिक्योर घर पर करें / हेयर स्पा / घरेलु हेयर मास्क  / स्तन सुन्दर पुष्ट सुडौल /को आँखें स्वस्थ और सुन्दर / आई शेडो / कंसीलर / मस्कारा / ब्लश /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here