फिटकरी के 20 शानदार उपयोग – 20 amazing uses of Alum

37677

फिटकरी Fitkari – Alum का उपयोग हम लोग बरसों से देखते आए है। हमारे पिताजी या दादाजी फिटकरी को शेव करने के बाद दाढ़ी पर मलते थे। जिससे उनका चेहरा हमेशा दमकता हुआ और झुर्रियों रहित रहता था।


ये फिटकरी का कमाल था। इस लेख में फिटकरी के कई प्रकार के लाभ बताये गए हैं। फिटकरी को अंग्रेजी में एलम alum कहते है। ये दरअसल पोटेशियम एल्युमिनीयम सल्फेट है।

फिटकरी में कई प्रकार के औषधीय गुण होते है। इसमें चोट लगने पर खून बहना बंद करने का विशेष गुण होता है तथा साथ ही ये एंटीसेप्टिक और एंटी बैक्टीरियल की तरह काम करती है । इन्ही गुणों की वजह से इसे शेविंग के बाद दाढ़ी पर मलते है। आज भी गावों में यही परम्परा है।

गंदे पानी में Fitkari डालने से पानी की गंदगी अलग हो जाती है। ये सामान्य उपयोग लगभग सभी जानते है। लेकिन इसके गुण यहीं तक सीमित नहीं हैं ।

फिटकरी के फायदे Fitkari ke fayde की एक लम्बी लिस्ट बनाई जा सकती है। इसके उपयोग  Fitkari ke upyog और घरेलू उपचार  Fitkari se gharelu upchar बहुत से होते है जिनमे खास 20 उपयोग जो रोजाना  की जिंदगी में आपके बहुत काम आ सकते है , यहाँ दिए गए है।

फिटकरी के शानदार उपयोग

फिटकरी के फायदे व उपयोग

Alum uses & benefits

कृपया ध्यान दें : – किसी भी लाल रंग से लिखे शब्द पर क्लीक करके उसके बारे में विस्तार से जान सकते है।

—  पनीर बनाने के लिए दूध को पिसी हुई Fitkari डालकर फाड़ें । इस प्रकार बना हुआ पनीर अधिक स्वादिष्ट व मुलायम बनता है।

—  पशु पक्षी आदि को लगी चोट में Fitkari फायदेमंद होती है। पतंग के मांझे से घायल पक्षी को लगी चोट फिटकरी घुले पानी से धोएँ। ये पानी उसे थोड़ा सा पिला दें। इससे पक्षी जल्दी ठीक हो जाएगा। इसी प्रकार पशु को लगी चोट भी ठीक हो सकती है।

—   गर्म पानी में फिटकरी और नमक मिलाकर गरारे व कुल्ला करने से गले की खराश , मुंह की बदबू आदि ठीक हो जाते है।

—  मसूड़ों से खून आता हो तो Fitkari घुले पानी के कुल्ला करने से ठीक होता है।

—  चेहरे की झुर्रियाँ मिटाने के लिए Fitkari के टुकड़े को पानी में डुबोकर चेहरे पर हल्के हाथ से मलें। सूखने पर सादा पानी से धो लें। कुछ ही दिन में झुर्रियां मिट जाएँगी।

—  यदि जहरीला कीड़ा या बिच्छू काट ले तो पानी में  Fitkari  का पाउडर डालकर गाढ़ा घोल बनाकर लगाने से आराम मिलता है।

—  दांत में दर्द हो तो फिटकरी और काली मिर्च बराबर मात्रा में पीस कर इसे लगाएं। इससे दर्द कम हो जाता है।

—  शरीर पर लगी छोटी चोट से खून बह रहा हो तो फिटकरि का पाउडर चोट पर छिड़कने से खून रिसना बंद हो जाता है।

—  सिर में जुएँ हो गई हों तो फिटकरी मिले पानी से कुछ दिन सिर धोने से जुएँ खत्म हो जाएँगी।

—  बवासीर में फिटकरी का पाउडर मक्खन में मिलाकर मस्सों पर लगाएं ,लाभ होगा। Fitkari मिले पानी से गुदा को भी चार पांच बार धोएँ। एक टब में Fitkari मिला हुआ गुनगुना पानी भर लें। इसमें बैठ कर सिकाई करने से बवासीर में आराम मिलता है। ये उपाय करने से खूनी बवासीर भी ठीक हो जाते है।

—  नकसीर आने पर फिटकरी के गाढ़े घोल ( पानी में ) में रुई डुबोकर नाक में लगाने से नकसीर बंद हो जाती है। इस घोल की दो-दो बूंद नाक में डालने से भी नकसीर बंद होती है।

—  सूखी खांसी , कफ वाली खांसी या दमा की शिकायत हो तो फिटकरी को पीस कर तवे पर भून लें। इस भुनी फिटकरी में दुगनी मात्रा  पिसी हुई मिश्री मिला दें। ये मिश्रण आधा चम्मच सुबह शाम कुछ दिन लेने से बहुत लाभ होगा।

—  दस्त होने पर बील के जूस में दो चुटकी फिटकरी मिलाकर पीने से दस्त बंद हो जाते है।

—  घाव के लिए फिटकरी को भूनकर पीसकर घी में मिला लें। इसे घाव पर लगाने से घाव मिट जाता है।

—  सर्दी के मौसम में हाथ पैरों में सूजन व जलन हो तो गर्म पानी में फिटकरी घोलकर इससे दिन में दो तीन बार धोएँ। आराम मिलेगा।

—  महिलाओं को श्वेत प्रदर या गुप्तांग में खुजली , जलन आदि हो तो ऐसे में फिटकरी घुले पानी से योनि को दिन ने तीन चार बार धोने से बहुत आराम मिलता है।  योनि में यदि ढीलापन हो तो वो खत्म होता है। फिटकरी से योनि टाइट हो जाती है। योनि की साफ सफाई का ध्यान कैसे रखें यह जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

—  पुरुषों के लिंग पर होने वाली फुंसी या बदबू आदि फिटकरि घुले पानी से लिंगमुंड को धोने से ठीक हो जाते है। लिंग की सफाई ना होने से आँख में फुंसी हो सकती है।

—  यदि पसीना ज्यादा आता हो तो नहाने के पानी में फिटकरि घोलकर नहाएँ। पसीना आना कम हो जाएगा। शरीर से बदबू आती हो तो भी मिट जाएगी। पसीना ज्यादा आने के कारण और उपचार जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

—  बुखार होने पर आधा चम्मच सौंफ के पाउडर में दो चुटकी पिसी फिटकरि  मिलाकर बताशे के साथ खाने से बुखार उतर जाता है।

—  जंगल सफारी , ट्रैकिंग या कैंप आदि के लिए जाते समय अपने साथ इसे जरूर ले जाएँ। Fitkari  बहुत काम आ सकती है।

इन्हें भी पढ़ें और लाभ उठायें  :

कौनसे स्पेशलिस्ट डॉक्टर को दिखाएँ

फाइबर क्यों जरुरी है भोजन में 

शादी के ये वचन प्रतिज्ञा याद हैं ना ?

अनुलोम विलोम प्राणायाम का सही तरीका

भ्रामरी प्राणायाम कैसे करें

मोच आने पर तो क्या करें 

सूर्य जल चिकित्सा के फायदे 

पेशाब कंट्रोल नहीं हो पाना 

पैर की नसें फूलने का कारण और उपचार 

घर खर्च कम करने के उपाय

बिना AC घर ठंडा रखने के उपाय

घर में मौजूद डस्ट माइट मिटाना क्यों जरुरी

चश्मा व लेंस के बारे में ये अवश्य जान लें

1 COMMENT