बादाम का हलवा बनाने की आसान विधि – Badam Ka Halwa Vidhi

1642

बादाम का हलवा Badam Ka Halwa बहुत लाभदायक होता है। बादाम में भरपूर मात्रा में प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट , खनिज , विटामिन तथा फाइबर आदि होते है।

शरीर के लगभग प्रत्येक अंग को बादाम से फायदा मिलता है। दिमाग , स्किन , हड्डीयाँ आदि पर इसका विशेष प्रभाव पड़ता है। बादाम के फायदे विस्तार से जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

बादाम का हलवा खाने से बादाम की पर्याप्त मात्रा शरीर को मिलती है। दिमागी काम अधिक करने वालों के लिए तथा विद्यार्थियों के लिए कुछ दिन लगातार नाश्ते में बादाम का हलवा खाना बहुत गुणकारी होता है।

इससे स्मरण शक्ति बढ़ती है तथा दिमाग को तरावट मिलती है। यदि सिरदर्द रहता हो तो उसमें भी आराम मिलता है। व्रत में बादाम का हलवा एक अच्छा फलाहार है।

प्रसूताओं ( नवजात शिशु की माता ) के लिए भी यह बादाम का  हलवा बहुत फायदेमंद होता है। इससे कमजोरी दूर होती है तथा एनर्जी लेवल बना रहता है। बादाम का हलवा बनाने की विधि इस प्रकार है :-

बादाम का हलवा बनाने की सामग्री

Badam Ka Halwa Samagri

बादाम                 250   ग्राम

दूध                    3 /4  कप

घी                     200   ग्राम

सूजी                       1   छोटा चम्मच ( टी स्पून )

शक्कर               250   ग्राम

पानी                   125   मिली ( लगभग एक कप )

केसर               10 -12 पत्ती

थोड़ी सी बादाम की कतरन , सजाने के लिए।

बादाम का हलवा बनाने की विधि – Badam Ka Halwa Recipe

—  बादाम को थोड़ा धोकर 8 -10 घण्टे के लिए पानी में भिगो दें ।

—  अब बादाम को पानी से निकाल कर दूसरे साफ गर्म पानी में 10 मिनिट के लिए डाल दें ।

—  गरम पानी में डालने से बादाम के छिलके आसानी से निकल जाते है। बादाम के छिलके निकाल दें।

—  ये बादाम ग्राइंडर में दूध के साथ पीस ले।

—  बादाम बहुत बारीक़ नहीं पीसे , बादाम का दरदरा पेस्ट बनना चाहिए।

—  एक पेन में घी गरम करें। इसमें सूजी डालकर धीमी आंच पर एक मिनिट भूने।

— अब इसमें बादाम का पेस्ट डालकर मध्यम आंच पर सेकें।

—  एक अलग बर्तन में  125  मिली पानी में  250  ग्राम शक्कर डाल कर शक्कर पूरी पिघलने तक गर्म कर लें ।

—  जब बादाम घी छोड़ दे तब इसमें केसर व शक्कर का गर्म पानी डाल दे।

—  पानी डालकर हलवा तब तक हिलाये जब तक घी न छोड़ दे।

—  बादाम का हलवा तैयार है।

—  केसर व बादाम कतरन से सजा कर गरमा गर्म सर्व करे।

—  इसके साथ पापड़ खाने से आनंद दुगना हो जाता है।

आप चाहे तो पौष्टिकता बढ़ाने के लिए दो चम्मच खसखस (पोस्त दाना , poppy seed ) भी डाल सकते है। खसखस डालने के लिए खसखस को बीन कर 2 -3 घण्टे पानी में भिगो दें। इसके बाद  2 -3 बार पानी से धोकर एकदम महीन पीस ले और बादाम वाले पेस्ट में मिलाकर सेक ले।

बादाम का हलवा बनाते समय की महत्वपूर्ण बातें

Badam halwa tips

—  बादाम का हलवा बनाने के लिये मामरा बादाम सबसे अच्छी मानी जाती है लेकिन यदि मामरा नहीं है तो आप कोई भी अच्छी क़्वालिटी की बादाम ले सकते हैं।

—  बादाम का हलवा बनाने से पहले सुनिश्चित कर ले की बादाम अच्छी हो।

—  वैसे तो हलवे के लिए बादाम को पहले से भिगोना अच्छा रहता हैं परन्तु यदि जल्दी में हों तो आप 2 -3 घण्टे पहले गर्म पानी में भी भिगो सकते है।

—  बादाम पीसते समय दूध की मात्रा थोड़ी कम या ज्यादा हो सकती है ,दूध की मात्रा इतनी होनी चाहिए की बादाम का गाढ़ा पेस्ट बन जाये।

—  बादाम के हलवे के लिए बादाम दरदरी पीसे , बादाम बहुत ज्यादा बारीक़ नहीं पीसनी चाहिए। बादाम बारीक़ पीसने से हलवा खिला खिला नहीं बनेगा।

—  हलवे को मध्यम व धीमी आंच पर लगातार हिलाते हुए पकायें अन्यथा हलवा नीचे चिपक सकता हैं। नॉन स्टिक में बना रहें हैं तब यह फ़िक्र नहीं होती है। पर इसमें भी हिलाने से बादाम की सिकाई अच्छी होती है।

—  पहले थोड़ी सूजी डालकर सेकने के बाद बादाम का पेस्ट डालने से हलवा आसानी से सिक जाता है व खिला खिला बनता है।

—  अगर आप व्रत के लिए  बादाम का हलवा बना रहे है तो सूजी नहीं डाले।

—  बादाम के हलवे में केसर की मात्रा थोड़ी अधिक या कम कर सकते है। आप चाहे तो थोड़ा बहुत कलर का उपयोग भी कर सकते है।

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

हरीरा बनाने की विधि / खसखस बादाम के लडडू / मेथी के लडडू / बाजरे की राबड़ी / बादाम पिस्ते वाला दूध / तिल पपड़ी / बादाम का हलवा / गुड़ मूंगफली की चिक्की / गाजर का हलवा / तिल गुड़ के लडडू / मूंग दाल का हलवा / गुड़ अजवाइन पाक / आंवले का मुरब्बा /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here