चक्कर आने का कारण तथा एक्सरसाइज – Vertigo Reason and exercise

961

चक्कर आना एक आम बात है जिसे वर्टिगो Vertigo कहते है। जब आप खुद नहीं हिल रहे हों तो भी आपको आप पास का दृश्य हिलता हुआ महसूस हो या खुद को हिलता हुआ महसूस करें तो यह चक्कर आना कहलाता है।

जिन्हें चक्कर आते हैं वे सामान्य तौर पर यह कहते हैं कि उन्हें सब कुछ घूमता हुआ सा महसूस होता है। वैसे आम भाषा में कई प्रकार की चीजों को चक्कर आना कह देते हैं। परन्तु सभी अनुभूति चक्कर नहीं होती। जैसे आँखों के आगे अँधेरा आना या बेहोश होकर गिर जाने जैसा महसूस होना आदि चक्कर नहीं हैं।

चक्कर आने Vertigo के कई कारण हो सकते हैं जिसमे से सबसे ज्यादा कोमन कारण BPPV ( Benign paroxysmal positional vertigo ) होता है। यह कान में मौजूद बैलेंस प्रणाली में विशेष प्रकार के बदलाव के कारण होता है। इसे एक्सरसाइज की मदद से आसानी से ठीक किया जा सकता है।

चक्कर आने के अन्य कारण जैसे कान में इन्फेक्शन आदि भी हो सकते हैं।

चक्कर आना बीपीवीवी के कारण – BPVV

यह कान के अंदरूनी हिस्से में होने वाली समस्या है। कान के तीन हिस्से होते हैं – बाहरी कान , मध्यम कान और आतंरिक कान। आतंरिक कान के एक हिस्से से बैलेंस प्रणाली जुडी होती है। यह सुनने की प्रणाली का हिस्सा नही होता।  इसकी मदद से हमें चलने फिरने , दौड़ते समय या कूदते समय शरीर का बैलेंस बनाये रखने में मदद मिलती है।

इस बैलेंस प्रणाली में कैल्शियम के क्रिस्टल एक विशेष प्रकार से गति करते रहते हैं। ये क्रिस्टल दिमाग को संकेत पहुंचाते हैं। सिर में झटका लगने या चोट से इनकी कार्यप्रणाली में अवरोध या बदलाव पैदा होने लगता है। इससे दिमाग को पहुँचने वाले संकेत गड़बड़ा जाते हैं। जिसके कारण चक्कर आने लगते हैं। इसे BPVV कहा जाता है। ये चक्कर बीस सेकंड से एक मिनट तक महसूस हो सकते हैं।

एप्ली मनुवर नामक आसान सी एक्सरसाइज करने से बीपीवीवी BPVV से ग्रस्त अधिकतर लोगों को आराम मिल जाता है। यह एक्सरसाइज इस प्रकार की जाती है –

एप्ली मनुवर एक्सरसाइज

Epley maneuver exercise

— सीधी सतह पर बैठ जाएँ। पैर सीधे कर लें।

— गर्दन को 45 डिग्री पर दायीं तरफ घुमा लें।

— इसी स्थिति में लेट जाएँ। इस स्थिति में 30 सेकंड रहें।

— इसके बाद धीरे धीरे गर्दन को बाईं तरफ 90 डिग्री घुमा लें।

— इसके बाद बाईं बाएँ करवट ले लें। गर्दन घूमी हुई ही रखें।

— अब धीरे से बैठने वाली स्थिति में आ जाएँ।

— अब गर्दन सीधी कर लें।

— इसी तरह दूसरी तरफ दोहराएं।

यह एक्सरसाइज तीन बार रिपीट करें। इस एक्सरसाइज को करते समय हो सके तो किसी की मदद ले लेनी चाहिए जो आपको सहारा देकर यह एक्सरसाइज करवा दे। इसे करते समय थोड़ा चक्कर आ सकता है। BPVV के लिए यह अत्यंत प्रभावी एक्सरसाइज है।

ब्रांड डेरोफ़ एक्सरसाइज

Brandt Daroff exercise

यह आसान एक्सरसाइज बिना किसी की मदद के भी कर सकते हैं लेकिन इसके बाद कुछ देर ज्यादा चक्कर महसूस हो सकते हैं इसलिए इसके तुरंत बाद ड्राइविंग नहीं करनी चाहिए।

यह एक्सरसाइज इस प्रकार की जाती है –

— एक बेड पर पैर लटका कर बैठ जाएँ।

— गर्दन को दायें घुमा लें।

— इस स्थिति में बायीं तरफ लेट जाएँ पैर मुड़े हुए ही रहेंगे। गर्दन नीचे बेड पर टिक जाएगी जैसे बिना तकिये लेटे हों। इस स्थिति में 30 सेकंड रहें।

— इसके बाद बैठे हो जाएँ।

— गर्दन वापस सीधी कर लें।

— 30 सेकंड के बाद यही प्रक्रिया दूसरी तरफ करें। यानि गर्दन बायीं तरफ घुमा कर दाएँ साइड लेटें।

यह एक्सरसाइज 5 बार दोहराएँ। इसे दिन में दो बार करें। सप्ताह में दो से तीन बार करें।

एक्सरसाइज के अलावा इन बातों का भी ध्यान रखना चाहिए –

विटामिन डी की कमी के कारण BPVV के लक्षण बढ़ सकते हैं। अतः विटामिन D का लेवल चेक करवा लेना चाहिए तथा उपयुक्त उपचार कर लेना चाहिए। शराब के कारण भी चक्कर में बढ़ोतरी हो सकती है। अतः शराब का सेवन नहीं करना चाहिए।

चक्कर आना कान में इन्फेक्शन , माइग्रेन या अन्य बीमारी के कारण भी हो सकता है। अतः डॉक्टर से परामर्श अवश्य कर लेना चाहिए ताकि सही वजह पता चल सके और सही उपचार हो सके।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

मेटाबोलिज्म का मोटापे से क्या सम्बन्ध है

सूर्य जल चिकित्सा का तरीका और फायदे 

क्या अंडा शाकाहारी लोग भी खा सकते हैं 

पपीता खाने के फायदे नुकसान 

गाय के दूध में कौनसी आश्चर्यजनक बात होती है

रोजाना केला खाने से क्या होता है  

दीमक मिटाने के घरेलु उपाय

पत्नी को खुश कैसे रखें बिना पैसे खर्च किये 

डाइटिंग कैसे करें पतला होने के लिए 

आपके खाने में फाइबर नहीं होने के नुकसान