एक्सरसाइज शुरू करने से पहले ध्यान रखें – Exercise Can Be Dangerous-

462

एक्सरसाइज करना बहुत फायदेमंद है , लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी है वर्ना फायदे की जगह नुकसान हो सकता है। बिना जानकारी के आप खुद को खतरे में डाल सकते है। जानिए वो खतरे क्या है और उनसे कैसे बचें।

आपको एक्सरसाइज शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए यदि आपको –

  • चलने फिरने से या किसी भी शारीरिक हरकत ( physical movement ) से सीने में दर्द होता हो और साँस लेने में दिक्कत होती हो।
  • पिछले महीने बिना किसी वजह से सीने में दर्द ( Chest Pain ) हुआ हो।
  • कभी बेहोशी हुई हो या चक्कर आते हो या आँखों के आगे अँधेरा आता हो।
  • ब्लड प्रेशर (  Blood pressure ) या हार्ट की या डायबिटीज़ की दवा चल रही हो।
  • घुटने में या पीठ में या किसी भी ज़ोड़ में ( joint ) दिक्कत हो.
  • आपको डॉक्टर ने बिना पूछे एक्सरसाइज़ करने से मना किया हो।

इन सभी स्थितियों में डॉक्टर से सलाह लेकर ही एक्सरसाइज़ ( exercise ) शुरू करनी चाहिए अन्यथा नुकसान हो सकता है।

इसके अलावा एक्सरसाइज़ ( exercise ) करने की क्षमता धीरे धीरे बढ़ानी चाहिए। पहले दिन ही ज्यादा  एक्सरसाइज़ कर लेने से परेशानी हो सकती है। और एक्सरसाइज़ करने के उचित साधनो का उपयोग करके आप चोट से बचाव कर सकते है।

एक्सरसाइज सम्बन्धी टिप्स – Exercise Tips

—  आपके कपड़े आराम दायक ( comfortable ) होने चाहिये। ऐसे होने चाहिए जो पसीना सोख सकें तथा जिनमें त्वचा या स्किन को हवा लग सके । बहुत ढीले या बहुत टाइट कपडे नहीं पहने । प्लास्टिक या रबर या सिंथेटिक वस्त्रों के उपयोग से डिहाइड्रेशन या अधिक गर्मी की समस्या हो सकती है।

कसरत

—  जूते ( shoes ) उचित प्रकार के होने चाहिए। आजकल बाजार में वाकिंग , जोगिंग और रनिंग के लिए अलग अलग जूते मिलते है। आप जिस तरह की एक्सरसाइज़ ( exercise ) को करना पसंद करते हो उसी तरह के जूते खरीदें।

जूते

—  यदि साईक्लिंग करना  चाहते हो तो हेलमेट , स्केटिंग करना चाहते हो तो घुटने और कोहनी के पैड , धुप के लिए सनग्लासेससनस्क्रीन लोशन आदि का उपयोग जरूर करना चाहिए।

—  नींद पूरी होनी चाहिए ताकि मांसपेशियों को आराम मिल जाए। ये जरूरी है। नींद नहीं आती हो तो नींद आने के उपाय करने चाहिए।

—  प्रोटीन युक्त डाइट लेनी चाहिए ताकि वजन भी नियंत्रण में रहे और मसल्स में जल्दी ताकत आये।

एक्सरसाइज़ (exercise) करते समय खतरे के कुछ संकेत मिलने पर एक्सरसाइज़ तुरंत रोक देनी चाहिए।

एक्सरसाइज करने से खतरे के संकेत –

—  आपके सीने में बांई ओर या बीच में दबाव महसूस हो और साँस लेने में तकलीफ महसूस हो रही हो। बाँई तरफ गर्दन , कंधे या भुजा में दर्द होने पर भी सतर्क हो जाना चाहिए। ये दिल की बीमारी हो सकती है। कोलेस्ट्रॉल व अन्य टेस्ट करवाने चाहिए।Exercise pain

—  आपके हाथ पैर ठंडे हो गए हों और असहज महसूस कर रहे हों।

—  आपकी मांस पेशियों में खिंचाव आने से तेज दर्द हो रहा हो।

—  आपके जॉइंट्स में या हड्डी में दर्द बहुत बढ़ गया हो।

ऐसी परिस्थितियों में एक्सरसाइज़ रोक कर मदद लेनी चाहिए और डॉक्टर से चेक अप करवाना चाहिए।

एक्सरसाइज के लिए जिम कैसा होना चाहिये 

Suitable Jim for exercise

—  जिम में इमरजेंसी के समय काम आने वाले सभी साधन होने चाहिए।

—  जिम में ट्रेनर या इंस्ट्रक्टर अनुभवी होने चाहिए और उनको इमरजेंसी के समय परिस्थिति संभालना आना चाहिए।

—  अपनी शारीरिक अवस्था से ट्रेनर को अवगत करा देना चाहिए ताकि ट्रेनर आपको आपके लिए उचित एक्सरसाइज़ ही करने को कहें।

—  जब तक मशीन पर एक्सरसाइज़ करने की विधि ट्रेनर से अच्छी तरह न समझ लें तब तक मशीन पर एक्सरसाइज़ नहीं करनी चाहिए।

गलत तरीके और गलत पोस्चर के कारण बहुत लोगों को चोट लगती है।

अपने शरीर को एक्सरसाइज़ के बाद कई चीजों की जरुरत होती है उनका भी खास खयाल रखना चाहिए जैसे उचित डाइट , रेस्ट , नींद आदि। छोटी मोटी चोट या दर्द को भी मामूली समझ कर बढ़ने का खतरा मोल नहीं लेना चाहिए।

इन सब बातों का ध्यान रखेंगे तो एक्सरसाइज़ से होने वाले सभी फायदों का आनंद उठा सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here