गंगा स्तुति जय जय भगीरथ नंदिनी भावार्थ सहित – Ganga stuti with meaning

24

गंगा स्तुति माँ गंगा की आराधना का उचित माध्यम है । यहाँ गंगा स्तुति के दोहे तथा उनके अर्थ देखें और गंगा माँ की कृपा प्राप्त करें ।

गांगम् वारि मनोहारि मुरारिचरणच्युतम् ।
त्रिपुरारिशिरश्चारि पापहारि पुनातु माम् ॥

अर्थ : गंगा जी का जल, जो मनोहारी है , विष्णु जी के श्रीचरणों से जिनका जन्म हुआ है , जो त्रिपुरारी के शीश पर विराजित हैं, जो पापहारिणी हैं, हे मां तू मुझे शुद्ध कर !

तुलसीदास जी रचित गंगा स्तुति

Ganga stuti by Tulsidas ji

जय जय भगीरथ नंदिनी , मुनि – चय चकोर – चंदनी ,
नर – नाग – विबुध – बंदिनी , जय जन्हू बालिका ।

विष्णु – पद सरोजरासी , ईस – सीस पर बिभासि ,
त्रिपथगासि पुण्यराशि ,  पाप – छालिका ॥१॥

अर्थ : हे भगीरथ नंदिनी , तुम्हारी जय हो , जय हो । तुम मुनियों के समूह रूपी चकोरों के लिए चंद्रिका रूप हो । मनुष्य , नाग और देवता तुम्हारी वंदना करते हैं । हे जन्हू की पुत्री , तुम्हारी जय हो ।

तुम भगवान विष्णु के चरण कमल से उत्पन्न हुई हो , शिवजी के मस्तक पर शोभा पाती हो । स्वर्ग , भूमि और पाताल इन तीनों मार्गों से तीन धाराओं में होकर बहती ही । पुण्यों की राशि और पापों को धोने वाली हो ।

विमल विपुल बहसि बारी , शीतल त्रयताप – हारी ,
भँवर बर बिभंगतर , तरंग – मालिका ।

पुरजन पूजोपहार , शोभित शशि धवलधार  ,
भंजन – भव – भार , भक्ति – कल्पथालिका ॥२॥

अर्थ : तुम अगाध निर्मल जल धारण किए हो , वह जल शीतल है और तीनों तापों को हरने वाला है । तुम सुंदर भँवर और अति चंचल तरंगों की माला धारण किए हो ।

नगर वासियों ने पूजा के समय उपहार चढ़ाये उनसे चंद्रमा के समान तुम्हारी धवल धारा शोभित हो रही है । यह धारा संसार के जन्म मरण रूप भार का नाश करने वाली तथा भक्ति रूपी कल्पवृक्ष की रक्षा के लिए थाल्हा रूप है ।

निज तटबासी बिहंग , जल – थर – चर पशु – पतंग
कीट , जटिल तापस , सब सरिस पालिका ।

तुलसी तब तीर तीर , सुमिरत रघुवंश बीर ,
बिचरत मति देहि , मोह – महिष – कालिका ॥३॥

अर्थ : तुम अपने तीर पर रहने वाले पक्षी , जलचर , पशु , पतंग , कीट और जटाधारी तपस्वी आदि सबका समान भाव से पालन करती हो ।

हे मोह रूपी महिषासुर को मारने के लिए कालिका रूप गंगाजी , मुझ तुलसीदास को ऐसी बुद्धि दो जिससे वह श्री रघुनाथ जी का स्मरण करते हुए तुम्हारे तीर पर विचरा करे ।

Ganga Vandana – गंगा वंदना

पापापहारि दुरितारि तरङ्गधारि , शैलप्रचारि गिरिराजगुहाविदारि |

झङ्कारकारि हरिपादरजोपहारि , गाङ्गं पुनातु सततं शुभकारि वारि ||

जय गंगा मैया !!!

इन्हे भी देखें और लाभ उठायें :

सुन्दर कांड का पाठ नियम , सही तरीका और लाभ

सोमवती अमावस्या व्रत पूजन और उद्यापन विधि 

सत्यनारायण भगवान की आरती 

गणेश वंदना 

माँ सरस्वती की वंदना , भजन और आरती 

रुद्राक्ष के फायदे और असली की पहचान

श्रीयंत्र का पूजन , उसे सिद्ध करना और आश्चर्यजनक लाभ

स्वस्तिक किस प्रकार आपको लाभ दिलवा सकता है

पूजा में शंख का महत्त्व

पूजा में कौनसे फूल लें , कौनसे नहीं लें 

चौथ माता की कहानी बारह महीने के व्रत वाली 

आरती का सही तरीका