हरे धनिये की चटपटी चटनी – Green Chutni of Coriander Leaves

398

हरे धनिये की चटनी Coriander Leaf Chutni सबसे ज्यादा उपयोग में ली जाने वाली चटनी हैं। इसे बनाना जितना आसान होता है , यह उतनी ही अधिक फायदेमंद होती है। हरे धनिये की चटनी खाने का स्वाद बढ़ा देती है।

इससे भोजन में सम्पूर्णता आती है। यह परांठा , सेंडविच , पकौड़ी व चाट आदि का स्वाद दुगना कर देती है। हरे धनिये की खुशबू लाजवाब होती है। इसे गार्निशिंग में या चटनी बना कर काम में लिया जाता है।

हरे धनिये की चटनी

कृपया ध्यान दें : किसी भी लाल रंग से लिखे शब्द पर क्लीक करके उसके बारे में विस्तार से जान सकते हैं। 

धनिये की पत्ती से बनने वाली यह चटनी बहुत लाभदायक चटनी है। धनिया पत्ती आयरन , मेग्नेशियम , विटामिन K तथा फाइबर से भरपूर होती है। इसमें लाभदायक फीटो न्यूट्रिएंट्स तथा फ्लेवेनॉयड्स भी पाए जाते है ।

यह शरीर को ठंडक प्रदान करती है। इसके नियमित उपयोग से दिमाग की शक्ति बढ़ती  है , खून की कमी दूर होती है , पेशाब में जलन और यूरिन इन्फेक्शन में इसके उपयोग से लाभ होता है। यह पाचन तंत्र को मजबूती देती है, मुँह के छाले मिटाती है  तथा महिलाओं को मासिक धर्म की परेशानी में आराम दिलाती है।

हरे धनिये की चटनी बनाने की विधि

हरे धनिये की चटनी बनाने की सामग्री  –  coriander chutni  samagri

धनिया                                  1  कप

हरी मिर्च                               3   नग

जीरा                              1/2  चम्मच

अदरक                                 1  इंच

नीम्बू का रस                        2  चम्मच

लाल मिर्च पाउडर               1/2  चम्मच

काला नमक                     1/4  चम्मच

नमक                             स्वादानुसार

पानी                               1/2  कप

हरे धनिये की चटनी बनाने की विधि – Coriander Leaf Chutny Vidhi

—  सबसे पहले ताजा पत्ती वाला धनिया लेकर इसके पत्ते डंडी से तोड़कर अलग कर लें। पीले या मुरझाये पत्ते ना लें।थोड़ी बहुत बिल्कुल पतली डंडी साथ में ली जा सकती है।

—  इन हरे धनिये के पत्तों को अच्छे से धो लें ताकि इनमे लगी मिट्टी आदि साफ हो जाये। धनिये धोने के लिए एक बड़े बर्तन में पानी भरकर धनिया पत्ती इसमें डाल दें। तैरती हुई पत्तियों को थोड़ा हिलाकर सावधानी पूर्वक बाहर निकाल लें। मिट्टी होगी तो पानी में नीचे रह जाएगी।

अब यह गन्दा पानी फेंक दें और इसमें नया साफ पानी भरकर वापस धनिया पत्ती इसमें डाल दें। यह प्रक्रिया दो या तीन बार करने से पत्तियां साफ हो जाती हैं। इन्हे काट कर रख लें।

—  अदरक का छिलका निकाल कर छोटे टुकड़े कर लें।

—  हरीमिर्च को धोकर दो तीन टुकड़े में काट लें।

—  ग्राइंडर में धुली व कटी हुई धनिया पत्ती  , हरी मिर्च  और अदरक डालें। इसमें जीरा , काला नमक , सादा नमक , लाल मिर्च पाउडर डालकर अच्छे से पीस लें ।

—  अब इसमें जरूरत के अनुसार थोड़ा थोड़ा करके पानी डालकर बारीक पीस लें ।

—  इसमें नीबू का रस मिला लें।

—  धनिया की चटनी तैयार हैं।

हरे धनिये की चटनी के वेरीएशन

—  धनिए की चटनी में नींबू की जगह दूसरी खटाई भी डाल सकते हैं जैसे अमचूर या टमाटर या कैरी या अनार आदि।

—  चटनी में भूनी हुई मूंगफली के दाने डाले जा सकते हैं। इससे धनिये की चटनी का रंग हल्का हरा रहता हैं जो कई लोगों को बहुत पसंद आता है। साथ ही इससे मूंगफली के पौष्टिक तत्व भी मिल जाते हैं।

—  हरी चटनी में दो बड़े चम्मच दही डालकर मिला सकते हैं। इससे चटनी का रंग व स्वाद दोनों बढ़ जाते हैं।

—  हरी चटनी में चार पांच कली छिलका निकालकर लहसुन भी मिला सकते हैं।  इससे इसका स्वाद बढ़ जायेगा।

हरी चटनी के टिप्स -Tips

—  धनिये को साफ करके अच्छी तरह धोना जरूरी हैं। इसमें मिट्टी या गन्दगी हो सकती है।

—  हरी मिर्च यदि ज्यादा तीखी हो तो मिर्च के बीज निकाल देने चाहिये।

—  आधा चम्मच चीनी डालने से चटनी अधिक स्वादिष्ट बनती है।

—  हरे धनिये की चटनी फ्रिज में रखकर दो तीन दिन तक उपयोग में ले सकते हैं।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

लहसुन की चटनियाँ  / नींबू की चटनी  / अमरुद की चटनी / टमाटर की सॉस मार्केट जैसी  / ताहिनी सॉस  / केर सांगरी की सब्जी / हरी मिर्च के टपोरे / ऑरेंज बार नारियल के लडडू / मूंग दाल का हलवा / पनीर कैसे बनायें नर्म और स्पंजी / पूरन पोली / संतरे का स्क्वैश /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here