जींस धोने तथा देखभाल करने का तरीका – Jeans washing and care

310

जींस आज के जमाने का एक जरुरी वस्त्र बन गया है। पुरुष , महिलाएं , लड़के , लड़कियां सभी शौक से इसे पहनते हैं। यह आरामदायक होने के साथ मॉडर्न लुक और स्टाइल देती है। आइये जानें जीन्स कैसे धोएँ , कैसे सुखाएँ , ड्राई क्लीन करवायें या नहीं जैसी बातें।

केजुअल ड्रेस के रूप में जींस अत्यधिक पसंद की जाती है। घूमने फिरने जाना हो , खरीदारी करने मार्केट जाना हो या किसी पार्टी फंक्शन में जीन्स का कम्फर्ट और लुक लाजवाब होता है । जींस के फिट , डिज़ाइन और कलर में कई प्रकार की चॉइस मिल जाती है।

जींस के फिट , स्टाइल और कलर

Jeans colour , fit and style konse

जींस कई तरह के डिजाईन , रंग और फिट में उपलब्ध होती है। अपनी पसंद या उम्र के अनुसार लोग इन्हें खरीदते हैं। इसके कई प्रकार के फिट प्रचलित हैं जैसे बूट कट , ड्राप क्रोच , रेगुलर , बैगी , जोगर , स्लिम या स्किन फिट , लो वेस्ट इत्यादि।

डिज़ाइन की बात करें तो patched jeans ,  Rugged jeans या Riped jeans का चलन इस समय अधिक है। इसमें जीन्स फटी हुई नजर आती है पर लोग बड़े शौक से इसे पहनते हैं।

अधिकतर ब्लू , ब्लैक और ग्रे कलर की जींस पसंद की जाती है। शुरुआत में जीन्स को कलर करने के लिए प्राकृतिक नीले रंग Indigo ( नील ) का उपयोग किया जाता था जो खेती के माध्यम से प्राप्त होता था । बाद में रासायनिक रंगों का उपयोग ज्यादा होने लगा जो सस्ता होता था।

केमिकल से होने वाले नुकसान को देखते हुए तथा ऑर्गनिक और प्राकृतिक चीजों की तरफ झुकाव बढ़ने के कारण इन दिनों नेचुरल कलर Indigo वाली जीन्स की चॉइस लोग वापस करने लगे हैं।

जीन्स कौनसे कपड़े से बनती है

Jeans made of which cloth

जीन्स डेनिम कपड़े से बनी होती है जो पहले प्योर कॉटन से बनता था। अब स्ट्रेच तथा कम्फ़र्ट लाने के लिए उसे सिंथेटिक यार्न मिक्स करके बनाया जाता है। कपड़े की विशेष बुनाई के कारण यह बहुत मजबूत होता है जो लम्बे समय तक चलता है। इसी उद्देश्य के लिए यानि रफ टफ पहनने के लिए इसे बनाया गया था।

इसे भी पढ़ें : कपड़े कितने तरह के , उनके फायदे नुकसान तथा फाइबर ( धागे ) के प्रकार

पहनते पहनते घिसने के निशान बनने से यह ज्यादा शानदार दिखती है। जींस कुछ जगह से फेड होकर बहुत अच्छा लुक देती है। अब जीन्स को विशेष तरीकों से पहले से फेड करके या घिस कर तैयार किया जाता है फिर बेचा जाता है।

जीन्स की देखभाल कैसे करें

Jeans ki dekhbhal , care and wash

जीन्स सस्ती नहीं होती इसलिए आप चाहेंगे की जिस अवस्था में पसंद करके आपने जींस खरीदी थी वो उसी कंडीशन में लम्बे समय तक रहे ताकि आप उसे पहनने का मजा ले सकें। अगर रंग बदरंग हो जाये , दाग धब्बे लग जाये या फिटिंग ख़राब हो जाये तो जींस का मजा चला जाता है।

( इसे भी पढ़ें : कपड़े पर लगे चाय कॉफी , पैन , हल्दी आदि के दाग धब्बे कैसे मिटाएँ )

जींस को लम्बे समय तक काम लेने के लिए उसकी देखभाल सही तरीके से करना जरुरी होता है। आइये जानें सही देखभाल के लिए जींस कैसे धोनी चाहिए , किससे धोनी चाहिए , कितनी बार धोनी चाहिए और कैसे सुखानी चाहिए।

जहाँ तक संभव हो कम धोएं

जींस को रोजाना धोने की जरुरत नहीं होती है। ज्यादा धोने से उसका रंग बदल सकता है जो शायद आपको पसंद ना आये।  कुछ लोगों ज्यादा ही सफाई प्रिय होते हैं , पर जीन्स थोड़ी गन्दी होने पर भी अच्छी दिखती है।

कुछ लोग जींस को नीचे से फोल्ड कर लेते हैं। ऐसे में नीचे लगाए हुए फोल्ड को खोल कर जींस धोनी चाहिए ताकि फोल्ड में से मिट्टी और गन्दगी निकल जाये।

जीन्स को गर्म पानी से ना धोएं

जींस को धोना पड़े तो ठन्डे पानी में ही धोना चाहिए। उसे धोने से पहले उलट लेना चाहिए यानि बाहर का कपड़ा अंदर और अंदर का कपड़ा बाहर कर लेना चाहिए। जीन्स को इसी उलट अवस्था में सुखाना चाहिए। नई जींस को पहली बार धोने से पहले दो चम्मच नमक घुले पानी में भिगो देना चाहिए इससे जीन्स का रंग जल्दी फेड होने से बचता है।

हाथ से धोएँ , मशीन में नहीं

जींस को मशीन में धोना या ब्रश लगा कर घिसना ठीक नहीं होता है। उसे घंटे भर के लिए आधी बाल्टी में आधा चम्मच माइल्ड डिटर्जेंट डालकर पानी में भिगो दें। इसके बाद ठन्डे पानी से धो लें। लटका कर सुखा लें। जींस की इतनी सफाई बहुत होती है। जींस धोना जितना मुश्किल काम दिखता है उतना होता नहीं है।

हवा में लटका कर सुखाएं

जींस को ड्रायर में सुखाने के बजे लटका कर सुखाना चाहिए । रंग ना उड़े इसके लिये उसे धूप में ना सुखाएं। हो सकता है कि धोने के बाद जींस थोड़ी कड़क हो जाये। वो पहनने से वापस सोफ्ट हो जाती है। सुखाने के लिए धोने के बाद बटन और चेन लगा दें , फिर बेल्ट वाली जगह क्लिप लगा कर लटका कर सुखा लें।

ब्लीच का उपयोग न करें

जींस धोने के लिए ब्लीच का उपयोग नहीं करना चाहिए। कुछ लोग सफ़ेद जीन्स को धोने के लिए ब्लीच का उपयोग कर लेते हैं लेकिन इससे सफ़ेद जीन्स पीली या ऑफ़ व्हाइट हो जाती है। ब्लीच के कारण डेनिम का ना सिर्फ रंग बल्कि कपड़ा भी ख़राब हो सकता है।

जींस को ड्राईक्लीन ना करवाएं

हो सकता है कि आप सोचें कि ड्राई क्लीनिंग से जींस अच्छे और सुरक्षित तरीके से साफ हो जाएगी। लेकिन ये अवश्य जान लें कि ड्राई क्लीन होकर आने के बाद जीन्स साफ सुथरी तो दिखेगी लेकिन ड्राईक्लीन में काम आने वाले केमिकल जींस के कपड़े को धीरे धीरे कमजोर कर देते हैं। अतः नियमित रूप से जीन्स की ड्राई क्लीनिंग नहीं करवानी चाहिए।

( इसे भी पढ़ें : ड्राई क्लीन कैसे होती है और कौनसे कपड़े करवाने चाहिए )

जीन्स पर दाग या धब्बा

आपकी प्रिय जीन्स पर किसी भी चीज का दाग लग जाये तो जहाँ वह दाग लगा है उतनी सी जगह धोकर दाग निकालने की कोशिश करनी चाहिए।  पूरी जींस धोने की जरुरत नहीं होती। इसके लिए गीला कपड़ा और साबुन काम में ले सकते हैं।

जींस के साथ दिए गए इंस्ट्रक्शन पढ़ें

जीन्स पर लगे केयर इंस्ट्रक्शन लेबल को देखें , समझ ना आये तो पूछ कर कन्फर्म कर लें। लेबल पर जींस धोने , आयरन करने , इंस्ट्रक्शन के लिए लेबल पर कुछ विशेष प्रकार के चिन्ह बनाये हुए हो सकते हैं। इन्हें समझें और फोलो करें।

डार्क कलर की जीन्स खरीद रहे हैं तो देख लें कि उसे पहनने से पहले धोने के निर्देश तो नहीं दिए गए हैं। यदि ऐसा है तो पहले उसे धो लें फिर पहनना शुरू करें।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

जन्म प्रमाण पत्र ( Birth Certificate ) कहाँ और कैसे बनवाएं

मुल्तानी मिटटी का उपयोग कैसे करें स्किन और बालों पर

टैटू बनवाने से पहले कौनसी बातों की जानकारी होना जरुरी

भोजन में अजीनोमोटो हो तो क्या नुकसान हो सकता है

बर्फ को कभी इस फायदेमंद तरीके से काम में लिया है ?

सपने कब और क्यों आते है तथा उनका क्या मतलब निकालें 

कीटो जनिक डाइट क्या होती है उससे वजन कम कैसे होता है 

सोने के गहनों में कैरेट का सही मतलब क्या होता है 

सिंथेटिक कपड़े पहनने से क्या नुकसान होते हैं 

डॉक्टर की डिग्रियों का क्या मतलब होता है