कांसे के बर्तन काम मे लेने के फायदे नुकसान – Bronze benefits and side effects

37

कांसे के बर्तन के बारे मे आपने जरूर सुन होगा और कुछ लोगों ने इनका उपयोग भी किया होगा । प्राचीन काल से ही कांसे से बने बर्तन काम मे लिए जाते रहे हैं । एक समय था जब पीतल , कांसा और मिट्टी के बर्तन ही रसोई घर मे दिखाई देते थे । लेकिन अब इनका स्थान स्टील प्लास्टिक और कांच के बर्तनों ने ले लिया हैं ।

कहा जाता है कि कांसे के बर्तन मे खाना खाने से शरीर को बहुत लाभ मिलता है । आइए जानते हैं कि कांसा क्या होता है और कांसे के बर्तन के फायदे नुकसान क्या हैं ।

कांसा धातु तांबा ( Copper )और रांगा ( Tin ) को मिलाकर बनाई जाती है । कांसा बनाने के लिए 8 भाग तांबा और 2 भाग रांगा लिया जाता है । तांबा और कांसे से बनी धातु फूल भी कहलाती है । अंग्रेजी मे इस ब्रान्ज़ ( bronze ) कहते हैं । कुछ लोग पीतल को भी ब्रान्ज़ कहते हैं ।

कांसे और पीतल मे क्या फर्क होता है

पीतल बनाने के लिए तांबा Copper और जस्ता Zinc काम मे लिया जाता है । जबकि कांसा बनाने के लिए तांबा Copper और रांगा Tin उपयोग मे लाया जाता है ।

पीतल के बर्तन पर कलई करके इनकी उपयोगिता बढ़ाई जाती है । कांसे के बर्तन पर कलई नहीं की जाती ।

पीतल के बर्तन मे पानी भरकर लंबे समय तक रखा जा सकता है । कांसे के बर्तन मे कुछ देर ही खाने पीने की चीजें रखी जाती हैं ।

पीतल के बर्तन की आवाज और कांसे के बर्तन की आवाज मे बहुत फर्क होता है ।

कांसे के बर्तन के फायदे

आयुर्वेद के अनुसार कांसे मे मौजूद तांबा और रांगा दोनों धातु शरीर के लिए लाभदायक होती हैं ।

कांसे के बर्तन मे बेक्टीरिया , वाइरस आदि को नष्ट करने की क्षमता होती है ।

कांसे के बर्तन का उपयोग करने से एसिडिटी तथा कब्ज की परेशानी मे आराम मिलता है ।

इससे खून साफ होता है तथा त्वचा रोगों से बचाव होता है ।

पाचन ठीक रहता है । लीवर और स्प्लीन को स्वस्थ रखने मे कांसा धातु सहायक होती हैं ।

कांसा मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है ।

यह इम्यूनिटी अर्थात रोग प्रतिरोधक क्षमता मे सुधार करता है ।

आयुर्वेद मे कांसे की भस्म बनाई जाती है । इसका उपयोग आयुर्वेद की कई दवाओं मे किया जाता है । इसे कृमि रोग , चरम रोग , कुष्ठ रोग , नेत्र रोग आदि की चिकित्सा मे इस विशेष तौर पर लाभकारी माना जाता है ।

सामाजिक समारोह जैसे शादी विवाह आदि के मौके पर कांसे के बर्तन मे धन धान्य भरकर देने का प्रचलन है । कांसे के बर्तन जैसे थाली , गिलास , कटोरी आई भेंट स्वरूप दिए जाते है ।

नई बहु का जब गृह प्रवेश करवाया जाता है तो कांसे की थाली से तिलक किया जाता है । धार्मिक कार्यों मे कांसे के पात्र जैसे थाली लोटा आदि का उपयोग शुभ माना जाता है ।

मंदिर मे घंटे कांसे के बनाए जाते हैं । कांसे से बने घंटे की आवाज सकारात्मक वातावरण पैदा करती है तथा मन को प्रसन्न करने वाली होती है ।

कांसे के बर्तन के नुकसान

कांसे के बर्तन मे खट्टी चीजें नहीं रखनी चाहिए । नीबू , इमली , टमाटर आदि युक्त खाद्य पदार्थ कांसे के बर्तन मे रखने से उनमें नुकसानदेह तत्व पैदा हो सकते हैं ।

दूध , दही , घी और मक्खन कांसे के बर्तन मे नहीं रखने चाहिए ।

कांसे के बर्तन मे थोड़े समय के लिए खाने पीने की चीजें रखकर उपयोग मे लाना चाहिए । लंबे समय तक खाने पीने की चीजें भरकर नहीं रखनी चाहिए ।

कांसे के बर्तन को सीधा आग पर नहीं रखना चाहिए । इसमे मौजूद राँगा अपेक्षाकृत कम तापमान पर ही पिघलने लगता है ।

हमारी संस्कृति मे कई लाभदायक चीजें शामिल है । बदलाव अच्छा होता है लेकिन परंपरा मे शामिल चीजों का ध्यान भी जरूर रखना चाहिए ।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें 

सिल्वर फिश घर मे क्यों नहीं होनी चाहिए 

घर मे सब्जी कौनसी और कब उगायें आसानी से 

घर मे नाली या सिंक के पास उड़ती भूरी मक्खी को कैसे मिटायें

कौनसे डॉक्टर के पास जायें किसको दिखायें 

श्री यंत्र का पूजन करके लक्ष्मी की कृपा कैसे प्राप्त करें

नीम्बू का रस कैसे प्रिजर्व करें

पानी कब कैसे कितना पियें 

अश्वगंधा एक शानदार जड़ी बूटी का लाभ कैसे उठायें 

गिलोय की बेल को कैसे काम मे लें उपचार के लिए 

बुरे सपने या अच्छे सपने का क्या अर्थ समझें

सुंदर कांड का पाठ तरीका , नियम और लाभ

पत्नी को कैसे खुश रखें बिना पैसे खर्च किए