मिक्सर ग्राइंडर कौनसा खरीदें और क्या ध्यान रखें – Mixer Grinder buying tips

221

मिक्सर ग्राइंडर ( मिक्सी ) से सभी परिचित हैं। खाना बनाने में समय की बचत के लिए तथा कई प्रकार के व्यंजन बनाने के लिए मिक्सर ग्राइंडर रसोई घर में होना आवश्यक होता है। चटनी बनानी हो , सूखी सामग्री या इडली डोसे का घोल आदि पीसना हो तो ये सभी काम मिक्सी में तुरंत हो जाते हैं।

फल सब्जी का जूस निकालने के लिए  जूसर मिक्सर ग्राइंडर भी बाजार में उपलब्ध है। इसमें पीसना तथा जूस निकालना दोनों काम हो जाते हैं। ऐसा ही एक और प्रोडक्ट है फ़ूड प्रोसेसर। जिसकी मदद से कद्दूकस करना , स्लाइस बनाना जैसे काम भी फटाफट हो जाते हैं। गाजर का हलवा बनाना हो तो मिनटों में गाजर कद्दूकस हो सकती है।

इसे भी पढ़ें : गाजर का हलवा स्वादिष्ट बनाने की सही विधि 

वैसे मिक्सी लगभग सबके घर में होती है लेकिन समय के साथ उनमे बहुत सी समस्या आने लगती है। इसके अलावा टेक्नोलोजी के विकास के साथ बहुत कुछ बदल भी जाता है। अतः नई मिक्सी खरीदने की जरुरत महसूस होने लगती है।

यदि मिक्सी बदलना चाहते हैं या नई मिक्सी खरीदना चाहते हैं तो कौनसी बातों का ध्यान रखना चाहिए आइये जानें –

सबसे पहले आपको यह निर्णय करना चाहिए कि आपको सिर्फ मिक्सर ग्राइंडर लेना है , जूसर मिक्सर ग्राइंडर लेना है सम्पूर्ण फ़ूड प्रोसेसर लेना है।

इनमे फर्क इस प्रकार होता है –

जैसा कि नाम से पता चलता है मिक्सर ग्राइंडर में सूखा और गीला सामान पीसने की सुविधा तो होती है लेकिन जूस नहीं निकाला जा सकता लेकिन जूसर मिक्सर ग्राइंडर में जूस भी निकाला जा सकता है।

फ़ूड प्रोसेसर में अन्य कई प्रकार की सुविधाएँ भी होती है जैसे स्लाइस बनाना , ग्रेट करना , चोप करना , आटा लगाना , श्रेड करना इत्यादि। फ़ूड प्रोसेसर सभी तरह के काम करने में सक्षम होता है। उसके साथ कई प्रकार की ब्लेड होती है , जिन्हें काम के अनुसार बदला जा सकता है।

इसे भी पढ़ें : रोटी गोल , फूली हुई और मुलायम बनाने के लिए क्या करें 

मिक्सर ग्राइंडर जिसे आम भाषा में मिक्सी कहते हैं खरीदते समय इन बातों का ध्यान रखना चाहिए –

मिक्सर ग्राइंडर की क्वालिटी

Quality of Mixer Grinder

मिक्सी रोजाना काम आने वाला उपकरण है। इसका लम्बे समय तक अच्छे से चलना जरुरी होता है। इसके लिए मिक्सी की बॉडी अच्छी गुणवत्ता के प्लास्टिक से बनी हुई होनी चाहिए। उससे जुड़ा इलेक्ट्रिक वायर अच्छी क्वालिटी का हो , प्लग थ्री पिन वाला हो जिसमे अर्थिंग का पिन भी होता है।

जार स्टेन लैस स्टील ( 304 ग्रेड स्टील ) के बने होने चाहिए। मिक्सी में नीचे की तरफ ना फिसलने वाले रबर लगे होने चाहिए ताकि चलाते समय वह खिसके नहीं। जब आप दो तीन कंपनियों की मिक्सी देखते हैं तो उनमें तुलना करने से क्वालिटी की समझ आ जाती है।

इसे भी पढ़ें : इन बातों का ध्यान रखेंगे तो स्टील के बर्तन हमेशा नए दिखेंगे

मिक्सर ग्राइंडर के जार

Mixer Grinder Jars

सामान्यतया मिक्सी के साथ 2 , 3 या 4 अलग अलग साइज़ के जार आते हैं। आपको जार देखकर मिक्सी खरीदनी चाहिए। मिक्सी के जार के साइज़ और आकार में आपका काम हो जाना चाहिए। साथ ही जार 304 ग्रेड स्टेनलेस स्टील के होने चाहिए।

जार के ढक्कन ना टूटने वाले पोलीकार्बोनेट के बने होने चाहिए। ये पारदर्शी हों तो ज्यादा अच्छा रहता है। आपको दिखाई देता है की पिसाई कितनी हुई है।

जार की रिंग अच्छी क्वालिटी की होनी चाहिए अन्यथा ये जल्दी ख़राब हो जाती हैं। यह भी जरुरी है कि जरुरत के समय यह नई आसानी से उपलब्ध हो जाये। यह दुकानदार से कन्फर्म कर लेना चाहिए। रिंग अक्सर बदलनी पड़ती है।

जार के ढक्कन को लॉक करने की सुविधा भी हो अच्छा रहता है अन्यथा कभी कभी मिक्सी घुमाने पर सामान मिक्सी से बाहर फ़ैल जाता है।

छोटे परिवार के लिए दो जार भी पर्याप्त हो जाते हैं लेकिन बड़े परिवार के लिए अधिक जार की जरुरत होती हैं। सामान्यतया सूखा पीसने के लिए छोटा जार होता है और गीली चीजें पीसने के लिए उससे थोड़ा बड़ा जार होता है।

सूखा पीसने वाले जार में मसाले या अनाज के दाने , चीनी आदि सभी चीजें पीस सकते हैं। मीडियम वाले जार में चटनी आदि बना सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : लम्बे समय तक चलने वाली लहसुन की सूखी चटनी की रेसिपी 

मिक्सर ग्राइंडर के जार की ब्लेड

Blades of Mixer Grinder Jar

ब्लेड पर ही पिसाई निर्भर होती है। ब्लेड सही ना हो तो सामान पीसने के समय भी ज्यादा लगता है और पिसाई भी सही तरीके से नहीं हो पाती। जार में लगी ब्लेड को चेक कर लें।

विशेषकर छोटे जार में ब्लेड पेंदे से ज्यादा ऊपर नहीं होनी चाहिए। अन्यथा सामग्री कम होने पर ब्लेड ऊपर घूमती रहती है पर पिसाई नहीं हो पाती है। ब्लेड स्टेन लेस स्टील की होनी चाहिए जिसकी धार भी अच्छी हो।

पिसाई करने के बाद जार की सफाई ब्लेड खोल कर करने की सुविधा हो तो अच्छा रहता है। लेकिन किसी किसी मिक्सी के जार में ब्लेड खोल कर धोने से लीकेज की समस्या आने लगती है। इस बारे में दुकानदार से बात कर लेनी चाहिए।

मिक्सर ग्राइंडर की पॉवर

Power of Mixer Grinder

मिक्सी की मोटर 500 वाट , 600 वाट 750 वाट , 900 वाट या 1000 वाट तक हो सकती है। जितने ज्यादा वाट की मोटर लगी होगी वह उतना ही ज्यादा ताकत से और जल्दी पिसाई कर पायेगी। लेकिन जितना वाट अधिक होगा उतनी कीमत भी ज्यादा होगी और बिजली का उपभोग भी अधिक होगा। इसके अलावा ज्यादा वाट होने पर मिक्सी थोड़ी आवाज भी ज्यादा करेगी।

एक सामान्य मिक्सर ग्राइंडर 500 वाट का होता  है जो आसानी से लगभग सभी काम कर सकता है। कई बार इडली डोसे का घोल पीसना हो तो ज्यादा ताकत की जरुरत पड़ सकती है। यदि ऐसा रसोई में अक्सर काम पड़ता है तो 750 या 900 वाट की मोटर वाला मिक्सर ग्राइंडर लेना चाहिए।

मिक्सर ग्राइंडर में ओवर लोड प्रोटेक्शन

Overload Protection in Mixer Grinder

यह एक आवश्यक फीचर है जो मिक्सर ग्राइंडर में होना ही चाहिए। यह एक ऐसी सुरक्षा है जो मिक्सी पर अधिक भार पड़ने पर मिक्सी का चलना बंद कर देती है ताकि उसकी मोटर को नुकसान ना हो।

ऐसा मिक्सी में जरुरत से ज्यादा सामग्री भर देने के कारण या मिक्सी को लगातार ज्यादा देर तक चलाने के कारण हो सकता है। काम करते समय कई बार ध्यान नहीं रहता। इससे बचने के लिए मिक्सी में ओवर लोड तथा ओवर हीट प्रोटेक्शन का उपाय किया हुआ रहना चाहिए।

ओवर लोड के कारण मिक्सी के बंद होने से परेशान नहीं होना चाहिए। मिक्सी में एक बटन होता है जिसे दबाने से या कुछ देर इन्तजार करने से मिक्सी वापस काम करना शुरू कर देती है। इस बारे में पूछताछ कर लेनी चाहिए।

मिक्सर ग्राइंडर के ऑपरेटिंग स्विच

Mixer Grinder operating switches

मिक्सी में उसे चलाने के लिए किसी मॉडल में दबाये जाने वाले बटन होते हैं और कुछ में घुमाकर चलाये जाने वाले। दबा कर चलाये जाने वाले बटन के जल्दी ख़राब होने की संभावना होती है। ऑपरेटिंग स्विच में लो ( कम स्पीड ), मीडियम ( मध्यम स्पीड ) तथा हाई ( फुल स्पीड ) पर चलाने की सुविधा मिलती है।

इसके अलावा एक अन्य पल्स स्विच भी होता है। अधिक कंट्रोल के साथ पिसाई करनी हो तो पल्स वाला स्विच काम आता है। इन्हें समझ लेना चाहिए। मिक्सी के साथ मिलने वाले इंस्ट्रक्शन बुकलेट को पढ़ लेना चाहिए ताकि कौनसा स्विच कैसे काम लेना है यह साफ हो जाये।

इसे भी पढ़ें : सॉफ्ट और स्पंजी ईदड़ा ( सफ़ेद ढ़ोकले ) की रेसिपी

मिक्सर ग्राइंडर की गारंटी वारंटी

Guarntee and warranty of Mixer Grinder

अलग कंपनी की गारंटी वारंटी अलग तरह की और अलग अवधि की हो सकती है। कुछ कंपनी एक साल , कुछ दो साल और कुछ अधिक समय की वारंटी दे सकती है। इसे पूछ लेना चाहिए और अच्छे से समझ लेना चाहिए। कुछ भी गलत होने पर रिपेयरिंग तथा रिप्लेसमेंट की सुविधा मिलनी चाहिए। अधिकतर मोटर की गारंटी ज्यादा अवधि की मिलती है।

मिक्सर ग्राइंडर की कीमत

price of Mixer Grinder

बाजार में कई प्रकार के मोडल उपलब्ध हैं आपको उनकी कीमत का पता करके तुलना करके निर्णय लेना चाहिए। बहुत सस्ती होने पर गुणवत्ता में समझौता किया हुआ हो सकता है। अतः सावधानी से निर्णय करना चाहिए। पक्का बिल जरुर ले लेना चाहिए तथा गारंटी वारंटी कार्ड जरुर ले लेना चाहिए।

वारंटी की अवधि में किसी भी प्रकार की समस्या के लिए ऑथोराइज डीलर को उसे दूर करने की सुविधा प्रदान करवाई जानी चाहिए। बिल की कोपी साथ रखनी चाहिए। कुछ दुकानदार AMC ( Annual Maintenance Contract ) की सुविधा देते हैं। यदि आपको उचित लेगे यह सुविधा ली जा सकती है।

लोकप्रिय मिक्सी के ब्रांड – Popular Mixer grinder

कुछ लोकप्रिय मिक्सी के ब्रांड इस प्रकार है : सुजाता , महाराजा , केन स्टार , प्रेस्टीज , हैवल्स , ओरिएंट , बटर फ्लाई , बजाज , बोश , इनाल्सा , ग्लेन , फिलिप्स , मर्फी रिचर्ड्स , पैनासोनिक आदि। इनमे कुछ भारतीय ब्रांड है और कुछ विदेशी। आप अपनी पसंद के अनुसार देख सकते हैं।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

दुबलापन दूर करके हेल्थ बनाने के आसान उपाय 

वायरस क्या होते हैं और बीमारी कैसे फैलते हैं आसान हिंदी में

सात चक्र और उन्हें जाग्रत करने का लाभ व तरीका 

दीवार पर पेंट पुट्टी प्राइमर कब क्यों कैसे

बर्थ सर्टिफिकेट कैसे और कहाँ बनवाएँ , ये क्यों बहुत जरुरी 

रुद्राक्ष के लाभ और असली रुद्राक्ष की पहचान 

खांड और मिश्री कैसे बनते हैं जो इतने लाभदायक होते हैं 

टिड्डी कहाँ से आती है और खतरनाक क्यों है 

मूंगफली क्यों है सूखे मेवे से भी ज्यादा पौष्टिक 

पिस्ता शादीशुदा पुरुष को क्यों जरूर खाना चाहिए