रागी ( नचनी ) की लोकप्रियता इतनी क्यों बढ़ रही है – Ragi benefits

1132

रागी Ragi बाजरे की तरह दिखने वाला एक छोटे गोल दानेदार रूप मे पाए जाने वाला खाद्य पदार्थ है । इसे नचनी Nachni तथा मडूआ Madua के नाम से भी जाना जाता है । रागी के दाने बहुत छोटे होते हैं इसलिए इसे पोलिश या प्रोसेस नहीं किया जाता है ।

इंग्लिश मे रागी को फिंगर मिलेट Finger Millet के नाम से जाना जाता है । क्योंकि इसके पौधे की बनावट हथेली से जुड़ी अंगुलियों जैसी होती है ।

रागी एक सुपर फूड की तरह तेजी से लोकप्रिय और फेमस होता जा रहा है । कई न्यूट्रीशियनिष्ट स्वास्थ्य की दृष्टि से इसे भोजन में शामिल करने की सलाह देते हैं । यह अत्यंत पौष्टिक नाश्ता कहलाता है ।

Ragi को पीस कर इसका मोटा या बारीक पाउडर कई प्रकार की डिश बनाने के लिए उपयोग में लाया जा सकता है । रागी का उपयोग रोटी , डोसा , उपमा , इडली , ब्रेड , केक आदि बनाकर किया जा सकता है ।

Ragi से बने बेकरी आइटम जैसे कुकीज तथा म्यूज़ली आदि बाजार मे उपलब्ध हैं ।

( इसे भी पढ़ें : म्यूज़ली क्या है , कौनसी खानी चाहिए )

रागी के पोषक तत्व

रागी मे प्रोटीन , विटामिन , खनिज , कार्बोहाइड्रेट तथा फाइबर भरपूर मात्रा मे होते हैं ।

इसमे विटामिन B कॉम्प्लेक्स समूह के थायमीन , रिबोफ्लेविन , नियासीन , और फोलिक एसिड तथा विटामिन C व विटामिन E मौजूद होते हैं । इसके अलावा इसमें कैल्शियम , मैग्नीशियम , आयरन तथा फास्फोरस की भी अच्छी मात्रा होती है ।

इसमे ग्लूटेन नहीं होता है।  सोडियम और कोलेस्ट्रॉल की भी मात्रा बहुत कम होती है । इसे एक सुपर फूड कहा जा सकता है ।

रागी के फायदे – Ragi Benefits in hindi

प्रोटीन के लिए रागी

इसमे प्रोटीन की अच्छी मात्रा होती है । प्रोटीन शरीर की मरम्मत तथा विकास के लिए तो जरुरी जरूरी होता ही है । इसके अलावा भी प्रोटीन की जरुरत कई तरह से होती है।

( इसे भी पढ़ें : प्रोटीन की कमी से होती हैं ये 10 समस्या जिसका पता ही नहीं चलता )

मजबूत हड्डियाँ

Ragi कैल्शियम तथा फास्फोरस का बहुत अच्छा स्रोत है । Ragi के आटे मे किसी भी अनाज की अपेक्षा अधिक कैल्शियम होता है । कैल्शियम हड्डियों और दांतों के लिए महत्वपूर्ण है । इसके उपयोग से ऑस्टियो पोरोसिस की रोकथाम मे मदद मिल सकती सकती है ।

( इसे भी पढ़ें : कैल्शियम की कमी दूर कैसे करें )

डायबिटीज में रागी

चावल , मक्का , गेहूं की तुलना मे रागी के बीज का कोट पोलीफेनोल और डायटरी फाइबर से भरपूर होता है । इसे डायबिटीज मे खाना फायदेमंद होता है । इसे सुबह के नाश्ते या दोपहर के भोजन मे खाना चाहिए । इससे रक्त मे शक्कर की मात्रा उतनी नहीं बढ़ती ।

(  इसे भी पढ़ें : डायबिटीज के आसान घरेलु नुस्खे एक बार जरूर आजमाएँ )

Ragi मे मैग्नीशियम भी प्रचुर मात्रा मे होता है । इससे इंसुलिन रेजिसटेन्स कम होता है । इसके अलावा मैग्नीशियम की कमी से पैन्क्रीयास पर बुरा असर पड़ता है और रक्त मे शुगर का लेवल बढ़ जाता है ।

( इसे भी पढ़ें : मैग्नीशियम की कमी से क्या दिक्कत हो सकती है )

हार्ट के लिए रागी

मैग्नीशियम की अच्छी मात्रा होने के कारण हार्ट के लिए यह अच्छा होता है । इसके उपयोग से ह्रदय की धड़कन नियंत्रित रहती है । फाइबर की अच्छी मात्रा के कारण यह कोलेस्ट्रॉल को कम करने मे भी मदद करता है ।

( इसे भी पढ़ें : कोलेस्ट्रॉल को आसान भाषा में समझें और इससे बचें )

एंटीऑक्सीडेंट

Ragi मे पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट एंगजाइटी , डिप्रेशन , और अनिद्रा से निपटने के लिए सहायक होते हैं । एंटीऑक्सीडेंट कैंसर से बचाने मे भी सहायक होते हैं ।

( इसे भी पढ़ें : एंटीऑक्सीडेंट कैंसर से कैसे बचाते हैं )

रागी से वजन कम

इससे वजन कम करने मे मदद मिल सकती है । इसमे पाए जाने वाले डायटरी फाइबर की अधिक मात्रा से पेट लंबे समय तक भरा हुआ महसूस होता है । भूख कम लगती है । इससे अनावश्यक खाने से बच जाते हैं । इससे वजन कम करने मे मदद मिलती है ।

( इसे भी पढ़ें : फाइबर का भोजन में होना क्यों अत्यंत जरुरी )

रागी और पाचनतंत्र

फाइबर पाचन तंत्र की सफाई में अच्छा योगदान देते हैं । इससे पाचन तंत्र सुधरता है ।

त्वचा और बालों के लिए रागी

रागी मे पाए जाने वाले विटामिन , खनिज तथा एंटी ऑक्सीडेंट की अच्छी मात्रा इम्यूनिटी , त्वचा और बालों के लिए लाभदायक साबित होती है ।

विटामिन b 3 की अच्छी मात्रा त्वचा के लिए लाभदायक होती है । यह झुर्रियां और त्वचा की बीमारियों से रक्षा करने मे सहायक होता है ।

( इसे भी पढ़ें : त्वचा को झुर्रियों से बचाने के लिए क्या खाएं )

ग्लूटेन फ्री रागी

रागी मे ग्लूटेन नहीं होता हैं । जिन लोगों को ग्लूटेन से समस्या होती है या जो लोग सेलियक डिजिज से ग्रस्त हैं वो Ragi का उपयोग कर सकते हैं । इसकी रोटी गेहूं की रोटी से ज्यादा पौष्टिक होती है ।

रागी से खून की कमी दूर

रागी मे विटामिन b1 की अच्छी मात्रा होती है जो लाल रक्त कण के उत्पादन के लिए जरूरी होता है । इसके उपयोग से खून की कमी दूर करने मे मदद मिल सकती है ।

( इसे भी पढ़ें : खून की कमी क्यों होती है इसके लिए क्या करें )

रागी से सावधानी

किडनी की समस्या से ग्रस्त लोगों को रागी का सेवन ध्यान पूर्वक तथा डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए । क्योंकि रागी मे कैल्शियम अधिक मात्रा मे होता है । इस वजह से किडनी मे पथरी बनने की संभावना बढ़ सकती है ।

( इसे भी पढ़ें : गुर्दे की पथरी होने के कारण और उपाय )

disclaimer : इस पोस्ट का उद्देश्य जानकारी देना मात्र है। किसी भी उपचार के लिए डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।

References :

1 – https://vikaspedia.in/health/nutrition/nutritive-value-of-foods/nutritive-value-of-cereals-and-millets/finger-millet-ragi-small-seeds-with-bigger-health-benefits

2 – https://www.netmeds.com/health-library/post/ragi-nutrition-health-benefits-uses-for-skin-and-hair-side-effects

3 – https://isha.sadhguru.org/in/en/blog/article/7-health-benefits-of-ragi-6-great-ragi-recipes

4 – https://www.medlife.com/blog/ragi-health-benefits-tasty-recipes-losing-weight/

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

क्या आप भी कलोंजी को प्याज के बीज समझते हैं  

स्टील के बर्तन हमेशा नए जैसे कैसे रखें 

कपड़े डाइक्लीन करवाने से पहले इसे जरूर पढ़ें 

झाड़ू कब कौनसा लें , धन वृद्धि के लिए कैसे रखें 

करंट लगने से नुकसान और बचने के उपाय

ये उपाय करने से मच्छर कभी तंग नहीं करेंगे 

बिना AC  घर को इस तरह रखें बिल्कुल ठंडा 

इसे पढ़ने के बाद कभी नींबू के छिलके फेकेंगे नहीं 

घर खर्च कम करना है तो ये आसान उपाय जरूर करें 

चूहे भूलकर भी आपके घर में नहीं आएंगे इसे पढ़ने के बाद