सब्जी काटने पकाने में ये गलती कभी ना करें  – Never do this to vegetables

136

सब्जी काटने पकाने में की जाने वाली गलतियों से हमे सब्जियों का पूरा लाभ नहीं मिल पाता है । अनेक प्रकार के पोषक तत्व इन गलतियों के कारण नष्ट हो जाते हैं ।

सब्जियां हमारे भोजन का मुख्य अंग हैं । अतः यह बहुत आवश्यक है की सब्जी मे मौजूद सभी पोषक तत्व हमे प्राप्त हों । अन्यथा विटामिन खनिज आदि की कमी से हमे कई प्रकार की शारीरिक अथवा मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है ।

ये गलतियाँ हममे से कई लोग करते हैं जिसका हमे अहसास नहीं हो पाता है । इन्हे पढ़ें समझें और सुधारें  –

कटी हुई सब्जी अधिक देर तक रखना

सब्जी को पकाने से अधिक देर पहले काट कर नहीं रखना चाहिए । क्योंकि कटी हुई सब्जी के पोषक तत्व हवा , प्रकाश तथा ऑक्सीजन के संपर्क मे आने से नष्ट हो जाते हैं । सब्जी जब अपने प्राकृतिक साबुत रूप मे होती है तो हवा और प्रकाश से बची रहती है ।

लेकिन हवा के संपर्क मे आने पर उनमे मौजूद तत्व परिवर्तित होकर अपना प्रभाव खो देते  है । आलू , बैगन , सेब आदि को काट कर रखने से उनका काला पड़ जाना इसी का एक रूप है ।

अतः सब्जी को पकाने से तुरंत पहले ही काटना चाहिए । बहुत देर पहले से काट कर नहीं रखना चाहिए । इसके अलावा बाजार से कटी हुई सब्जी खरीदना भी सही नहीं होता है ।

सब्जी से मुख्य पौष्टिक तत्व युक्त हिस्सा निकाल देना

सब्जी के छिलकों मे अत्यधिक पौष्टिक तत्व होते हैं विशेष रूप से बैगन , आलू ,  खीरा , गाजर , मूली आदि मे । यदि आप इनके छिलके निकाल देते हैं तो अनेक फायदेमंद पौष्टिक तत्वों को खो देते हैं ।

कुछ सब्जी के डंठल अत्यधिक पौष्टिक तत्व युक्त होते हैं जैसे ब्रोकली , फूल गोभी , चुकंदर , आदि । अतः यदि संभव हो तो कोशिश करें की सब्जी के छिलके या डंठल आदि भी काम मे लें ।

कुछ सब्जी के छिलकों की तो सब्जी बना कर भी खाई जाती है जैसे लौकी के छिलके , तुरई के छिलके , तरबूज के छिलके आदि ।

कुछ फल सब्जी के छिलके स्वाद खराब होने , पाचन के लिए मुश्किल होने या पेस्टि साइड्स का उपयोग किए जाने की वजह से नहीं खाए जाने चाहिए जैसे – एवोकेडो , सिट्रस फ्रूट ( नीबू , मौसमी , संतरा आदि ), केला , लीची , अनानास , पपीता , खरबूजा , लहसुन , प्याज आदि ।

कच्ची सब्जी खाना

कच्ची सब्जी खाने के अलग फायदे होते है लेकिन सब्जी को पकाने से उनमे लाभदायक तत्वों की मात्रा मे वृद्धि होती है । सब्जी को पकाने से कुछ ऐसे पौष्टिक तत्वों का निर्माण होता है जो पचने मे आसान होते हैं । शरीर उन्हे आसानी से ग्रहण कर पाता है । जैसे गाजर , टमाटर और पालक आदि को पकाने से उसमे पौष्टिक तत्वों की मात्रा मे कई गुना बढ़ोतरी हो जाती है ।

इसे भी पढ़ें : गाजर को पकाने से कौनसे पोषक तत्व मे कई गुना बढ़ोतरी होती है 

आलू , फलियाँ , गाजर , मटर आदि को पकाने से उनमे एंटी-ऑक्सीडेंट की मात्रा मे बढ़ोतरी होती है । हालांकि सब्जी को पकाने का तरीका भी महत्व रखता है ।

सब्जी को पकाने के लिए प्रेशर कुकर का उपयोग नहीं करना चाहिए । क्योंकि प्रेशर कुकर कई प्रकार के लाभदायक एंटी ऑक्सीडेंट को नष्ट कर देता है । सब्जी को धीमी आंच पर पकाना अच्छा तरीका होता है ।

सब्जी को काटने का तरीका

सब्जी को हमेशा तेज धार वाले चाकू से काटना चाहिए । कम धार वाले चाकू से काटने से सब्जी का इलेक्ट्रोलाइट बैलेंस नष्ट होता है तथा उसमे मौजूद कॅल्शियम की मात्रा कम हो जाती है । इसके अलावा तेज धार वाले चाकू के उपयोग से बेक्टीरिया की ग्रोथ अपेक्षाकृत अधिक नहीं होती और सब्जी बहुत नर्म भी नहीं पड़ती है ।

इसे भी पढ़ें : हींग का उपयोग इन लोगों को भूलकर भी नहीं करना चाहिए 

सब्जी को बहुत छोटे आकार में भी नहीं काटना चाहिए । सब्जी के टुकड़े मध्यम आकार के रखने चाहिए । अधिक छोटे टुकड़े काटने से पोषक तत्व अधिक मात्रा मे नष्ट होते हैं । क्योंकि इससे सब्जी की अधिक सतह हवा पानी या प्रकाश के संपर्क मे आती है जो सब्जी को कम पौष्टिक बनाने का काम करते हैं ।

सब्जी को काटने के बाद पानी से धोना

सब्जी को काटने के बाद धोने से पानी के साथ कई पोषक तत्व सब्जी से निकल जाते हैं । अतः सब्जी को काटने से पहले ही धो लेना चाहिए , काटने के बाद नहीं धोना चाहिए ।

सब्जी को धोने के लिए सिर्फ सादा पानी का उपयोग करना चाहिए , किसी प्रकार के केमिकल , साबुन अथवा सिरके आदि का उपयोग नहीं करना चाहिए ।

इसे भी पढ़ें : मूंगफली क्यों है ड्राई फ्रूइट्स से भी अधिक पौष्टिक 

भोजन का मुख्य अंग सब्जियाँ हमारे लिए अत्यंत लाभदायक सिद्ध हो सकती हैं जो कई प्रकार के जरूरी पोषक तत्व हमे उपलब्ध करवा सकती हैं । लेकिन इसके लिए इनका सही तरीके से उपयोग अवश्य जान लेना चाहिए । ताकि हमे अधिक से अधिक लाभ मिल सके ।

ये लेख भी अवश्य पढ़ें – 

पीपली घर मे क्यों जरूर रखें 

हारसिंगार के पौधे का पौराणिक और औषधीय महत्व

खांड मिश्री बताशा बूरा कैसे बनते है और इनमे क्या फर्क है

सदाबहार के फूल पत्तियां और जड़ का उपयोग

गिलोय की बेल घर मे लगाकर कैसे काम मे लें

ताजा और अच्छी सब्जी छाँट के खरीदने के टिप्स

श्री यंत्र का पूजन करके लक्ष्मी की कृपा कैसे प्राप्त करें

बुरे सपने या अच्छे सपने का क्या अर्थ समझें

सुंदर कांड का पाठ तरीका , नियम और लाभ

कीटो डाइट क्या होती है इससे वजन कम कैसे होता है