सत्य नारायण भगवान की आरती Satya Narayan Arti

314

सत्य नारायण भगवान की आरती सत्यनारायण के व्रत और पूजा के समय की जाती है। यहाँ इस आरती के शब्द Satya Narayan Arti ke Lirics दिए गए हैं। इन्हें पढ़ें और आनंद उठायें।

 

सत्यनारायण भगवान की आरती

जय लक्ष्मी रमणा , स्वामी जय लक्ष्मी रमणा ।

सत्यनारायण  स्वामी ,  जन-पातक-हरणा  । ।

जय लक्ष्मी … । ।

रत्न जड़ित सिंहासन , अद्भुत छवि राजे ।

नारद  करत  निराजन , घंटा  ध्वनी बाजे । ।

जय लक्ष्मी … । ।

प्रकट भये कलि कारण , द्विज को दरस दियो ।

बूढ़े  ब्राह्मण बन कर , कंचन – महल  कियो । ।

जय लक्ष्मी … । ।

दुर्बल  भील कठारो , जिन पर कृपा करी ।

चन्द्रचूड़ इक राजा , जिनकी विपत्ति हरी । ।

जय लक्ष्मी … । ।

वैश्य  मनोरथ  पायो  ,  श्रद्धा  तज  दीनी ।

सो फल भोग्यो प्रभुजी , फिर अस्तुति कीनी । ।

जय लक्ष्मी … । ।

भाव- भक्ति के कारण ,  छिन- छिन रूप धरयो ।

श्रद्धा  धारण  कीनी  ,   तिनको  काज   सरयो । ।

जय लक्ष्मी … । ।

ग्वाल  बाल संग राजा , वन में भक्ति करी ।

मन वांछित फल दीन्हो , दीनदयाल हरी  । ।

जय लक्ष्मी … । ।

चढ़त प्रसाद सवायो , कदली फल मेवा ।

धुप  दीप  तुलसी से , राजी  सत्यदेवा । ।

जय लक्ष्मी … । ।

श्री सत्य नारायण जी की आरती कोई जो नर गावे ।

तन -मन सुख -संपति ,  मन  वांछित  फल  पावे । ।

जय लक्ष्मी रमणा, स्वामी जय लक्ष्मी रमणा ।

सत्यनारायण  स्वामी ,  जन-पातक-हरणा  । ।

बोलो सत्यनारायण भगवान की…जय !!!

 

क्लिक करके इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

सत्यनारायण की पूजा और व्रत की विधि तथा पूजा की सामग्री 

सत्यनारायण व्रत कथा पहला अध्याय 

सत्यनारायण व्रत कथा दूसरा अध्याय

सत्यनारायण व्रत कथा तीसरा अध्याय 

सत्यनारायण व्रत कथा चौथा अध्याय

सत्यनारायण व्रत कथा पाँचवाँ अध्याय

वार के अनुसार व्रत करने का तरीका 

कौनसे भगवान की पूजा में कौनसे फूल लें और कौनसे नहीं 

गणेश जी की कहानी 

शनि देव की आरती

फलाहारी कढ़ी व्रत के लिए बनाने की विधि

ठंडाई बनाने का सही तरीका

महाशिवरात्रि का व्रत और पूजन कैसे करें

रुद्राक्ष के फायदे और असली रुद्राक्ष की पहचान

पूर्णिमा का व्रत , फायदे तथा महत्त्व