शनिवार की आरती – Shanivar ki aarti

387

शनिवार की आरती नरसिंग कुंवर की तथा जय जय रविनंदन दोनों यहां प्रस्तुत है।

शनिवार की आरती ( 1 )

 Shanivaar ki arti

<<<>>>

आरती  कीजै  नरसिंह  कुंवर की ।  

वेद विमल यश गाऊं मेरे प्रभु जी । ।  

पहली   आरती   प्रह्लाद   उबारे । 

हिरणाकुश  नख   उदार  विदारे । ।   

दूसरी    आरती   वामन   सेवा ।

बलि  के  द्वार  पधारे  हरी  देवा । ।  

तीसरी    आरती    ब्रह्मा   पधारे ।  

सहस्रबाहु   की  भुजा   उखारे । ।  

चौथी   आरती   असुर  संहारे ।

भक्त   विभीषण   लंक   पधारे । ।  

पांचवी  आरती   कंस   पछारे ।

गोपी     ग्वाल   सखा   प्रतिपाले । ।  

तुलसी को पत्र  कंठ मणि हीरा ।

हरषि  निरखि गावे दास कबीरा । ।

<<<>>>

शनिवार की आरती ( 2 )

 shanivar ki aarti

<<<>>>

जय जय रविनंदन , जय दुःख भंजन ,

जय जय शनि हरे। ।  टेक । ।  

जय    भुज     चारी    धारण    कारी    ,    

दुष्ट    दलन । ।  जय । ।

 होय  कुपित  नित   करत  दुखित  ,  

धनि  को  निर्धन । ।  जय । ।

तुम   धर  अनूप  याम  का  स्वरुप  हो  ,  

करत  बंधन । ।  जय । ।

तव  नाम जो दस  तोहि  करत सो बस  ,

जो करे रटन । ।  जय । ।

महिमा    अपार    जग   में    तुम्हार  ,

  जपते   देवतन । ।  जय । ।

तव   नैन   कठिन  नित  बरे   अगिन   ,  

भैंसा   वाहन । ।  जय । ।

प्रभु  तेज  तुम्हारा  अतिहिं  करारा ,

जानत  सब  जान  । ।  जय । ।

प्रभु   शनि  दान   से   तुम   महान   ,  

होते   हो  मगन । ।  जय । ।

प्रभु   उदित   नारायण   शीश   ,  

नवायन   धरे   चरण । ।  जय । ।

<<<>>>

क्लिक करके पढ़ें ये आरती –

गणेश वंदना / लक्ष्मी माता की आरती / शीतला माता की आरती / जय अम्बे गौरी…./ गणेश आरती / हनुमान आरती हनुमान चालीसा / संतोषी माता की आरती /  जय शिव ओमकारा…. शिव चालीसा / श्रीरामजी की आरतीदुर्गा चालीसा /शनिवार की आरती / गुरु जी की आरती / अहोई माता की आरती गणगौर के गीत /

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here