सोमवती अमावस्या व्रत , पूजन तथा उद्यापन विधि – Somvati Amavsya 2022 Vrat

224

सोमवती अमावस्या Somvati Amavsya सोमवार को आने वाली अमावस्या को कहते हैं । इस दिन व्रत और पूजन करना वैवाहिक जीवन पर बड़ा गहरा प्रभाव डाल सकता है । इस वर्ष यह सुनहरा अवसर दो बार मिलेगा । इसका लाभ अवश्य उठाना चाहिए ।

सोमवती अमावस्या 2022

Somvati Amavsya 2022

इस वर्ष यानि 2022 मे 2 बार सोमवती अमावस्या आएंगी ।

पहली सोमवती अमावस्या – 31 जनवरी , 2022

दूसरी सोमवती अमावस्या – 30 मई , 2022

पंचांग गणना के अनुसार 31 जनवरी को अमावस्या दोपहर 2 बजकर 19 मिनट से प्रारंभ होकर 1 फरवरी सुबह 11 बजकर 16 मिनट तक रहेगी । सोमवती अमावस्या का पूजन और व्रत दोनों दिन किए जा सकते हैं । पितृ कार्य 31 जनवरी को किए जा सकते हैं ।

सोमवती अमावस्या का व्रत

Somvati Amavsya Ka Vrat

वैवाहिक जीवन मे प्रेम और सद्भाव बढ़ाने के लिए सुहागिन महिलाओं को यह व्रत करना चाहिए । इससे गृह क्लेशों से मुक्ति मिलती है । सुख समृद्धि प्राप्त होती है ।

पति पत्नी मे फालतू का मन मुटाव , झगड़े आदि अधिक होते हों तो दोनों को यह व्रत करना चाहिए । एक साथ परिक्रमा लगाने और व्रत करने से आपस मे प्रेम भाव बढ़ता है । सुख शांति मे वृद्धि होती है । घर मे कलह मिटती है ।

( इसे भी पढ़ें : पत्नी को खुश रखने के आसान उपाय ये हैं )

सोमवती अमावस्या का धार्मिक दृष्टि से बड़ा महत्व होता है । इस दिन महिलायें जीवन साथी की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं । इस दिन मौन व्रत रखने से सहस्र गोदान का फल मिलता है ।

सोमवती अमावस्या के दिन व्रत , पूजन करने और पितरों को जल तिल देने से बहुत पुण्य मिलता है । यह तिथि पितरों की तिथि मानी जाती है । इसमें चन्द्रमा की शक्ति जल में प्रविष्ट हो जाती है । इस तिथि को राहु और केतु की उपासना विशेष फलदायी होती है ।

इस दिन दान और उपवास का विशेष महत्व होता है और विशेष प्रयोगों से विशेष लाभ प्राप्त होते हैं ।

यदि किसी घर मे लड़के की शादी नहीं हो पा रही है तो सोमवती अमावस्या का व्रत करने से मुश्किलें आसान हो जाती हैं ।

सोमवती अमावस्या का पूजन

Somvati Amavsya ka poojan

सोमवती अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ की पूजा की जाती है । माना जाता है कि पीपेल के पेड़ मे मूल भाग मे भगवान विष्णु , अग्र भाग मे ब्रह्मा जी और तने मे भगवान शिव का वास होता है । यदि पीपल के वृक्ष की पूजा ना कर सकें तो तुलसी के पौधे की पूजा भी की जा सकती है । इस दिन शिव पार्वती की पूजा करना अत्यंत लाभदायक सिद्ध होता है ।

( इसे भी पढ़ें : तुलसी का पौधा हमेशा रहेगा हरा भरा करलें ये उपाय )

सोमवती अमावस्या पूजा विधि

Somvati Amavsya ki puja vidhi

इस दिन सुबह सूर्योदय से पहले स्नान कर लेना चाहिए । स्नान पानी मे गंगाजल डालकर करना चाहिए ।

पूजा वाली जगह को जल गोबर आदि से पवित्र कर लें । कलश स्थापित करने के लिए अष्ट दल कमल बनायें । इस पर कलश रखें कलश मे पानी भरें । उसमे चावल , पुष्प , हल्दी , दक्षिणा , सुपारी डालकर ढक्कन लगाकर उस पर चावल रख दें । उस पर दीपक रख दें । दीपक मे मौली की बत्ती लगाएं ( रूई की नहीं , क्योंकि रूई छूना वर्जित होता है )

सुपारी पर मौली लपेट कर उसे गणेश जी के रूप मे स्थापित कर दें । गौरी माता की स्थापना के लिए छोटी मूर्ति लें अथवा गोबर से बनाकर स्थापित कर लें ।

पूजन आसन पर बैठ कर करें ।

सबसे पहले खुद पर तीन बार जल छिड़क कर खुद को पवित्र करें ।

इसके बाद दीपक जला लें । फिर व्रत का संकल्प करें । गणेश जी और माँ गौरी का आवाहन करें ।

( इसे भी पढ़ें : गणेश जी की यह कहानी हर व्रत मे कही सुनी जाती है )

गणेश जी , माँ गौरी और कलश का पूजन करने के लिए जल छिड़कें , रोली , मौली , पुष्प , नेवेद्य आदि अर्पित करें । दक्षिणा अर्पित करें । माँ गौरी को शृंगार सामग्री ( बिंदी , चूड़ी , माला , काजल , मेहंदी आदि ) अर्पित करें ।

इसी प्रकार तुलसी का पूजन करें । इसके बाद 108 परिक्रमा लगायें ।

पीपल की पूजा की है तो पेड़ पर सूत लपेट दें । अपने सामर्थ्य के अनुसार फल , मिठाई , सुहाग सामग्री आदि की भँवरी ( परिक्रमा ) दी जा सकती है । भँवरी पर चढ़ाया सामान बाद मे सुपात्र ब्राह्मण , ननद या भांजे को दिया जा सकता है । 108 परिक्रमा लगायें । परिक्रमा करते समय “ ॐ श्री वासूदेवाय नमः “ का जाप करें ।

इसके बाद सोमवती अमावस्या की कहानी सुने या कहें।

( क्लिक करें और देखें : सोमवती अमावस्या व्रत की कहानी )

पूजन के बाद गणेश जी , माँ गौरी आदि को धन्यवाद करते हुए विदा होने की प्रार्थना करें ।

सोमवती अमावस्या व्रत का उद्यापन

Somvati amavsya vrat ka udyapan kaise kare

सोमवती अमावस्या का उद्यापन 12 वर्ष तक सोमवती अमावस्या का व्रत करने के बाद किया जाता हैं । उद्यापन 6 वर्ष के बाद या शुरू मे भी किया जा सकता है ।

उद्यापन मे विधिवत पूजन किया जाता है । पंचरत्न की वेदी बनाई जाती है । पंचरत्न पाँच तत्वों के प्रतीक होते हैं । वेदी पर सोने से बना पीपल वृक्ष स्थापित किया जाता है । भगवान विष्णु गरुड़ सहित तथा माँ लक्ष्मी की स्थापना कर उनकी पूजा की जाती है । भोग लगाया जाता है ।

रात को विष्णु भगवान के भजन गाकर जागरण किया जाता है । दूसरे दिन सुबह हवन आदि किया जाता है । ब्राह्मण भोजन करवाया जाता है । दक्षिणा , वस्त्र आदि देकर उन्हे विदा किया जाता हैं ।

पूजन के समय दान वस्तु के साथ 108 परिक्रमा लगाई जाती है । फिर वो 108 वस्तु दान की जाती है ।

इसके अलावा धोबन को दान की वस्तुएं दी जाती हैं । जिसमे बाल्टी , मग ,  रस्सी , साबुन , ब्रश , धोवना , धोबन के लिए वस्त्र , चप्पल , शृंगार का सामान आदि शामिल किए जाते हैं । धोबन और धोबी के भोजन की व्यवस्था की जाती है । उन्हे दक्षिणा दी जाती है ।

उद्यापन करना जरूरी होता है । इसी से व्रतराज का सम्पूर्ण लाभ प्राप्त होता है ।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें : 

स्वस्तिक कब क्यों और कहाँ बनाते है और क्या लाभ 

सुंदर कांड के पाठ से लाभ , इसका तरीका और नियम 

सत्यनारायण भगवान का व्रत , पूजा विधि और सामग्री 

रुद्राक्ष कितना फायदेमंद और असली की पहचान कैसे करें

पूजा मे ये फूल नहीं लेने चाहिए होगा नुकसान 

एकादशी व्रत क्यों है इतना प्रभावकारी 

चौथ माता की कथा बारह महीनों के व्रत वाली 

आरती करने का सही तरीका यह है , जरूर जान लें 

प्रदोष का व्रत करने से मिलते हैं ये अभीष्ट लाभ 

शनिवार का व्रत इस तरह करने से मिलता है लाभ