सोमवती अमावस्या व्रत कथा – Somvati Amavsya Vrat Katha

188

सोमवती अमावस्या व्रत कथा , व्रत और पूजन के बाद सुनी या कही जाती है । सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या सोमवती अमावस्या कहलाती है । सोमवती अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ की या तुलसी माता की पूजा करनी चाहिए ।  व्रत रखना चाहिए । इसके अलावा व्रत की कथा भी जरूर सुननी चाहिए । इससे परिवार मे सुख समृद्धि रहती है तथा सौभाग्य की प्राप्ति होती है ।

( क्लिक करके इसे देखें : सोमवती अमावस्या के व्रत पूजन उद्यापन और परिक्रमा की सम्पूर्ण विधि )

यहाँ आपको सोमवती अमावस्या के व्रत की कहानी बताई जा रही है । जो इस प्रकार है –

सोमवती अमावस्या के व्रत की कथा

Somvati amavsya vrat ki katha

एक गरीब ब्राह्मण परिवार था । ब्राह्मण की एक बेटी थी , जो सर्वगुण सम्पन्न थी । उसके विवाह के लिए ब्राह्मण ने कई योग्य वर देखे । लेकिन गरीबी के कारण कन्या का विवाह नही हो पा रहा था ।

एक दिन ब्राह्मण के घर एक साधु आए । ब्राह्मण परिवार ने साधु की अच्छी सेवा की । कन्या के सेवा भाव से वो विशेष प्रसन्न हुए ।

ब्राह्मण ने बेटी के विवाह ना हो पाने की बात साधु को बताई । साधु ने कन्या का हाथ देखकर कहा कि उसके भाग्य मे विवाह होना नहीं है । (somvati amavsya ki kahani ….)

उपाय पूछने पर साधु ने बताया कि पास के गाँव मे सोना नाम की एक धोबन परिवार सहित रहती है । वह धोबन पति पारायण और संस्कार सम्पन्न है । यदि यह कन्या उस धोबन की सेवा करे । और वो, कन्या की माँग मे अपना सिंदूर लगा दे । तो कन्या का विवाह हो सकता है ।

यह बात ब्राह्मण परिवार ने समझ ली । साधु के बताए अनुसार ब्राह्मण कन्या रोज सुबह सुबह धोबन के घर जाकर उसके घर के काम करने लगी ।

( इसे भी पढ़ें : धर्मराज का व्रत और कथा मकर संक्रांति के लिए )

धोबन ने अपनी बहु से कहा , कि आजकल तुम सारे काम , कब कर लेती हो पता ही नहीं चलता । बहु बोली मुझे तो लगा कि आप सारे काम कर लेते हो । दोनों बड़े हैरान हुए ।

धोबन ने नजर रखना शुरू किया । उसने पाया कि एक कन्या सुबह जल्दी आकर सारे काम कर देती है । रोज ऐसा होते देखकर एक दिन धोबन ने उसे रोका । वह उसके पैरों मे गिर पड़ी और पूछा आप कौन हैं और छुपकर मेरे घर की चाकरी क्यों कर रही हैं ।  (somvati amavsya ke vrat ki kahani ….)

कन्या ने उसे साधु द्वारा कही सारी बात बता दी ।

सोना धोबन संस्कारी और पति परायण थी । उसमे तेज था । वह अपना सिंदूर कन्या को देने के लिए तैयार हो गई । सोना धोबन ने जैसे ही अपनी माँग का सिंदूर कन्या की माँग मे लगाया धोबन के पति का देहांत हो गया । यह देखकर धोबन निर्जल ही अपने घर से निकल गई  ।

उस दिन सोमवती अमावस्या थी । धोबन को एक पीपल का पेड़ दिखाई दिया । धोबन के पास कुछ और तो था नहीं , उसने ईंट के टुकड़ों से 108 भँवरी देकर पीपल के पेड़ की 108 परिक्रमा लगाई । इसके बाद ही जल ग्रहण किया । धोबन के ऐसा करते ही उसका पति जीवित हो उठा । (somvati amavas ki vrat kahani ….)

ब्राह्मण की बेटी का विवाह भी हो गया । इस तरह सभी को अभीष्ट फल और सुख सौभाग्य की प्राप्ति हुई ।

कथा समाप्त हुई ।

जय भोलेनाथ !!!  जय श्रीकृष्ण !!!

इन्हे भी पढ़ें और लाभ उठायें 

स्वस्तिक कब क्यों और कहाँ बनाते है और क्या लाभ 

सुंदर कांड के पाठ से लाभ , इसका तरीका और नियम 

सत्यनारायण भगवान का व्रत , पूजा विधि और सामग्री 

रुद्राक्ष कितना फायदेमंद और असली की पहचान कैसे करें

पूजा मे ये फूल नहीं लेने चाहिए होगा नुकसान 

एकादशी व्रत क्यों है इतना प्रभावकारी 

चौथ माता की कथा बारह महीनों के व्रत वाली 

आरती करने का सही तरीका यह है , जरूर जान लें 

प्रदोष का व्रत करने से मिलते हैं ये अभीष्ट लाभ 

शनिवार का व्रत इस तरह करने से मिलता है लाभ