सूरज को जल क्यों कैसे और कब चढ़ायें अधिकतम लाभ के लिए – Suraj Ko Argh

93

सूरज को जल चढ़ाना या अर्घ देना कितना लाभदायक हो सकता है , यह अधिकतर लोग नहीं जानते हैं । इसके अलावा सूरज को जल किस स्थान पर देना चाहिए , कैसे देना चाहिए  , किस पात्र से देना चाहिए  , जल अर्पित करते समय कौनसा मंत्र बोलना चाहिए  , परिक्रमा कितनी करनी चाहिए इत्यादि के बारे मे भी लोगों को संशय रहता है ।

यहाँ सूरज को अर्घ देने संबंधी सभी प्रकार की जानकारी दी जा रही है ताकि सूर्यदेव को जल अर्पित करने का अधिक से अधिक लाभ प्राप्त हो सके ।

सूरज को जल कैसे देते हैं

सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करके उगते हुए सूर्य को जल अर्पित किया जाता है ।

जिस लोटे से जल अर्पित करें , उसमें जल के साथ थोड़ा गंगाजल मिला लेना ठीक रहता है ।  जल मे रक्त चंदन , पुष्प या अक्षत आदि भी डाल सकते हैं ।

सूरज निकलने के बाद , 8 बजे से पहले अर्घ दे देना चाहिए । जल नंगे पैर अर्पित करना चाहिए । जूते या चप्पल आदि ना पहने । आसन पर खड़े हो सकते हैं । शरीर पर वह तौलिया नहीं होना चाहिए जिससे स्नान के बाद शरीर पोंछा हो ।

सूर्य को जल अर्पित करते समय दोनों हाथ सिर से ऊपर होने चाहिए । इससे सूरज की किरणे शरीर मे प्रवेश करके सकारात्मक ऊर्जा पैदा करती हैं । जल की धारा के बीच से सूर्य देव को देखना चाहिए ।

अर्घ देते समय अंगूठे और तर्जनी अंगुली को मिला कर नहीं रखना चाहिए । तर्जनी अंगुली से अंगूठा दूर रहना चाहिए । लोटे से अर्घ देते समय भी अंगूठे का स्पर्श जल मे नहीं होना चाहिए ।

सूर्य को दिए जाने वाले अर्घ के जल के छीटे आपके पैरों पर नहीं पड़ने चाहिए ।

सूर्य को अर्घ रोजाना दे सकते हैं । सूतक काल मे भी सूर्य को जल अर्पित कर सकते हैं ।

सूरज को जल का अर्घ देने के फायदे

सूरज हमें बहुत अधिक प्रभावित करता है । धार्मिक कारणों से , ज्योतिषीय कारणों से अथवा वैज्ञानिक कारणों से , किसी भी रूप मे देखें तो पाते हैं कि सूरज को अर्घ देने से तीनों रूप से लाभ मिल सकता है ।

सूरज को जल अर्पित करने के धार्मिक लाभ

सूरज को देवता मानकर पूजा की जाती है । वेद पुराणों मे भी इसका उल्लेख मिलता है । भगवान राम खुद सूरज की पूजा करते थे । सूरज को अर्घ देते थे । पांडवों की माता कुंती सूरज की उपासक थी । छठ पर्व पर सूरज की पूजा विशेष रूप से की जाती है ।

( इसे भी पढ़ें : डाला छठ के पर्व पर सूर्य की पूजा कैसे करें )

सूरज को अर्घ देने के ज्योतिषीय लाभ

सूरज को ग्रहों का राजा माना जाता है । ज्योतिष विज्ञान के अनुसार सूरज सिंह राशि का स्वामी होता है । सूर्य गृह किस भाव मे स्थित है , इससे पूरा जीवन प्रभावित होता है ।

सूरज को अर्घ देने से सूर्य ग्रह की अनुकूलता मे वृद्धि होती है । सूर्य गृह अनुकूल होता है तो शारीरिक , मानसिक और आर्थिक रूप से मजबूती प्राप्त होती है ।

सूरज को नियमित जल चढ़ाने का वैज्ञानिक लाभ

सूरज से विटामिन डी प्राप्त होता है । विटामिन डी शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत जरूरी है । आजकल की लाइफ स्टाइल के कारण धूप नहीं मिलने से विभिन्न प्रकार की शारीरिक समस्याओं मे वृद्धि हुई है ।

थोड़ी धूप शरीर के लिए बहुत आवश्यक होती है । सूर्य को अर्घ देने से सूरज की किरणे शरीर पर पड़ती हैं जिसका लाभ शरीर को अवश्य मिलता है और हम स्वस्थ होते हैं ।

( इसे भी पढ़ें : विटामिन डी के कई महत्वपूर्ण कार्य और इसके लिए कितनी धूप चाहिए )

सूर्य जल चिकित्सा

यह एक विशेष चिकित्सा विज्ञान है । इसमें कांच के विभिन्न रंग की बोतल मे जल भरकर धूप मे रखा जाता है । यह जल चिकित्सा मे काम आता है । सूर्य को जल चढ़ाने से सूरज की रोशनी मे मौजूद सभी सात रंगों का चिकित्सीय लाभ शरीर को मिल जाता है ।

( इसे भी पढ़ें : सूर्य जल चिकित्सा मे कौनसे रंग से क्या लाभ होता है )

सूरज को अर्घ कहाँ दें

सूर्य को अर्घ देने का सबसे अच्छा स्थान किसी जलाशय अथवा नदी के किनारे होता है । लेकिन किसी मंदिर मे जाकर भी सूर्य भगवान को अर्घ दे सकते हैं ।

ऐसा संभव ना हो तो घर की छत अथवा बालकोनी से भी सूर्य को अर्घ दे सकते हैं । जहाँ से सूर्य नजर आए ।

यदि सूर्य दिखना भी संभव ना हो तो सूर्य की तरफ ( पूर्व में ) मुँह करके घर मे साफ और शुद्ध जगह अर्घ दे सकते हैं । यह जल एक पात्र मे गिरा कर इकट्ठा कर सकते हैं । फिर इस जल को किसी पौधे मे डाल देना चाहिए । तुलसी मे ना डालें ।

सूरज को अर्घ देने के लिए लोटा कौनसा लें

सूर्य भगवान को तांबा अति प्रिय है । अतः तांबे के लोटे से अर्घ देना सबसे अच्छा होता है । कांसे के लोटे से भी अर्घ दिया जा सकता है ।

सूरज को कितनी बार जल चढ़ायें

सूर्य देव को तीन बार जल चढ़ाना चाहिए । पहले एक बार अर्घ दें और परिक्रमा  करें , फिर अर्घ दें फिर परिक्रमा करें , फिर अर्घ दें फिर परिक्रमा दें । इस प्रकार तीन बार अर्घ और तीन परिक्रमा करनी चाहिए ।

सूरज जिस दिशा मे होता है यानि पूर्व दिशा की तरफ मुँह करके अर्घ देना चाहिए ।

सूर्य को दिए जाने वाले अर्घ का जल तुलसी के पौधे मे नहीं गिरना चाहिए । किसी थाली में सूर्य भगवान को अर्घ दिया हुआ जल इकट्ठा किया है तो वह जल भी तुलसी मे नहीं डालना चाहिए । अन्य पौधों मे यह जल डाला जा सकता है ।

सूर्य को अर्घ देते समय कौनसा मंत्र बोलें

सूरज को जल देते समय यहाँ बताए गए 5 मंत्रों मे से कोई भी मंत्र बोल सकते हैं । मंत्र बोलने से अधिक लाभ मिलता है ।

  1.  “ ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा ”
  2.  “ ॐ ऐहि सूर्य सहस्त्रांशों तेजो राशे जगत्पते, अनुकंपयेमां भक्त्या, गृहाणार्घय दिवाकर:”
  3.   सूर्य के बारह नाम – ॐ सूर्याय नम:, ॐ मित्राय नम: , ॐ रवये नम: , ॐ भानवे नम: , ॐ खगाय नम: , ॐ पूष्णे नम: , ॐ हिरण्यगर्भाय नम: , ॐ मारीचाय नम: , ॐ आदित्याय नम: , ॐ सावित्रे नम: , ॐ अर्काय नम: , ॐ भास्कराय नम:,
  4.  “ ऊं ब्रह्म स्वरुपिणे सूर्य नारायणे नमः ”
  5.   गायत्री मंत्र

सूरज को अर्घ देने के बाद अंत मे सूर्यपस्थान अर्थात सूर्य भगवान को नमस्कार करना चाहिए ।

विशेष परेशानी से मुक्ति के लिए सूर्य को जल

जीवन मे कई प्रकार की परेशानी आती हैं । इनके निवारण के लिए सूर्य को जल अर्पित करते समय लोटे के जल में कुछ विशेष चीजें डालकर अर्घ देने से लाभ मिल सकता है । जो इस प्रकार हैं –

आर्थिक परेशानी से मुक्ति के लिए सूरज को जल

तांबे के लोटे मे शुद्ध जल भरकर उसमे गेंदे का फूल , कुमकुम और अक्षत डालकर सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए ।

विवाह ना होने संबंधी परेशानी के लिए सूरज को जल

तांबे के लोटे मे जल के साथ पीले कनेर का पुष्प , आंवले का रस तथा हल्दी पाउडर डालकर सूर्य को जल अर्पित करना चाहिए ।

संतान प्राप्ति और दाम्पत्य जीवन की शांति के लिए

तांबे के लोटे मे शुद्ध जल के साथ लाल कनेर का पुष्प , रोली और अक्षत मिलकर जल अर्पित करने से संतान सुख प्राप्त होने मे मदद मिलती है ।

सूर्य को रोजाना अर्घ देकर आप भी अपने जीवन को सुख समृद्धि से परिपूर्ण बनायें ।

ॐ सूर्याय नमः !!!

इन्हे भी पढ़ें और लाभ उठायें – 

झाड़ू कब कौनसा लें , धन वृद्धि के लिए कैसे रखें 

ये उपाय करने से मच्छर कभी तंग नहीं करेंगे 

बिना AC  घर को इस तरह रखें बिल्कुल ठंडा 

इसे पढ़ने के बाद कभी नींबू के छिलके फेकेंगे नहीं 

घर खर्च कम करना है तो ये आसान उपाय जरूर करें 

चूहे भूलकर भी आपके घर में नहीं आएंगे यह लेख पढ़ें 

बच्चों के नाम क्या और कैसे रखें 

गाय का दूध आश्चर्यजनक रूप से फायदेमंद क्यों है

एल्युमिनियम के बर्तन और फॉइल से भयंकर नुकसान

अंडा शाकाहारी होता है या मांसाहारी