वाशिंग मशीन टॉप लोडिंग और फ्रंट लोडिंग में से कौनसी ज्यादा अच्छी – Washing machine

68

वाशिंग मशीन अब हर घर की जरुरत हो गई है। हाथो से कपड़े धोने में मेहनत ज्यादा लगती है , समय ख़राब होता है तथा हाथों की स्किन भी ख़राब हो सकती है। इन सभी परेशानियों से बचने का उपाय है वाशिंग मशीन।

यदि आप वाशिंग मशीन खरीदना चाहते हैं तो आपको कुछ सामान्य सी जानकारी जरुर होनी चाहिए। ताकि यह आपकी सुविधा बने ना कि मुसीबत।

वाशिंग मशीन की सामान्य जानकारी

Washing machine ki jankari hindi me

Washing machine मुख्य रूप से दो प्रकार की बाजार में उपलब्ध होती हैं। टॉप लोडिंग और फ्रंट लोडिंग।

1 . टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन

इस Washing machine में धोये जाने वाले कपड़े ऊपर से डाले जाते हैं। कपड़े धुलने वाले ड्रम का मुँह ऊपर की तरफ होता है। ड्रम में कपड़े डालकर पानी भरना होता है साथ ही डिटर्जेंट डालना होता है। यह पुरानी तकनीक वाली मशीन हैं फिर भी बहुत पसंद की जाती हैं।

टॉप लोडिंग में दो तरह की वाशिंग मशीन आती हैं।

  • सेमी ऑटोमेटिक – इस प्रकार की मशीन में ड्रम में कपड़े धुलने के बाद हाथों से निकाल कर दुसरे ड्रम यानि ड्रायर में डालने होते हैं। ड्रायर में कपड़े घूमने से अधिकतर पानी निकल जाता है। इसके बाद थोड़ी देर उन्हें खुले में फ़ैलाने होते हैं। इसकी कीमत सबसे कम होती है।
  • फुल ऑटोमेटिक – इसमें एक ही ड्रम होता है कपड़े धुलते भी हैं और ड्रायर का काम भी इसी में हो जाता है। कपड़े लगभग सूखे हुए बाहर निकलते हैं। इसकी कीमत सेमी ऑटोमेटिक से अधिक और फ्रंट लोडिंग से कम होती है।

2 . फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन

इसमें सामने की तरफ से कपड़े डाले जाते हैं। इसका ड्रम आड़ा होता है , इसमें झुक कर कपड़े डालने होते हैं। यह आधुनिक तकनीक वाली मशीन है। इसकी कीमत सबसे ज्यादा होती है।

टॉप लोडिंग तथा फ्रंट लोडिंग में अंतर

Diffrence between top loading and front washing machine

कुछ लोग यह तय नहीं कर पाते कि Top Loading Washing machine लें या फ्रंट लोडिंग। या इन दोनों मशीनों में क्या फर्क है। यहाँ इन दोनों प्रकार की की विशेषताएँ तथा कमियाँ क्या हैं यह बताया गया है। इन्हें ध्यान में रखकर आप उचित निर्णय कर सकते हैं। ये अन्तर इस प्रकार हैं –

  • टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन में कपड़े कभी भी डाले या निकाले जा सकते हैं , लेकिन फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन एक बार चालू करने के बाद लॉक हो जाती है बीच में कपड़े डालना या निकालना संभव नहीं होता।
  • Top Loading Washing machine मशीन का ड्रम खड़ा होता है। धुलाई के लिए पूरा ड्रम नहीं घूमता सिर्फ नीचे का हिस्सा घूमता है।  जबकि Front Loading Washing machine में पूरा ड्रम घूमता है इसमें कपड़ों की धुलाई बहुत अच्छी होती है। हालाँकि कॉलर और स्लीव अधिक गंदे हो तो दोनों में ही अलग से घिसने पड़ते हैं।
  • टॉप लोडिंग Washing machine में पुरानी तकनीक का उपयोग किया जाता है इस वजह से उसमे अधिक बिजली लगती है जबकि फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन बिजली कम खाती है।
  • टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन में वाशिंग पाउडर तथा पानी अधिक लगता है जबकि फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन में पानी और डिटर्जेंट कम लगते हैं।
  • Front Loading Washing machin में सिर्फ बिना झाग वाला वाशिंग पाउडर ही डाला जाता है। जबकि टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन में झाग वाला या बिना झाग वाला कोई भी वाशिंग पाउडर डाल सकते हैं।
  • फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन को महीने में एक बार डी स्केलिंग अर्थात सफाई करनी पड़ती है जो केमिकल की मदद से की जाती है अन्यथा मशीन ख़राब हो सकती है। टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन को इस प्रकार की सफाई की जरुरत नहीं होती है।
  • फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन को पानी का लगातार और तेज प्रेशर से मिलना जरुरी होता है । मशीन और पानी साथ में चलते रहते हैं। पानी बीच में बंद होने पर कपड़े या मशीन ख़राब होने की संभावना होती है। Top Loading  Washing machine में पानी भरने के बाद पानी बंद कर दिया जाता है। इसमें पानी बाल्टी से भरा जा सकता है।
  • टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन सस्ती होती है जबकि Front Loading Washing machine महँगी होती है।
  • फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन में कपडे की क्वालिटी के अनुसार प्रीसेट प्रोग्राम अधिक होते है जबकि टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन ऐसे प्रोग्राम कम होते हैं।
  • Top Loading Washing machine में कपड़े डालने के लिए झुकना नहीं पड़ता , जबकि फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन में झुक कर कपडे डालने पड़ते हैं और झुक कर ही निकालने पड़ते हैं , यदि कमर में दर्द हो तो समस्या हो सकती है।
  • टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन में Front Loading Washing machine की अपेक्षा आवाज ज्यादा आती है।
  • टॉप लोडिंग वाशिंग मशीन की मेंटेनेस फ्रंट लोडिंग की अपेक्षा सस्ती होती है।
  • फ्रंट लोडिंग वाशिंग मशीन दिखने में एलीगेंट होती है। टॉप लोडिंग आम मशीन जैसी दिखती है।

वाशिंग मशीन की कैपेसिटी

kitne KG vali washing machine le

वाशिंग मशीन की कैपेसिटी किलो  KG यानि वजन के अनुसार होती है। बाजार में घरेलु उपयोग के लिए ये 5.5 KG , 6 KG . 6.5 KG , 7 KG … इस प्रकार से आती हैं। यह आपको तय करना होता है कि आपको कितने KG कैपेसिटी वाली मशीन लेनी है।

कितने केजी वाली वाशिंग मशीन लें यह अंदाजा लगाने के लिए एक शर्ट और पेंट मिलाकर 1 KG माना जाता है। यानि 6 KG वाली मशीन में आप 6 शर्ट और 6 पेंट एक बार में डालकर धो सकते हैं।

चार सदस्य वाले परिवार के लिए 6 या 6.5 KG की मशीन से आसानी से काम चल जाता है। इसमें आप बेड शीट जैसे बड़े कपडे या तौलिये आदि भी आराम से धो सकते हैं।

वाशिंग मशीन के ब्रांड

Washing Machine Brands

बाजार में कई कंपनी की वाशिंग मशीन उपलब्ध है। मुख्य तकनीक सभी की लगभग एक जैसी होती है। आप किसी भी कम्पनी की मशीन ले सकते हैं। छोटे मोटे बदलाव के साथ कम्पनियाँ खुद की मशीन श्रेष्ठ बताने का प्रयास करती हैं। लेकिन वो सब मार्केटिंग का हिस्सा होते हैं।

बाजार में मुख्य रूप से अधिक पसंद की जाने वाली Washing machine के ब्रांड में एल जी LG  , सैमसंग  Samsung  , गोदरेज godrej  , पैनासोनिक panasonic , बौश Bosch , आई एफ बी  IFB , वर्लपूल Whirlpool आदि शामिल हैं।

जो भी मशीन आपके बजट में आ रही हो , मशीन के बटन आसानी से समझ में आने वाले हो , जिसमे गारंटी और वारंटी अधिक मिलती हो , जिसका सर्विस सेंटर आपके आस पास हो , जिसमें आपको अपनी पसंद का रंग मिल रहा हो वह वाशिंग मशीन निसंकोच ली जा सकती है।

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

पेशाब देर तक रोके रखने से हो सकते ये नुकसान 

फाइबर क्यों बहुत जरुरी हैं आपके खाने में 

घर में कौनसी सब्जी उगाना आसान होता है 

कुत्ते को ये चीजें भूल कर भी ना खिलाएं 

हारसिंगार का पौराणिक और औषधीय महत्त्व 

जन्म प्रमाण पत्र क्यों जरूर समय से बनवा लेना चाहिए 

सदाबहार के फूल पत्ती से शानदार घरेलु उपचार 

स्किन कर बालों पर मुल्तानी मिट्टी लगाने के फायदे 

टैटू बनवाने से पहले ये जानना क्यों बहुत जरुरी 

शरीर में खून कैसे और कहाँ बनता है 

रुद्राक्ष के फायदे और असली की पहचान