गाजर के फायदे कई गुना कैसे बढ़ते है – Carrot Benefits Multifold

462

गाजर Gajar या Carrot सर्दी के मौसम में आसानी से मिलने वाली एक शानदार सब्जी है। इसका लाल रंग एक विशेष आकर्षण पैदा करता है। गाज़र का उपयोग हर प्रकार से बहुत लाभदायक होता है।

सर्दी में मौसम में गाज़र का हलवा दादी , नानी की याद कराता है। इसका स्वाद जैसे मुंह में घुल सा जाता है। हर घर में गाजर के हलवे का आनंद लिया जाता है।

गाजर का और भी कई तरीकों से उपयोग किया जा सकता है। जैसे गाज़र का सूप , गाज़र का अचार , गाज़र की सब्जी , गाज़र का जूस बना सकते है। गाजर को सलाद की तरह भी खा सकते है। इसके लाल रंग के कारण इसकी किसी भी डिश एक सुन्दर रंग आ जाता है ।

गाजर

गाजर दुनिया में सबसे ज्यादा लोकप्रिय सब्जी में से एक है । यह लाल रंग के अलावा सफ़ेद , पीले , नारंगी ,और बैगनी रंग की भी होती है। रंग के हिसाब से इसके गुणो में मामूली अंतर हो सकता है। गाज़र असल में एक जड़ है। यह जमीन के अंदर बनती है।

शुरू में इसे पत्तियों की खुशबू के कारण उगाया जाता था। गाज़र के पत्तों की भी सब्जी बनती है और यह भी बहुत गुणकारी होती है।

गाजर के पोषक तत्व – Carrot Nutrients

गाजर का विशेष महत्त्व इसके लाभदायक तत्व बीटा केरोटीन तथा फाइबर के कारण होता है। इनके अलावा गाज़र में कई प्रकार के एंटी ऑक्सीडेंट होते है। इसमें विटामिन ए , विटामिन सी , विटामिन के , पैंटोथेनिक एसिड ,फोलेट , पोटेशियम , आयरन , कॉपर ,और मैगनीज आदि पाये जाते है।

ये सभी तत्व शरीर के लिए किसी ना किसी रूप में फायदा पहुँचाते है।

गाज़र को पकाकर खाना अधिक लाभदायक है होता है । पकाने से गाजर के लाभदायक तत्व कई गुना बढ़ जाते है। रिसर्च में पाया गया है की पकाई हुई गाजर में फेनोलिक एसिड और बीटा केरोटीन की मात्रा में आश्चर्यजनक रूप से कई गुना वृद्धि हो जाती है।

गाज़र को फैट के साथ पकाने से फायदेमंद ” केरोटेनोइड ” की मात्रा में भी कई गुना वृद्धि होती है। ये तत्व फैट में घुलनशील होने के कारण शरीर में इनका अवशोषण सही तरीके से हो पाता है अर्थात गाजर को दूध या घी के साथ पकाने से इसके फायदे कई गुना बढ़ जाते है।

इसीलिए गाज़र का हलवा अत्यधिक पोष्टिक होता है , इसे अवश्य खाना चाहिए। इसे बनाना भी बहुत आसान होता है। गाजर का हलवा स्वादिष्ट बनाने की विधि जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

गाजर के फायदे – Carrot Benefits

Gajar ke Fayde

कृपया ध्यान दें :- किसी भी लाल अक्षर पर क्लीक करके उस शब्द के बारे में विस्तार से जान सकते है।

विटामिन ” ए “

गाजर में बीटा केरोटीन नाम का तत्व इसके फायदेमंद होने का प्रमुख कारण है। इसी तत्व के कारण गाजर से हमें प्रचुर मात्रा में विटामिन ” ए ” प्राप्त होता है। विटामिन ” ए ” एंटीऑक्सीडेंट का एक समूह है जो आँखों , हड्डियों और प्रतिरोधक क्षमता के लिए अतिआवश्यक होता है।

गाजर में मौजूद बीटा केरोटीन को विटामिन ” ए ” में परिवर्तित करने का काम लीवर करता है।

शाकाहारी भोजन में इतनी मात्रा में  विटामिन ” ए ” किसी भी दूसरी चीज से नहीं मिल पाता। विटामिन ” ए ” शरीर के कई अंगों के सुचारू रूप से काम करने के लिए आवश्यक होता है। इसकी कमी से कई प्रकार की परेशानियां पैदा हो सकती है।

आँखें

गाजर आँखों के लिए बहुत लाभदायक होती है । इससे मिलने वाला विटामिन ” ए ” आँखों की सतह पर एक परत बना देता है जो बेक्टिरिया तथा वायरस आदि संक्रमण से आँखों की रक्षा करती है। इस वजह से आंख का कोर्निया स्वस्थ रहता है। इससे कई प्रकार की बीमारियों से बचाव होता है।

यह आंख में होने वाली जलन या सूजन आदि को कम करता है। अधिक उम्र के कारण होने वाली आँख की  कमजोरी से बचाता है। गाजर के नियमित उपयोग से मोतियाबिंद होने की संभावना कम हो जाती है। रोजाना कुछ दिन एक गिलास गाजर का रस पीने से आँख की गुहेरी होना ठीक हो जाता है।

ह्रदय

गाजर खाने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है। गाजर में पाये जाने वाले सोल्युबल फाइबर नुकसान देह LDL कोलेस्ट्रॉल कम करने में मददगार होता है । गाजर खाने से शरीर को विषैले तत्व बाहर निकालने में भी मदद मिलती है। इसके उपयोग से लीवर का फैट कम होता है।।

गाज़र खाने से रक्त वाहिनी स्वस्थ रहती है जिससे ह्रदय पर दबाव नहीं पड़ता। ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। ब्लड प्रेशर ह्रदय रोग का कारण बन सकता है। इस प्रकार गाज़र हृदय रोग से बचाती है।फाइबर कोलेस्ट्रॉल को कम करते है। इससे हार्ट हेल्थी रहता है।

पाचन तंत्र

इसमें मौजूद फाइबर की प्रचुर मात्रा पाचन तंत्र  के लिए बहुत लाभदायक होती है। फाइबर के कारण आँतों की सफाई अच्छे से हो जाती है। इससे कब्ज की परेशानी पैदा नहीं होती।

कब्ज से बचाव होने के कारण बवासीर और आँतों के कैंसर से भी बचाव होता है। आंतें साफ रहने से पोषक तत्वों का अवशोषण सही तरीके से हो पाता है जिससे स्वाथ्य अच्छा रहता है।

यौन शक्ति

गाजर वीर्य वर्धक होती है। इसके नियमित उपयोग से पुरुष में यौन शक्ति बढ़ती है।

गाज़र के टुकड़े – आधा कप ,  लहसुन – चार कली  और लौंग – चार  . इन सबकी चटनी बना कर खाने से यौन आनंद में इजाफा होता है।

एक कप गाज़र के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर पीने से भी यौन शक्ति बढ़ती है।

गाजर के रस में आंवले का रस मिलाकर कुछ दिन लेने से पेशाब के साथ धातु जाना रुकता है।

कैंसर

गाजर फेफड़े के कैंसर , स्तन के कैंसर और आंतों के कैंसर से बचाती है। गाज़र के एंटीऑक्सीडेंट मेटाबोलिज्म की प्रक्रिया में कोशिका को होने वाले नुकसान की क्षति पूर्ति करते है। इससे कोशिका अधिक समय तक स्वस्थ रहकर अपना कार्य कर पाती है ।

स्किन

गाजर का विटामिन ” ए ” त्वचा को धूप से होने वाले नुकसान से बचाता है। विटामिन ए की कमी के कारण त्वचा , बालों में तथा नाख़ून में रूखापन आ सकता है। विटामिन ” ए ” झुर्रियां ,  मुहाँसे , स्किन के रूखेपन , झाइयां और असमान रंग की त्वचा से बचाता है।

चेहरे पर निखार लाने के लिए गाज़र को पीस कर शहद मिलाकर चेहरे पर फेस मास्क की तरह लगाया जा सकता है।

दाँत में कीड़ा

कच्ची गाज़र खाने से दाँत और मुंह की सफाई हो जाती है। दाँतों में जमा हुआ प्लाक और भोजन के कण साफ हो जाते है। इसे खाने से मुँह में बेक्टिरिया नहीं पनपते। इस तरह दाँत में कीड़ा यानि केविटी होने से रोका जा सकता है।

इन्हें भी जानें और लाभ उठायें :

इमली / खीरा ककड़ी / पालक / हरी मिर्चप्याज / करेला / तुरई / भिंडी / चुकंदर / मटर / लौकी / मूली अदरक / आलू  / नींबू / टमाटर / लहसुन  / आंवला केला / अनार / सेब  / अमरुद / सीताफल /  अंगूर गन्ना  पपीता / संतरा नाशपती / बील खरबूजा / तरबूज आम / जामुन / मशरूम  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here