अरंड का तेल पत्ते और बीज के फायदे नुकसान और घरेलु नुस्खे – Castor Oil

547

अरंड का तेल Castor Oil एक जाना माना नाम है। इसे अरंडी या एरंड के तेल के नाम से भी जाना जाता है। दवा के रूप में कैस्टर ऑइल या अरंडी का तेल मेडिकल स्टोर पर आसानी से उपलब्ध है। साधारणतया इसे कब्ज दूर करने या त्वचा पर लगाने के लिए काम लिया जाता है।

अरंड के पौधे की बड़ी पत्तियां होती हैं जो लम्बी डंडी से तने से जुडी होती हैं। पत्तियां चमकदार होती हैं और शुरू में ताम्बे जैसे रंग की होती हैं बाद में गहरे हरे रंग की हो जाती है। इसमें कांटेदार फल लगते है जिसमे सामान्य तौर पर तीन बीज होते हैं। बीज अंडाकार भूरे रंग के होते हैं। इन पर धब्बे और हल्के रंग की लकीरें आदि होते है।

बीज से तेल निकाला जाता है। यह तेल ही अरंडी का तेल Castor Oil कहलाता है। इसके बीजों में रिसिन नामक विषैला तत्व होता है जो तेल निकालने की प्रक्रिया में गर्मी के कारण प्रभावहीन हो जाता है।

माना जाता है कि अरंड का तेल लगाने से गंजे सिर पर नए बाल उग सकते हैं। आइये जाने अरंड और इसके तेल के बारे में विस्तार से –

अरंड का तेल क्या काम आता है – Use of Castor Oil

अरंड और अरंड के तेल का औषधि के रूप में प्राचीनकाल से उपयोग होता आ रहा है। अरंड का तेल तथा बीज , पत्ते आदि दवा के रूप में तो काम आते ही हैं ,साथ ही इसके तेल के विशेष प्रकार के गुणों के कारण यह कई प्रकार की इंडस्ट्री में काम आता है।

अरंडी का तेल साबुन , लुब्रीकेंट , ब्रेक फ्लूड , डाई , कोटिंग , पोलिश , नाइलोन , दवा , परफ्यूम आदि बनाने में काम आता है। यह अन्य इंडस्ट्री जैसे फ़ूड इंडस्ट्री ,  पैकेजिंग इंडस्ट्री आदि में भी काम आता है।

कुछ जगह अरंडी का तेल का उपयोग गेहूं , चावल और दाल में डालकर उन्हें ख़राब होने से बचाने के लिए किया जाता है। गुजरात में तुअर की दाल को लम्बे समय तक कीड़े आदि से बचाने के लिए इसे विशेष रूप से मिलाया जाता है।

अरंड के फायदे दवा के रूप में – Castor Benefits

—  प्रौढ़ और वृद्ध लोगों को वायु सम्बन्धी परेशानी  खासकर जोड़ों में दर्द और गठिया अधिक परेशान करता है। ऐसे में अरंड का तेल व अरंड पाक फायदा करता है। कमर दर्द में अरंड पाक का उपयोग हितकर होता है। इसे चिकित्सक की सलाह से खाना चाहिए।

—  अरंड का तेल 2 से 4 बूँद रात को सोते समय लेने से पेट साफ हो जाता है आंतों में जमा मल निकल जाता है और आंतें स्निग्ध और कोमल बनती हैं। कुछ दिन लगातार लेने से पुरानी कब्ज भी ठीक हो जाती है।

—  कमर का दर्द , पुट्ठों का दर्द , ह्रदय पीड़ा , वात से उत्पन्न दर्द में अरंड के तेल की मालिश से लाभ होता है।

—  स्तनपान कराने वाली महिलाओं के स्तन में सूजन और दर्द में अरंड के पत्ते स्तन से बांधने और अरंड का तेल लगाने से आराम मिलता है।

—  कब्ज के कारण वायु के प्रकोप से पेटदर्द , सिरदर्द , हृदय  पीड़ा आदि होने लगते हैं। ऐसी स्थिति में अरंड का तेल गुणकारी होता है।

—  यह त्वचा के लिए बहुत लाभदायक होता है। त्वचा रूखी होकर चटक जाये , एड़ी की स्किन फट जाये , बिवाइयाँ फट जाये तो अरंड का तेल दिन में दो चार बार लगाने से बहुत लाभ होता है।

—  अरंड पायस या इण्डोली की खीर फायदेमंद होती है। खीर बनाने के लिए एक गिलास दूध और एक गिलास पानी मिला लें। इसमें अरंड के बीज की गिरी ( छिलका और अंकुर निकली हुई ) – 5 ग्राम और सौंठ का चूर्ण – 5 ग्राम मिला दें। इसे खीर की तरह पका लें। इसमें स्वाद के हिसाब से दो तीन चम्मच चीनी मिलाकर खायें। यह खीर कब्ज , आमदोष, आमवात , कटिशूल और वातव्याधि में लाभदायक  होती है।

इसके उपयोग के समय गरिष्ठ भोजन , इमली , अमचूर , छाछ , दही , ज्यादा तेल , गुड़ , बेसन , तथा गैस बनाने वाली चीजें नहीं लेनी चाहिए। अरंडी के बीजों का प्रयोग करते समय बीज के बीच का जीभ जैसा भाग निकाल देना चाहिए क्योंकि यह जहरीला होता है।

अरंड के तेल से गंजे सिर पर बाल

अरंडी के तेल में प्राकृतिक रूप से एंटी बैक्टीरियल तथा एंटीफंगल गुण पाए जाते हैं यह सिर में होने वाले वाले इन्फेक्शन , डैंड्रफ आदि से मुक्ति दिला सकता है।

इसमें मौजूद रिसिनोलिक एसिड सिर की त्वचा और बालों के लिए लाभदायक होता है। अरंड के तेल में पाए जाने वाले तत्वों के कारण सिर की त्वचा का  pH बैलेंस नियंत्रित रहता है , सिर में प्राकृतिक मॉइस्चर बना रहता तथा सिर में लगाये जाने वाले तेज केमिकल आदि के कारण हुए  नुकसान को ठीक होने में मदद मिलती है।

इन वजहों से यह बालों का गिरना कम कर सकता है। अतः अरंडी का तेल Castor Oil सिर में लगाने से नए बाल उग आते हैं यह निश्चित तौर पर तो नहीं कहा जा सकता लेकिन कैस्टर ऑइल में पाये जाने वाले तत्व सिर की त्वचा और बालों के लिए फायदेमंद अवश्य होते हैं।

संभव है किसी किसी के लिए यह नए बाल उगने का कारण बन जाये। किसी किसी को यह तेल लगाने से एलर्जी भी हो सकती है। यदि ऐसा महसूस हो तो अरंडी का तेल Castor Oil नहीं लगाना चाहिए।

अरंड के घरेलु नुस्खों में उपयोग – Castor in home remedies

कमर दर्द 

दर्द वाली जगह अरंडी का तेल लगाकर अरंडी के पत्ते लगाकर सिकाई करने से लाभ होता है। अरंडी के बीज की खीर फायदा करती है।

सिर दर्द

वायु के कारण होने वाले सिरदर्द में अरंडी के पत्ते उबाल कर बांधना चाहिए और सिर पर अरंडी के तेल की मालिश करनी चाहिए सोंठ के काढ़े में आधा चम्मच अरंडी का तेल मिलाकर पीने से लाभ होता है।

दाँत में दर्द 

अरंडी के तेल में कपूर मिलाकर मालिश करने से दांत का दर्द कम होता है।

पेट में दर्द 

अरंडी के तेल में हींग और काला नमक  मिलाकर लेने से आराम आता है। अरंडी के पत्ते गरम करके पेट पर बांधने से आराम मिलता है।

स्किन फटने पर 

सर्दी के मौसम में त्वचा या एड़ियां फट जाती है जो अरंडी का तेल गरम करके लगाने से जल्दी ठीक हो जाती हैं ।

जोड़ों का दर्द 

अरंडी के तेल में सोंठ पाउडर मिलाकर गर्म करके मालिश करने से जोड़ों के दर्द में आराम आता है। अरंडी के पत्तों से सेक करने से भी आराम मिलता है। सोंठ के काढ़े में अरंडी का तेल मिलाकर पीने से लाभ मिलता है।

अनिद्रा 

पांव के तलवे और सिर पर अरंडी के तेल की मालिश करने से नींद अच्छी आती है।

गाँठ 

अरंडी के बीज और हरड़ सामान मात्रा में लेकर पीस लें। इसे अंदरूनी गाँठ या फोड़े फुंसी पर लगाने से यह ठीक होती है।

अंदरूनी चोट 

अरंडी के पत्ते गर्म करके उन पर हल्दी लगाकर चोट वाले स्थान पर बांधने से अंदरूनी चोट ठीक होती है।

स्तन में दर्द या सूजन 

अरंडी के पत्ते पीस कर लेप करने से आराम मिलता है।

एड़ी में दर्द 

अरंडी के पत्ते गर्म करके लगाने और ऊपर से पट्टी बांधने से एड़ी का दर्द मिटता है। साथ ही गर्म पानी में अरंडी का तेल मिलाकर पीना चाहिए।

अरंड से सावधान – Be Careful

अरंडी के बीजों में रिसिन नामक विषैला तत्व होता है। बीज से तेल निकालने की प्रक्रिया में गर्मी के कारण विषैला प्रभाव समाप्त हो जाता है।

अरंड के बीज का उत्पादन करने में कुछ खतरा होता है। अरंड का पौधा एलर्जी का कारण बन सकता है। इस वजह से इसके विकल्पों की तलाश जारी है। वैज्ञानिकों द्वारा इसे जेनेटिकली बदल कर इससे होने वाले नुकसान को समाप्त या कम करने की दिशा में रिसर्च जारी है।

 

क्लिक करके इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

 

अशोक वृक्ष के फायदे और वास्तु प्रभाव 

पीपल के पेड़ का महत्त्व और पूजन 

नीम के फायदे , उपयोग और गुण 

कपूर के फायदे नुकसान और उपयोग 

योग मुद्रा के तरीके और उनके लाभ 

रेबीज और कुत्ते बन्दर के काटने पर उपाय 

गर्भावस्था में क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए 

उबासी आना कब खतरनाक हो सकता है 

छींक क्यों नहीं रोकनी चाहिए 

पेट या आमाशय कैसे काम करता है समझें सरल भाषा में 

शाकाहार और मांसाहार के फायदे और नुकसान 

विटामिन डी के लिए कितनी देर धूप में रहने चाहिए 

कैल्शियम की कमी कैसे दूर करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here