शेयर बाजार में निवेश करना चाहिए या नहीं – Share Market

548

शेयर बाजार Equity Market में शेयर ख़रीदे बेचे जाते हैं यह तो सब जानते हैं लेकिन कुछ लोग इससे दूरी बनाये रखते हैं क्योंकि यह सबको समझ में नहीं आता। कुछ लोग शेयर मार्केट को सट्टा बाजार कहते या समझते हैं। आइये जानते हैं शेयर बाजार क्या है और क्या इससे दूर रहना चाहिए ?

शेयर क्या होते हैं

What is a share hindi me

किसी भी प्रकार का व्यापार Business करने के लिए पैसे यानि पूँजी की जरुरत होती है। यदि व्यापार ज्यादा बड़ा है तो ज्यादा पूँजी Capital की आवश्यकता होती है। यह पूँजी बहुत सारे लोगों से इकठ्ठा करके सभी को उनके द्वारा दिए गए पैसे के हिसाब से उस व्यापार का हिस्सा बना दिया जाये तो यह हिस्सा ही शेयर Share कहलाता है।

उस व्यापार से होने वाले लाभ Profit का फायदा उन सभी को मिलता है जिन्होंने उस व्यापार में हिस्सा लिया यानि उस व्यापार का शेयर ख़रीदा । यह शेयर बाद में बेचा भी जा सकता है जिसे कोई दूसरा व्यक्ति खरीद सकता है। जहाँ यह खरीद बेच होती है उसे ही शेयर बाजार कहते है। इसे इक्विटी मार्केट Equity Market  भी कहा जाता है।

शेयर बाजार में तेजी और मंदी

Share Price movement in hindi

हर व्यक्ति की सोच समझ में अंतर होता है। किसी व्यापार के बारे में एक व्यक्ति की सोच यह हो सकती है कि इस व्यापार में घाटा होगा ऐसा व्यक्ति अपने शेयर को बेच देगा। दूसरे व्यक्ति की सोच उसी व्यापार के बारे में यह हो सकती है कि उस व्यापार में आगे चलकर बहुत अच्छा लाभ होगा , ऐसा व्यक्ति शेयर खरीद लेगा।

यदि किसी कंपनी के व्यापार में लगातार घाटा हो रहा हो और आगे भी घाटा ही होने की सम्भावना नजर आ रही हो तो सभी उस कंपनी के शेयर बेचना चाहेंगे। ऐसे में शेयर की कीमत कम होती जाएगी। यह उस शेयर में मंदी का कारण बनता है। जिन लोगों को मंदी की आशंका होती है वे बेअर्स Bears कहलाते हैं।

इसी प्रकार कोई कंपनी व्यापार को बहुत अच्छे से संभाल रही है और लगातार मुनाफा कमा कर निवेशकों में लाभ का हिस्सा बाँट रही है और आगे भी ऐसी ही सम्भावना लग रही हो तो ऐसी कंपनी के शेयर सभी खरीदना चाहेंगे। ऐसे में उस कंपनी के शेयर महंगे होते चले जायेंगे। यह उस शेयर की तेजी का कारण बनता है। जिन लोगों को तेजी की आशा होती है वे बुल्स Bulls कहलाते हैं।

इस प्रकार खरीद बेच होने पर शेयर के भाव ऊपर नीचे होते रहते हैं। कभी कभी किसी शेयर या व्यापार के बारे में लोग कुछ अधिक आशान्वित होकर महंगे दाम पर भी शेयर खरीद लेते हैं ऐसे में उस शेयर में अच्छे व्यापार के होते हुए भी नुकसान हो सकता है। लेकिन अच्छे व्यापार के चलते, कुछ समय बाद उस शेयर की कीमत वापस बढ़ भी जाती है।

क्या शेयर बाजार सट्टा है

Share market speculation or what hindi me

शेयर बाजार में खुद की सोच समझ के अनुसार शेयर खरीदने या बेचने पर फायदा या नुकसान होता है। शेयर बाजार सट्टा बाजार नहीं है बल्कि यह बहुत बड़े व्यापार में हिस्सा बनने का अवसर होता है। ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने इसे बहुत पहले समझ लिया था और रिलायंस , टाटा , बिरला आदि की कंपनियों के शेयर ख़रीदे थे। उन लोगों को इन कंपनियों का हिस्सा बनने से बहुत अच्छा लाभ हुआ है।

ये नाम कुछ उदाहरण मात्र हैं। ऐसी बहुत सारी कम्पनियाँ हैं जिन्होंने भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों तक में अपना व्यापार फैला कर बहुत तरक्की की और उसका फायदा उन सभी शेयर धारकों को मिला जिन्होंने सही अंदाजा लगाकर उन कंपनियों के शेयर ख़रीदे। अतः शेयर में निवेश करना सट्टा बिलकुल नहीं है।

अनुभवी लोगों से सलाह करके अच्छी कंपनी के शेयर खरीद कर रखने से लाभ होने की पूरी सम्भावना होती है। कंपनी की सालाना रिपोर्ट और शेयर की कीमत को भी देखते रहना चाहिए ताकि वांछित लाभ नहीं होने पर बदलाव करके किसी अन्य कंपनी के शेयर खरीद सकें।

जरुरी नहीं कि अनुभवी लोगों द्वारा शुरू किया गया हर व्यापार सफल ही होगा या इन कंपनियों के शेयर खरीदने से सिर्फ लाभ ही होगा। रिलायंस पावर इसका एक उदाहरण है। इस कंपनी के शेयर लोगों ने बिना उस व्यापार को समझे महंगे दाम पर खरीद लिए और इसलिए बाद में उन्हें नुकसान हुआ । अतः सावधानी के साथ अनुभवी लोगों के सलाह लेकर निवेश करना चाहिए।

कुछ लोग चाहते हैं कि जिस दिन वो शेयर खरीदें , उसी दिन उसे बेचकर तुरंत लाभ भी कमा लें। ऐसा करने में बहुत ज्यादा जोखिम होता है। शेयर मार्केट में नुकसान होने का यह बहुत बड़ा कारण बनता है। इसी प्रकार के अनुभव को जानकर कुछ लोग शेयर मार्केट से दूरी बना लेते हैं। अच्छी कंपनी में लम्बे समय तक किये गए निवेश से लाभ होने की संभावना अधिक होती है।

इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

NEFT , RTGS , IMPS  में फर्क

हेल्थ इंश्योरेंस कराने से पहले ये जरूर जान लें 

हाउसिंग लोन लेने से पहले इसे जरूर पढ़ लें  

म्युचुअल फंड क्या होते हैं जानें सरल हिंदी में 

एसआईपी SIP क्या होती है और कैसे शुरू करते है

पोस्ट ऑफिस में खाता कैसे और कौनसा खुलवायें