पोस्ट ऑफिस में पैसे जमा करने के साधन – Post Office Deposits

पोस्ट ऑफिस लम्बे समय से बचत के पैसे जमा कराने का एक अच्छा माध्यम रहा है। यह पैसे जमा कराने के लिए एक सुरक्षित जगह है। पोस्ट

ऑफिस में पैसे जमा कराने के लिए कई प्रकार से खाता खुलवाया जा सकता है। इन खातों में नियमानुसार ब्याज मिलता है। खाता खुलवाने के

के लिए एक फॉर्म भरना होता है। जिसमे नाम , पता , आधार कार्ड नंबर आदि जानकारी तथा फोटो देनी होती है। कुछ सामान्य प्रकार के खाते

जिनमे अधिकतर पैसे जमा कराये जाते हैं वो इस प्रकार हैं।

 

पोस्ट ऑफिस बचत खाता – Saving Account

 

—  यह खाता नकद द्वारा खुलवाया जाता है।

—  इस बचत खाते में कभी भी और कितने भी पैसे जमा करा सकते है या निकाल सकते है।

—  इसमें कम से कम ( मिनिमम बैलेंस ) 50 रूपये जरूर होने चाहिए।

—  यदि इस खाते में कम से कम 500 रूपये रख सकें तो चेक बुक भी प्राप्त कर सकते है। यदि आपका पहले से बचत खाता हो तो उसमे चेक

बुक बाद में भी ली जा सकती है।

—  इसमें वर्तमान में 4 % ब्याज दिया जाता है।

—  यह खाता बच्चों के नाम से भी खुलवाया जा सकता है और 10 साल की उम्र के बाद बच्चे खुद खाते को संभाल सकते हैं।

—  इसमें दो लोगों के नाम से जॉइंट खाता भी खुलवा सकते हैं। एक नाम से खुलवाए गए खाते को बाद में एक नाम और जुड़वाकर जॉइंट खाता

बनाया जा सकता है।

 

पोस्ट ऑफिस में ग्राहकों की सुविधा के लिए कई प्रकार के परिवर्तन किये जा रहे है। यह प्रक्रिया पूरी होने के बाद –

—  किसी भी जगह मौजूद खाते में कही से भी पैसे जमा कराने की सुविधा मिलने लगेगी।

—  जल्दी ही पोस्ट ऑफिस के खातों के लिए ATM card मिलने शुरू हो जायेंगे।

—  पोस्ट ऑफिस के बचत खाते से म्युचुअल फंड की SIP शुरू की जा सकती है।

—  SMS अलर्ट की सुविधा ली जा सकती है।

 

पोस्ट ऑफिस आवर्ती जमा खाता – Recurring Deposit ( RD )

 

—  इस प्रकार के खाते में हर महीने रूपये जमा कराने होते हैं। कम से कम 10 रूपये महीने से खाता खुलवाया जा सकता है।

—  यह खाता नकद या चेक से खुलवा सकते हैं।

—  एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस में खाता ट्रांसफर किया जा सकता है।

—   यह खाता बच्चों के नाम से भी खुलवाया जा सकता है। 10 साल की उम्र के बाद बच्चे खुद खाता चला सकते हैं।

—  इसमें दो लोगों के नाम से जॉइंट खाता खुलवा सकते हैं।

—  यदि महीने की 15 तारीख से पहले खाता खुलवाते हैं तो 1 से 15 तारीख तक कभी ही पैसे जमा करा सकते हैं। 15 तारीख के बाद खुलवाए

गए खाते में 15 तारीख से महीने की आखिरी तारीख तक पैसे जमा करा सकते हैं।

​ —  समय पर पैसे जमा नहीं करवा पाने पर 100 रूपये पर 1 रूपये के हिसाब से अतिरिक्त पैसे जमा कराने होते हैं। यदि 4 बार लगातार पैसे

जमा नहीं कराते तो खाता बंद हो सकता है। दो महीने तक चालू करवा सकते है , फिर चालू नहीं करा सकते।

—  इस खाते में छह महीने के पैसे एक साथ एडवांस में जमा करा सकते हैं। इस पर छूट भी मिलती है।

—  एक साल के बाद खाते में कुल जमा पैसे में से आधा निकाले जा सकते हैं।

 

1 जुलाई 2017 से ब्याज की दर 7 .1 % वार्षिक ( Quaterly Compounded ) कर दी गई है।

 

हर महीने ब्याज – Monthly  Income Scheme ( MIS )

 

—  इस प्रकार के खाते में एक मुश्त राशि जमा करा सकते है। इस राशि पर पोस्ट ऑफिस नियमानुसार हर महीने ब्याज देता है।

—  यह खाता खुलवाने के लिए 1500 रुपये और इसके गुणांक में राशि जमा करा सकते हैं।

—  इस प्रकार के खाते में एक नाम से खाता खुलवाते हैं तो अधिकतम 4 .5 लाख और दो लोगों के जॉइंट नाम से खाता खुलवाते है तो

अधिकतम 9 लाख जमा करा सकते हैं।

— एक से दूसरे पोस्ट ऑफिस में खाता ट्रांसफर किया जा सकता है। बच्चों के नाम से खाता खुलवाया जा सकता है 10 साल की उम्र के बाद

बच्चे खुद खाता संभाल सकते हैं।

—  यह खाता पांच साल के लिए खोला जाता है।

—  इसका ब्याज हर महीने अपने आप Automatic बचत खाते में जमा करवाया जा सकता है। जिसे अपनी सुविधा नुसार निकाल सकते हैं।

इस खाते को पांच साल से पहले तुड़वाया जा सकता है लेकिन ऐसे में कुछ राशि काट कर भुगतान किया जाता है।

 

1 जुलाई 2017 से ब्याज की दर 7 .5 % प्रति वर्ष है। पहले इस खाते की अवधि पूरी होने पर बोनस दिया जाता था जो अब बंद हो चूका है।

 

पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड -Public Provident Fund

 

—  यह खाता 15 वर्ष के लिए खोला जाता है। लेकिन 15 वर्ष पूरे होने पर इसे आगे और पांच वर्ष के लिए बढ़ाया जा सकता है।

—  इस खाते में एक साल में कम से कम 500/-  रूपये और अधिकतम  1,50,000 /- कराये जा सकते हैं।

—  यह राशि एक साथ या  12 किश्तों में जमा करा सकते हैं।

—  खाता 100 रूपये से खुलवा सकते है लेकिन हर साल कम से कम 500 /- रूपये जमा कराना जरुरी होता है।

—  दो नाम का जॉइंट खाता खुलवाया जा सकता है।

—  खाता एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे पोस्ट ऑफिस में ट्रांसफर करा सकते है।

—  यह खाता 15 साल से पहले बंद नहीं किया जा सकता।

—  इस खाते में से 7 वर्ष के बाद पैसे निकाले जा सकते हैं ।

—  तीन साल के बाद जमा राशि में से लोन लिया जा सकता है।

—  15 वर्ष पूरे होने पर जमा राशि को बिना आगे बढ़ाये या बिना अतिरिक्त राशि जमा कराये रखा जा सकता है।

—  इसके ब्याज की राशि पर इनकम टेक्स नहीं लगता तथा जमा कराई गई राशि पर भी इनकम टेक्स में नियमानुसा 80 C की छूट मिलती है।

 

1 जुलाई 2017 से ब्याज की दर – 7.8 % प्रति वर्ष ( चक्रवृद्धि ब्याज  )

 

सुकन्या समृद्धि खाता – Sukanya Samridddhi Account

 

—  यह खाता माता पिता या अभिभावक Guardian लड़की के नाम से खुला सकते हैं। लड़की की उम्र दस साल से कम होनी चाहिए।

—  अभिभावक एक लड़की के नाम से एक ही खाता खुलवा सकते है। ज्यादा से ज्यादा दो लड़कियों के नाम से खाता खुलवा सकते हैं।

—  इस खाते में एक साल में कम से कम 1000/- और अधिकतम  1,50,000/- रूपये जमा कराये जा सकते हैं।

—  यदि किसी साल में 1000/- रूपये जमा नहीं किये जाते खाता बंद हो जाता है जिसे अतिरिक्त 50 रूपये और खाते की राशि जमा करवाकर

वापस चालू कराया जा सकता है।

—  जब लड़की 18 साल की हो जाये तब खाते में जमा कुल राशि में से आधी राशि निकाली जा सकती है।

—  लड़की के 21 वर्ष की होने पर खाता बंद करवाया जा सकता है।

—  यदि 18 वर्ष की होने पर लड़की की शादी हो जाती है तो खाता पहले भी बंद कराया जा सकता है।

—  इस खाते में एक मुश्त या कभी भी 100/-  के गुणांक में जमा कराई जा सकती है। इस खाते में पैसे कितनी भी बार डाले जा सकते हैं।

ब्याज की दर 1 जुलाई 2017 से 8.3 % प्रति वर्ष है। यह चक्रवृद्धि ब्याज होता है।

 

इनके अलावा पोस्ट ऑफिस में NSC , किसान विकास पत्र , फिक्स डिपाजिट , सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम आदि अन्य खाते खोलने की

सुविधा भी होती है। सभी खातों में नामांकरण Nomination की सुविधा उपलब्ध होती है। इनकम टेक्स के नियम लागु होते हैं।

समय के अनुसार नियमों तथा ब्याज दरों में बदलाव हो सकता है।

इस लेख का उद्देश्य जानकारी देना मात्र है। कृपया विशेषज्ञ की सलाह तथा पोस्ट ऑफिस से अन्य जानकारी लेकर निवेश करें।

इसके अलावा अन्य जानकारी पोस्ट ऑफिस की वेबसाइट पर भी जानकारी उपलब्ध है।

 

क्लीक करके इन्हे  जानें और लाभ उठायें।

 

इंटरनेट के माध्यम से राशि का लेन देन तथा NEFT , RTGS , IMPS  में फर्क

हेल्थ इंश्योरेंस कराने से पहले ये जरूर जान लें 

हाउसिंग लोन लेते समय क्या ध्यान रखें  

एसआईपी SIP क्या होती है और कैसे शुरू करते है

म्युचुअल फंड को जानें सरल हिंदी में 

शेयर बाजार में निवेश करना चाहिए या नहीं 

बिजली का बिल कम कैसे करें 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *