स्वाइन फ्लू के घरेलु नुस्खे – SWINE FLU ke garelu nuskhe in hindi

27

स्वाइन फ्लू  Swine Flu एक तीव्र संक्रामक रोग है जो एच-1 एन -1 वायरस के द्वारा होता है, जिसके लक्षण सामान्य सर्दी जुकाम जैसे ही होते है।  इसमें गले में खराश , नाक बहना या बंद होना , बुखार , सिरदर्द , शरीर में दर्द , ठंड लगना , पेट में दर्द , कभी-कभी दस्त व उल्टी आदि।

संक्रमित व्यक्ति के खांसने या उसे छींक आने से निकले द्रव की बूंदों से ये फैलता है।  इन्फेक्शन लगने पर एक से सात दिनों में लक्षण उत्पन्न हो जाते है। swine flu ke gharelu nuskhe अपनाने से बहुत लाभ होता है जानिये इनके बारे में।

कृपया ध्यान दे : किसी भी लाल रंग से लिखे शब्द पर क्लीक करके उसके बारे में विस्तार से जान सकते हैं 

swine flue

स्वाइन फ्लू के घरेलु  नुस्खे – Swine Flu ke Gharelu nuskhe

—  दो कप पानी में दस पत्ते तुलसी , दस पत्ते पुदीना , दस साबुत काली मिर्च , एक लौंग , एक छोटा टुकड़ा दालचीनी और एक पीपल डालकर उबालें। एक कप रह जाये तब ठंडा करके छानकर पियें। पांच दिन लगातार लेने से स्वयं फ्लू ठीक होता है।

—  डेढ़ कप पानी में तीन चार तुलसी के पत्ते , चार काली मिर्च , आधा चम्मच हल्दी पाउडर , अदरक , जीरा व थोड़ी चीनी डालकर पानी एक कप रह जाने तक उबालें फिर इसमें थोडा नींबू का रस डालकर गुनगुना सेवन करें . दिन में 2-3 बार ले सकते है।

—  अमृतधारा की दो बूँद रुमाल या रुई पर लगाकर  बार बार सूंघते रहें।अमृतधारा घर पर बनाने की विधि जानने के लिए यहाँ क्लीक करें

—  कपूर , इलायचीलौंग को पीसकर मिलाकर छोटी पोटली बनाकर सूंघते रहें। नाक गले और फेफड़ों को इन्फेक्शन से बचाने का उत्तम उपाय है।

—  तुलसी के तीन चार पत्ते रोज सुबह खाएं। तुलसी के पत्ते इन्फेक्शन से बचाते है। फेफड़ों और गले को ठीक रखने में मदद करते है।

—   ताजा गिलोय का रस चार चम्मच रोज पियें। गिलोय का काढ़ा बनाकर भी पी सकते है।

गिलोय काढ़ा बनाने की विधि इस प्रकार है :-

गिलोय बेल की एक फुट लम्बी डंडी के टुकड़े और पांच तुलसी के पत्ते दो गिलास पानी में डाल कर उबालें। आधा रह जाने पर थोड़ा ठंडा हो जाये तब छान लें। इसमें सेंधा नमक और काली मिर्च डाल कर गुनगुना पी लें। दिन में एक बार लेने से इम्युनिटी बढ़ती है। बहुत फायदेमंद है।

—  दिन में तीन बार नाक में तिल के तेल की दो दो बूँद डाले।

—  ग्वारपाठा ( Aloe vera ) का गूदा एक चम्मच रोज ले। ये इम्युनिटी बढ़ाता है और जाइंट्स के दर्द में आराम दिलाता है।

—  आंवले का रोजाना किसी भी रूप में सेवन करें। आंवले से भरपूर विटामिन “C ” मिलता है जो आपको हर प्रकार के इन्फेक्शन से बचाता है।

—  अपने हाथ बार बार साबुन से अच्छे से धोएँ। विशेष कर यदि आप घर से बाहर जाकर आये हों। हाथों के माध्यम से इन्फेक्शन लगने की सम्भावना ज्यादा होती है।

इनमे से जो भी उपाय कर सकते है आपको करने चाहिए। इन swine flu ke gharelu upay  से आप अवश्य ठीक रह पाएँगे।

इन उपायों से आराम नहीं आए तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें .

 

क्लिक करके इन्हे भी जानें और लाभ उठायें :

 

डेंगू बुखार में पपीते की पत्ती व कालमेघ  

पीलिया का उपचार पीपल से 

मुँह के छालों का घरेलु इलाज 

डिप्रेशन अवसाद के कारण और उपाय 

मस्से वार्ट के घरेलु उपचार 

मुँह की बदबू कैसे मिटायें 

नाभि धरण ठीक करने के तरीका 

पीसीओडी और अनियमित मासिक धर्म 

माहवारी मासिक धर्म का महत्त्व 

अनिद्रा दूर करने के घरेलु उपचार 

हिचकी रोकने के उपाय 

पित्ती का घरेलु इलाज

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here